Success Story Of JetSetGo Founder Kanika Tekriwal: अगर हौसला हो तो ज़मीन ही नहीं, आसमान भी आप अपनी मुट्ठी में कर सकते हैं. हिम्मत और मेहनत से लाइफ़ में हर मुक़ाम हासिल किया जा सकता है. JetSetGo की फ़ाउंडर कनिका टेकरीवाल (Kanika Tekriwal) इस बात का जीता-जागता उदाहरण हैं. 21 साल की उम्र में उन्होंने कैंसर जैसी बीमारी को मात दी थी. इसके बाद 22 साल की उम्र में एक एविएशन बेस्ड स्टार्टअप (Aviation Based Startup) शुरू किया और 32 साल की उम्र में उनके पास 10 प्राइवेट जेट हैं. आज हम आपको इस सशक्त महिला की सफ़लता की कहानी बताने जा रहे हैं.

Kanika Tekriwal
Source: indiatimes

ये भी पढ़ें: ग़रीबी ने महिला से बनवाया ‘खाखरा’, स्वाद ने बना दिया देश का मशहूर ब्रांड

कौन हैं कनिका टेकरीवाल?

कनिका टेकरीवाल (Kanika Tekriwal) ने साउथ इंडिया से अपनी स्कूलिंग की और फिर मुंंबई में इकोनॉमिक्स में अंडर ग्रेजुएशन और डिज़ाइन में डिप्लोमा किया. मारवाड़ी परिवार में जन्मी कनिका MBA ग्रेजुएट हैं. उनके पिता रियल एस्टेट और केमिकल का कारोबार करते थे.

 JetSetGo
Source: indiatimes

Success Story Of JetSetGo Founder Kanika Tekriwal

JetSetGo की जर्नी साल 2012 में शुरू हुई थी. ये कंपनी एक प्लेन एग्रीगेटर है, जो ओनर्स के लिए प्लेन्स को संचालित करती है, मैनेज करती है और उड़ाती है. साथ ही, कंपनी प्राइवेट जेट और हेलीकॉप्टर्स को लोगों को किराए पर मुहैया कराती है. कनिका, JetSetGo को 'आसमान की उबर' भी कहती हैं.

कनिका कहती हैं, 'मेरे दिमाग़ में ये आइडिया 3 साल तक चलता रहा. लेकिन जब मैंने अपना स्केच बोर्ड निकाला और उस पर काम करना शुरू किया, तो मुझे कैंसर का पता चला. इस वजह से थोड़ा लेट हो गया. शुक्र इस बात का है जब तक मैं ठीक हुई, तब तक देश में किसी दूसरे ने ऐसा कुछ शुरू नहीं किया.'

​क्या करती है JetSetGo?

Aviation Based Startup
Source: indiatimes

ये स्टार्टअप भारतभर में चार्टर्ड एयरक्रा़फ्ट्स और हेलीकॉप्टर्स उपलब्ध कराता है. ये इलेक्ट्रिक वर्टिकल टेक-ऑफ़ और लैंडिंग (eVTOL) एयरक्राफ्ट का उपयोग करके भारत में इंट्रा-सिटी कनेक्टिविटी के साथ एयर टैक्सियों में अग्रणी है. ये मिक्स टेक्नोलॉजी, यूनिक मेनटेनेंस और स्मार्ट मैनेजमेंट का यूज़ करती है. इससे मेनटेनेंस कॉस्ट कम होती है. एयरटाइम बढ़ता है और ग्राउंड टाइम में कमी आती है. इससे लाभ तो बढ़ता ही है साथ में चार्टर्ड विमानों की लागत काफी हद तक कम हो जाती है.

कैसे आया एविएशन बेस्ड स्टार्टअप शुरू करने का विचार?

कनिका ने जब एविएशन इंडस्ट्री में रिसर्च की तो उन्हें पता चला कि निजी तौर पर चार्टर्ड विमानों का उद्योग दलालों और ऑपरेटरों से भरा हुआ है. जो कोई भी निजी जेट का उपयोग करना चाहता है, उसे किसी दलाल या निजी ऑपरेटर से संपर्क करना होगा, जो जेट या हेलीकॉप्टर की सिफ़ारिश करेगा और बदले में बड़ा कमीशन हथिया लेगा.

Kanika
Source: femina

Success Story Of JetSetGo Founder Kanika Tekriwal

कनिका ऐसे कई लोगों से मिलीं, जिनका कहना था कि भारत में प्राइवेट जेट बुकिंग अनुभव बेहद खराब रहा. साथ ही, कई प्राइवेट जेट ओनर ऐसे भी थे, जो बढ़ती कॉस्ट, नियमित मेनटेनेंस और अन्य परेशानियों के चलते अपने प्लेन बेच रहे थे. ऐसे में कनिका ने ट्रांसपेरेंसी लाने और चार्टेड प्लेन मुहैया कराने के लिए JetSetGo की शुरुआत की. 

'स्मार्ट' प्रबंधन तकनीक, मेनटेनेंस प्रिविंशेन और पूर्वानुमान टेक्नोलॉजी के साथ JetSetGo सेफ़्टी और ऑनटाइम अराइवल की पेशकश करता है. कनिका चार्टड एयर ट्रैवल को फ़्यूचर का ट्रांसपोर्ट बनाना चाहती हैं.

कनिका ने ये बिज़नेस 22 की उम्र में शुरू किया था और आज 32 साल की उम्र में वो 10 प्राइवेट जेट्स की मालकिन हैं.