देश में बढ़ती आपराधिक घटनाएं देखने के बाद ऐसा लगता है कि लोगों के अंदर इंसानियत नाम की कोई चीज़ बची ही नहीं है. यहां पल भर में लोग किसी की भी जान ऐसे ले लेते हैं, जैसे जान नहीं बाज़ार से कोई सामान ले रहे हैं.

ताज़ा मामला दिल्ली के मंगोलपुरी इलाके का हैं. जहां घर के सामने शराब पीने से मना करना दो भाईयों को इतना भारी पड़ गया कि इसकी कीमत बड़े भाई को अपनी जान देकर चुकानी पड़ी और छोटे भाई को बुरी तरह जख़्मी होकर.

Image Source : edition

क्या है मामला

मंगोलीपुरी इलाके में रहने वाले तरुण और दुर्गेश के पिता घर के नीचे एक दुकान चलाते हैं. बीती गुरुवार रात उनकी दुकान के सामने एक युवक शराब पी रहा था. दुकान के सामने युवक को शराब पीता देख, तरुण और दुर्गेश के पिता ने आपत्ति जताई और युवक को वहां से जाने के लिए कहा. वहीं युवक को ये बात रास नहीं और वो अपने दो और साथियों के साथ मिलकर बदसलूकी पर उतर आया. लड़ाई-झगड़े की आवाज़ कानों में पहुंचते ही दोनों भाई बाहर निकल आए. वहीं जब दोनों भाइयों ने शराब पी रहे युवकों को वहां से जाने के लिए कहा, तो दोनों गुटों में कहासुनी शुरू हो गई. मामला इतना आगे बड़ गया कि युवकों ने चाकू और बेसबॉल के बैट से दोनों भाइयों पर हमला कर दिया और मौके से फ़रार हो गए.

तरुण और दुर्गेश को बुरी तरह घायल देख, स्थानीय लोग दोनों भाइयों को लेकर नज़दीक के अस्पताल पहुंचे. जहां डॉक्टर ने 26 वर्षीय तरुण को मृत घोषित कर दिया. वहीं दूसरी ओर दुर्गेश की हालत भी अभी नाज़ुक बनी हुई है.

Image Source : khabarindiatv
वारदात की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस अधिकारी ने कहा, 'हमने हत्या का मामला दर्ज कर लिया है, साथ ही हमने घटना में शामिल तीन आरोपियों में एक को गिरफ़्तार कर लिया है. अभियुक्त से हमारी पूछताछ ज़ारी है. आशा है कि जल्द ही बाकी दो आरोपी भी हमारी गिरफ़्त में होंगे.'
वारदात के बाद इलाके के लोगों ने हंगामा किया. गुस्साए लोगों ने डीटीसी की एक लो फ़्लोर बस के शीशे भी तोड़ दिए. स्थानीय लोगों का कहना है कि 'अंधेरे की आड़ में अकसर इलाके में ऐसी अवैध गतिविधियां चलती रहती हैं.'

कितनी अजीब बात है न कि हमें अपने ही देश, अपने ही शहर और अपने ही घर के आस-पास रहने के लिए दूसरों के मुताबिक चलता पड़ता है और अगर आप ऐसे लोगों के ख़िलाफ़ जाने की सोचते भी हैं, तो अंजाम आपके सामने है.

Source : hindustantimes