उम्मीद की किरण वाला मुहावरा तो आपने सुना ही होगा. आज हम आपको हज़ारों ज़रूरतमंद लड़कियों के लिए उम्मीद की किरण बन चुकी ऐसी ही एक महिला से मिलवाएंगे. ये दिल्ली पुलिस में सब-इंस्पेक्टर हैं, लोगों के बीच लेडी सिंघम के नाम से फ़ेमस हैं और महिलाओं के लिए वो किसी मसीहा से कम नहीं हैं.

बात हो रही है दिल्ली पुलिस के जीबी रोड थाने में तैनात सब-इंस्पेक्टर किरण सेठी की. उनकी वजह से आज दिल्ली की बदनाम गलियों में रहने वाली औरतों की ज़िंदगी संवर रही है.

Sub-inspector Kiran Sethi
Source: thehindu

2019 में किरण सेठी का इस थाने में ट्रांसफ़र हुआ था. तभी से ही उन्होंने अपराधियों और अपराध का इलाके से सफ़ाया करना शुरू कर दिया था. वो ऐसी पुलिस ऑफ़िसर हैं जो सिर्फ़ ऑफ़िस के समय ही लोगों की मदद नहीं करतीं, बल्कि उससे आगे जाकर कभी भी कैसे भी 24 घंटे लोगों की मदद करने को तैयार रहती हैं. 

Sub-inspector Kiran Sethi
Source: twitter

कोरोनाकाल में जब जीबी रोड की सेक्स वर्कर्स पर विपदा आन पड़ी तो सेठी जी ने ही उनका हाथ थामा था. उन्होंने उनके चेकअप के लिए डॉक्टर्स अरेंज किए. उन्हें आत्मरक्षा के गुर सिखाए. साथ ही योगा सेशन का भी आयोजन किया.

Sub-inspector Kiran Sethi
Source: samagrabharat

यही नहीं जब उन्हें पता चला कि एक बच्ची जो इस दलदल में फंस गई है और उसका सपना डॉक्टर बनना है तो उन्होंने उसे यहां से निकाला. अब वो चाइल्ड वेल्फ़ेयर कमेटी में रहकर पढ़ रही है और अपने सपने को साकार करने में जुटी है. 

Sub-inspector Kiran Sethi
Source: wikipedia

इन सब के अलावा सेठी जी इन सेक्स वर्कर्स के बच्चों की स्कूल फ़ीस भी भर रही हैं, वो भी अपनी कमाई से. वो कहती हैं- 'ये बच्चे हमारे देश का भविष्य हैं. देश के भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए इनका ख़्याल रखना बहुत ज़रूरी है.'  

Sub-inspector Kiran Sethi
Source: twitter

किरण सेठी ने जूडो में ब्लैक बेल्ट हासिल की है. वो अब तक 6 लाख से अधिक लड़कियों को आत्मरक्षा के गुर सिखा चुकी हैं. इनमें दिव्यांग लड़कियां भी शामिल हैं. 2015 में महिला दिवस के अवसर पर पूर्व गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने उन्हें 5000 हज़ार लड़कियों को सेल्फ़ डिफ़ेंस की ट्रेनिंग देने के लिए सम्मानित भी किया था.

Sub-inspector Kiran Sethi
Source: dailymotion

सेठी जी कहती हैं आत्मरक्षा भी ज़रूरी है. इससे महिलाओं को आत्मबल मिलता है कि वो वक़्त आने पर अपनी रक्षा ख़ुद कर सकती हैं. जब भी सेठी जी की तारीफ़ की जाती है तो वो विनम्रता से कहती हैं कि उनके सीनियर्स ने उनका पूरा साथ दिया है. अगर वो न होते तो शायद वो ये सब कभी नहीं कर पातीं.

सेठी जी को हमारी टीम की तरफ से दिल से सलाम है.