जैसे-जैसे समाज बदलता है, फ़ैशन भी बदल जाता है. मग़र बहुत कम ऐसा होता है, जब फ़ैशन अपने साथ समाज की सोच को भी बदलकर रख दे. मशहूर डिज़ाइनर कोको शनैल कुछ ऐसी ही फ़ैशन की झंडाबरदार थीं. 

coco chanel
Source: amazonaws

आज की पीढ़ी शायद शनैल को सबसे ज्यादा सिर्फ़ परफ़्यूम के लिए ही जानती है लेकिन शनैल वो शख़्स थीं जिन्होंने पश्चिमी फ़ैशन में क्रांति ला दी थी. शैनल ने सिर्फ़ कपड़े ही नहीं, बल्कि जूतों से लेकर हैंडबैग और जूलरी तक सब बदल कर रख दिया. 

perfume
Source: independent

महिलाओं को पहनाई पैंट्स

उनकी सबसे बड़ी सफ़लता थी 'लिटल ब्लैक ड्रेस', एक सीधी शालीन सी काले रंग की ड्रेस जो आज के लिए बिलकुल भी ख़ास नहीं है लेकिन जिस जमाने में शनैल ने इसे पेश किया था उस ज़माने में ये फ़ेमिनिस्ट मूवमेंट की निशानी बन गई थी.  

fashion
Source: factinate

ये वो वक़्त था, जब पश्चिमी जगत में महिलाएं बड़ी बड़ी ड्रेस पहना करती थीं जिनमें वे तंग कॉर्सेट के अंदर कैद होती थीं. फ्रांस की शनैल ने उन्हें इस कैद से छुड़वाया और महिलाओं के लिए पुरुषों जैसे लिबास बनाए. शनैल की ही बदौलत आज महिलाएं पतलून पहनती हैं. 

अनाथालय से फ़ाइव स्टार होटल तक का सफ़र

फ़्रांस के Saumur में जन्मी शैनल का शुरुआती जीवन अनाथालय में बीता. उस वक़्त किसी को ये अंदाज़ा नहीं था कि ये बच्ची आगे चलकर फैशन की दुनिया में क्रांति लाने वाली थी. शैनल ने धीरे-धीरे फ़ैशन इंडस्ट्री में अपना नाम कमाना शुरू कर दिया था. जब उनके हालात ठीक हुए तो उन्होंने 1937 में होटल रिट्स में रहना शुरू कर दिया. 

life story
Source: minutemediacdn

फैशन जगत में इतनी बड़ी क्रांति लाने वाली शनैल के जीवन में एक काला अध्याय भी था. फ्रांस में कई लोगों का मानना था कि दूसरे विश्व युद्ध के दौरान उन्होंने नाजियों का साथ दिया. फ्रांस में शनैल जितनी लोकप्रिय रहीं, उतनी ही विवादों में भी घिरी रहीं. इसी कारण वे फ्रांस छोड़ कर स्विट्जरलैंड में जा कर रहने लगीं. 

हालांकि, वो बाद में वापस भी लौटीं. उन्होंने 1971 में 87 साल की उम्र में अपनी आंखिरी सांस उसी होटल में ली, जहां उन्होंने 35 साल गुज़ारे थे. अपने आंखिरी वक़्त में भी शलैन एक कलेक्शन को पूरा करने में लगी थीं. आखिरी बार उनके स्टाफ ने उन्हें एक दिन पहले देखा था जब वे देखने आई थीं कि उनके डिजाइन किए कपड़े ठीक से बने हैं या नहीं.

ये भी पढ़ें: घड़ी डिटर्जेंट: कानपुर का वो ब्रांड जिसे दो भाईयों की मेहनत ने पूरी दुनिया में मशहूर कर दिया

coco
Source: myhero

अंतिम संस्कार में भारी भीड़ जुटी थी

मौत से पहले वे कह गईं थी कि उनके कमरे में कोई ना आए. बस उनकी बहन के बच्चों को मृत शरीर को देखने की इजाज़त दी गई. उनके स्टाफ़ का कहना था कि अपने आखिरी दिनों में उन्होंने इतनी जल्दबाजी में कलेक्शन का सारा काम कराया जैसे वे जानती हों कि उनका वक़्त करीब ही है और जाने से पहले वे सारा काम खत्म करना चाहती थीं.  

life journey
Source: forbes

तीन दिन बाद 13 जनवरी को उनके अंतिम संस्कार के लिए पेरिस के चर्च के बाहर खूब भीड़ जमा हुई. उनके सभी 250 कर्मचारियों के अलावा, फैशन जगत के सभी बड़े नाम वहां मौजूद थे. उनके बाद मशहूर जर्मन डिजाइनर कार्ल लागरफेल्ड ने उनका काम संभाला और उनकी कंपनी को 100 अरब डॉलर की कंपनी में तब्दील किया.  

कोको शनैल ने अपनी जिंदगी के शुरुआती साल अनाथालय में बिताए थे. वहां से फाइव स्टार तक का उनका सफ़र किसी परीकथा जैसा है. ना केवल उन्होंने महिलाओं को पतलून पहनना सिखाया, बल्कि बालों को छोटा काटना भी. फैशन में रिस्क लेने से और जिंदगी में बंदिशों को तोड़ने से वे कभी पीछे नहीं हटीं.   

Source: DW