पर्व कौर ब्रिटेन की पहली महिला ढोल वादक हैं. उन्होंने एक दिलचस्प व लंबा सफर तय किया है. प्रवासी पंजाबी परिवार से मिले संगीत के गुर और भारतीय परवरिश में लड़कियों के लिए खास नजरिए के बीच उन्होंने जिस तरह रुकावटों को ठोकर मारी वो समाज, परिवार और लिंग आधारित बहस के लिए खास मायने रखता है.  

पर्व कौर
Source: navodayatimes

पिछले 22 सालों में इटर्नल ताल ने ब्रिटेन समेत दुनिया के कई दूसरे देशों में अपने ढोल की थापों पर लोगों को झुमाया है. पर्व कौर ने न सिर्फ भंगड़े की धुनों पर ढोल बजाया बल्कि उसमें कई तरह के नए प्रयोग और संस्कृतियों का समावेश किया है. इटर्नल ताल में पर्व के अलावा कई और लड़कियां हैं जिन्होंने कई मंचों पर अपना हुनर पेश किया है.  

पिता की विरासत 

संगीत पर्व कौर के खून में है, ये कहना अतिश्योक्ति नहीं है क्योंकि उनके पिता बलबीर भुजंगी खुद 50 बरस से ज्यादा समय तक भुजंगी भंगड़ा बैंड चलाते रहे हैं. ये ब्रिटेन का सबसे पुराना भंगड़ा बैंड है और पर्व कौर की संगीत यात्रा की जमीन इसी बैंड के संगीत कार्यक्रमों से तैयार हुई.

Source: staticflickr

पर्व कहती हैं, 'मेरी मां की प्राथमिकताएं काफी साफ थीं कि मुझे पढ़ाई करनी चाहिए और खाना पकाना सीख लेना चाहिए ताकि शादी हो सके. मैं पापा के साथ जब बैंड के कार्यक्रमों में जाना चाहती तो मां कहती कि इसकी पढ़ाई कैसे होगी लेकिन पापा फिर भी मुझे अपने साथ ले ही जाते. उनको लगता था कि मैं लड़की हूं धीरे-धीरे अपने आप पीछे हट जाउंगी लेकिन वही नहीं हुआ.' 

पिता के साथ कार्यक्रमों में शिरकत करने से पर्व कौर का रूझान गायकी के बजाय ढोल में पैदा होने की वजह का जिक्र करते हुए वह बताती हैं कि ढोल बजाने वाले उन कार्यक्रमों का सबसे बड़ा आकर्षण हुआ करते थे.  

वह कहती हैं, 'भीड़ उनकी थापों पर थिरकती, सीटियां बजाती तो मुझे लगा कि असली मजा तो ढोल बजाने वाले का ही है, गायक को तो सिर्फ अपने माइक और सुरों का साथ है, ढोल वाले तो मस्त हीरो होते हैं.' भुजंगी बैंड का पारिवारिक माहौल होने की वजह से पर्व को मर्दों के भुजंगी बैंड में पीछे कहीं खड़े होकर ढोल बजाने के मौके मिलने लगे और यहां से एक युवा लड़की के सपनों को नई दिशा मिली.  

Dhol
Source: englishtribuneimages

इटर्नल ताल की शुरुआत 

छोटी उम्र में संगीत भरे माहौल से गहरे संबंध का नतीजा ये रहा कि मंच, संगीत और झूमते लोगों के आकर्षण से बंधी पर्व इसी में अपना भविष्य तलाशने लगीं. वह बताती हैं, 'मैंने अपने पिता से पूछा कि बैंड में कोई भी लड़की क्यों नहीं है तो उनका जवाब था कि लड़की इस शोर-शराबे के माहौल में क्या करेगी. उन्हें अच्छी नजर से नहीं देखा जाएगा. बस मैंने सोच लिया कि अगर पापा कर सकते हैं तो मैं क्यों नहीं. लेकिन मुझे पता था कि अकेले कुछ करना मुमकिन नहीं होगा और इस तरह इटर्नल ताल की नींव पड़ी.'

