घर को अच्छे से चलाने वाली महिला किसी भी कार्य को आसानी से कर सकती है. इसका उदाहरण आप अपने आस-पास भी देख चुके होंगे. एक उदाहरण आप यहां क्लिक कर पढ़ सकते हैं.

महिला सशक्तिकरण का ऐसा ही एक उदाहरण जयपुर का एक रेलवे स्टेशन है, जो तक़रीबन 3 सालों से केवल महिला कर्मचारियों द्वारा ही संचालित किया जा रहा है.

gandhi nagar railway station

बात हो रही है जयपुर-दिल्ली रूट के मशहूर रेलवे स्टेशन गांधीनगर की. यहां स्टेशन मास्टर से लेकर सफ़ाई कर्मचारी तक का कार्य महिलाएं संभाल रही हैं. फ़िलहाल इस रेलवे स्टेशन पर 40 कर्मचारी हैं और ये सभी महिलाएं हैं.

station master railway
Source: quora

गांधीनगर देश का पहला मेन स्टेशन है जो महिला कर्मचारियों द्वारा संचालित किया जा रहा है. इसे फ़रवरी 2018 में पूरी तरह से उत्तर पश्चिम रेलवे ने महिलाओं को सौंपा था. इससे पहले ये रिकॉर्ड माटुंगा रेलवे स्टेशन के नाम था, लेकिन वो एक उप-नगरीय रेलवे स्टेशन है.

railway station ladies
Source: zeenews

गांधीनगर रेलवे स्टेशन से रोज़ाना लगभग 50 ट्रेन्स गुज़रती हैं. यहां से प्रतिदिन क़रीब 7,000 यात्री सफ़र करते हैं. इन्हें संभालना आसान बात नहीं. बेहतर संचालन के लिए यहां पर सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं.

railway station master ladies
Source: liveuttarpradesh

आरपीएफ़ का स्टॉफ़ भी महिला कर्मचारियों का है. इसके अलावा यहां पैड वेंडिंग मशीन भी लगाई गई है. सभी कर्मचारी दिन-रात 8 घंटे की शिफ़्ट में काम करती हैं. इन्होंने बेहतर तालमेल के लिए एक 'सखी' नाम का व्हाट्सएप ग्रुप भी बना रखा है. 

Source: yashbharat

ये रेलवे स्टेशन महिला सशक्तिकरण का बेहतरीन उदाहरण है. उम्मीद है देश के दूसरे रेलवे स्टेशन भी इस तरह की नज़ीर पेश करने की कोशिश करेंगे.