योगी आदित्यनाथ के सीएम बनते ही यूपी की काया पलट होने लगी है. सीएम की कुर्सी संभालते ही योगी ने धोखाधड़ी और अपराध करने वाले लोगों पर लगाम कसनी शुरू कर दी है. उत्तरप्रेदश की राजधानी लखनऊ में लोगों पर सीएम के एक्शन का असर देखने को मिला, यहां रातों-रात अचानक से कई पेट्रोल पंप गायब हो गए.

वाकई सभी के लिए ये ख़बर चौंकाने वाली है. लखनऊ में पेट्रोल पम्पों पर चल रही धांधली के खेल में एक बार फिर सोमवार को STF (स्पेशल टास्क फ़ोर्स) ने 10 से अधिक पेट्रोल पम्पों पर छापेमारी की. इस दौरान पेट्रोल पंप संचालकों द्वारा रिमोट और चिप के ज़रिए ईधन चोरी करने की बात सामने आई है.

Image Source : indianexpress

जब आप पेट्रोल पंप पर गाड़ी में पेट्रोल भरनावे जाते हैं, तो आपसे पेट्रोल की पूरी कीमत वसूली जाती है और बदले में आपको कम पेट्रोल दिया जाता है. मतलब आपके साथ धोखाधड़ी की जाती है और आपको पता भी नहीं चलता.

इसी सिलसिले में बीते रविवार को कई कई पेट्रोल पंपों पर छापा मारा गया, लेकिन जब STF की टीम एक पेट्रोल पंप पर छापा मारने पहुंची, तो वहां से पूरा पेट्रोल पंप ही गायब मिला. पंप मालिकों ने छापे से बचने के लिए पेट्रोल पंप की सारी डिस्पेंसिंग मशीनों को उखड़वाकर पेट्रोल पंप के पीछे रखवा दिया और सड़क पर एक बोर्ड लगा दिया कि पेट्रोल पंप का Under Renovation है.

Image Source : indiatoday

एसटीएफ़ की टीम ने जब उखाड़ी गई मशीनों की जांच कराई, तो उसमें तेल चोरी करने वाली चिप मिली. धोखाधड़ी के इस खेल में 20 लोगों को गिरफ़्तार कर लिया गया है. इन पेट्रोल पंपों से 15 इलेक्ट्रॉनिक चिप्स और 29 रिमोट कंट्रोल ज़ब्त किए गए हैं.

वहीं इस मामले में पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद प्रधान ने सख़्त कदम उठाते हुए, उत्तर् प्रदेश में सभी पेट्रोल पंपों का निराक्षण करने के आदेश दिए हैं. प्रधान ने कहा कि 'हमने संबंधित अधिकारियों के खिलाफ़ कार्रवाई की शुरुआत की है. दोषी पेट्रोल पंप के मालिकों के खिलाफ़ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी.'

Source : financialexpress