उन्होंने बर्मिंगम में अपने रिहायशी इलाके में दुकानों, कैफे, कॉलेजों वगैरह में बैंड के पोस्टर चस्पा किए और धीरे-धीरे लोगों को जोड़ा. जब इटर्नल ताल की शुरुआत हुई तो पर्व के साथी बने उनके कॉलेज के दो लड़के-लड़कियां भी बैंड के शुरुआती दिनों से जुड़ती रहीं लेकिन कोई भी टिक कर लंबे समय तक बैंड का सदस्य नहीं बन पाया क्योंकि जिंदगी की तमाम प्राथमिकताओं के बीच ढोल के लिए समय निकालने में उन्हें मुश्किलें आती थीं.  

parv kaur dhol player
Source: easterneye

हालांकि बैंड शुरू होने के करीब एक दशक बाद स्थितियों में बदलाव साफ दिखने लगा जब लड़कियां की बैंड में मौजूदगी इटर्नल ताल के लिए आकर्षण का कारण बनने लगी. लोग सिर्फ लड़कियों की टीम को कार्यक्रमों में बुलाने लगे. साल 2019 में बैंड से जुड़ने वाली सैंडी कहती हैं, 'एक चैरिटी कार्यक्रम के दौरान जब मेरी मुलाकात पर्व से हुई और बैंड के बारे में मुझे पता चला तो मुझे लगा कि ये कितना खूबसूरत तरीका है लोगों को खुशियां देने का. आप मंच पर खड़े होते हैं और अपने ढोल के थापों से कुछ पल के लिए लोगों को सुकून दे सकते हैं. एक बार स्कॉटलैंड में पुलिस से जुड़े कार्यक्रम में हमें बुलाया गया था. सोचिए कितनी अलग ऑडियंस थी लेकिन जब हमने बजाना शुरू किया तो लोग बस हमारी ओर खिंचते चले आ रहे थे.'

बैंड की खास बात ये भी है कि भांगड़ा संगीत का आधार लेते हुए भी पर्व कौर ने इसे ब्रिटेन के विविधता भरे समाज के मुताबिक बनाया. इटर्नल बैंड ने ढोल पर अंग्रेजी और दूसरी भाषाओं की धुनों के साथ जुगलबंदी के जरिए इस वाद्य यंत्र को एक नया संदर्भ दिया है. पर्व कौर ढोल को फिटनेस से जोड़ने का दिलचस्प काम भी कर रही हैं.  

जेंडर, चुनौतियां और जिद

इटर्नल बैंड का दो दशक का सफर, अगर ढोल के साथ प्रयोग का सफर है तो एक लड़की के सामजिक रवायतों और बंधनों से आगे निकलने की कहानी भी है. ढोल बजाना हमेशा से मर्दों का काम रहा है और पर्व कौर ने इस क्षेत्र में कदम रखकर उस वर्चस्व को चुनौती दी.   

वे कहती हैं, 'शुरू में जब हम जाते कार्यक्रम करने तो दूसरे बैंड में काम करने वाले साथी मर्दों की टेढ़ी निगाहों से सामना आम बात थी लेकिन वो मुझे रोक नहीं सकती थीं. कई बार हमारे माइक की तार निकाल दी जाती. कई बार ऐसा भी हुआ है कि किसी कार्यक्रम में हमारी महिला बैंड टीम को बुक किया गया और वहां सुनने को मिला कि लड़कियां ठीक हैं लेकिन मर्दों वाली बात नहीं है. ये सब बहुत हुआ लेकिन मुझे पता था कि मैं क्या कर रही हूं.'

इटर्नल बैंड से 2009 में जुड़ने वाली संगीता कोहली के अनुभव भी कुछ इसी तरह के रहे हैं. उन्होने बातचीत में बताया, 'मेरा संगीत से लंबा रिश्ता रहा है. ढोल बजाने की शुरूआत मैंने करीब 2006 में की लेकिन जब लोग कार्यक्रमों के लिए हमेशा लड़कों को बुक करते तो मुझे लगा कि इसमें कुछ नहीं होगा. बाद में जब पर्व से मेरी बातचीत हुई और उन्होने मुझे आगे सीखने के लिए कहा तो मुझे लगा कि जब पर्व कर सकती हैं तो शायद मैं भी कर सकती हूं. अब दस साल का साथ हो गया है और तस्वीर बदल गई है. हमें मर्दों के मुकाबले ज्यादा मौके मिलने लगे हैं.'

Dhol Band
Source: yourstory

ढोल बजाने में जहां सामाजिक नजरिए ने औरतों को रोका वहीं शायद इसका एक कारण शारीरिक भी रहा है. तकरीबन 12 किलो का एक ढोल कंधे पर उठाकर दो-तीन घंटे तक बजाने के लिए मानसिक और शारीरिक तैयारी चाहिए. इसके मौके महिलाओं के नहीं दिए गए क्योंकि उनकी परंपरागत पारिवारिक भूमिका में इस शारीरिक तैयारी की जगह नहीं रही है.   

पर्व कौर और उनका इटर्नल बैंड ब्रिटिश-पंजाबी संगीत के आधुनिक इतिहास का वो हिस्सा हैं जिसकी जड़े भारतीय सांस्कृतिक परंपरा में भी हैं और परंपराओं को तोड़ने वाली ऊर्जा से भरी एक युवा लड़की के जुनून और जिद में भी.

Source: DW