पूरी दुनिया अजूबों और चमत्कारों से भरी पड़ी है. दुनिया में कुल आठ अजूबे हैं. लगभग 5000 साल पुरानी मिश्र की सभ्यता के पिरामिड इन्हीं अजूबों में से एक हैं. वैसे देखा जाए तो मिस्र अपनी ममी, फराओ और पिरामिड के लिए विख्यात है. लेकिन यहां के इतिहास से जुड़ी अनेक कहानियां हैं, जो आज भी वैज्ञानिकों को आश्चर्यचकित करती हैं. लेकिन आज हम आपको प्राचीन सभ्यता के बारे में कुछ ऐसी जानकारियां बताने जा रहे हैं, जिनके बारे में बहुत ही कम लोग जानते होंगे.

1. मिस्र के निवासी बालों से करते थे नफ़रत.

Source: hubstatic

मिस्र सभ्यता के लोग बालों से बेइंतहा नफ़रत करते थे. बालों के प्रति उनकी नफ़रत इतनी थी कि जितनी दो दुश्मन भी आपस में नहीं करते होंगे. उनके मुताबिक, शरीर पर बाल होना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है. इसलिए वो लोग शरीर से हर तरह के बाल को साफ़ कर देते थे. मिस्र के लोगों की फोटोज़ में सिर पर जो बाल नज़र आते हैं, वो असली नहीं, बल्कि विग हैं. ये लोग विग को टोपी की तरह पहनते थे, वो भी सिर्फ़ इसलिए ताकि सूर्य की सीधी धूप उनके सिर पर न पड़े.

2. “मेक अप ” का बहुत चलन था इन लोगों में.

Source: amazonaws

मिस्र में मेकअप करना आवश्यक था. ये लोग सुरमा का प्रयोग ज़रूर करते थे. वो मानते थे कि हरा और काला सुरमा उन्हें सूर्य की किरणों, मक्खियों तथा हानिकारक संक्रमणों से बचाए रखता था. इसके अलावा ये सूर्यदेव (होरस) को श्रद्धांजलि और नमन करने का एक तरीका भी था.

3. महत्त्वपूर्ण था मुंह को साफ़ रखना.

Source: ytimg

इन लोगों के लिए दांतों को साफ़ रखना इतना महत्त्वपूर्ण था कि वो ममियों को टूथ पिक के साथ दफनाते थे. माना जाता है कि प्राचीन मिस्र के निवासियों ने ही एक तरह की टूथपेस्ट की शुरुआत की थी. इसे बनाने में वे बैल के खुरों का पाउडर, जले हुए अंडे की छाल तथा राख के मिश्रण का प्रयोग करते थे.

4. नौकरों को भी दफ़नाया जाता था राजाओं के साथ.

Source: wikimedia

ये बहुत ही अचंभित करने वाली बात है कि मिस्र में फराओ (राजाओं) के मरने के बाद उनके नौकरों को भी उनके साथ ज़िंदा दफ़ना दिया जाता था. पहले लोग नौकरों को सिर पर वार करके बेहोश कर देते थे और फिर दफ़ना देते थे.

5. मिस्र के अधिकतर निवासी ईसाई थे.

Source: wikimedia

माना जाता है कि सन् 400 से 800 के बीच मिस्र के ज़्यादातर लोग ईसाई धर्म के अनुयायी थे. लेकिन 10वीं सदी के मध्य में मुसलमानों के हमले के बाद बड़ी संख्या में लोगों का धर्म परिवर्तन हुआ और उन्होंने इस्लाम कबूल कर लिया. बाद में उनकी कॉप्टिक भाषा की जगह भी अरबी भाषा ने ले ली.

6. क्या आपको पता हैकि क्लियोपैट्रा मिस्र की नहीं थी?

Source: dreamstime

अलेक्जेंड्रिया में जन्मी हुई क्लियोपैट्रा यूनानी परिवार मक्लोडिया से ताल्लुक़ रखती थीं. क्लियोपैट्रा टॉलेमी वंश की पहली सदस्य थीं, जो कि मिस्र की भाषा बोल सकती थीं. लेकिन वो मिस्र वंश की नहीं थीं.

7. आज़ाद थीं प्राचीन मिस्र की महिलाएं.

Source: lolwot

पूरी दुनिया के विपरीत, मिस्र की महिलाएं जमीन खरीद सकती थीं, जज बन सकती थीं और अपनी वसीयत लिख सकती थीं. अगर वह बाहर काम करती थीं, तो उन्हें समान वेतन दिया जाता था. वह तलाक़ भी दे सकती थीं और फिर से शादी भी कर सकती थीं. वह शादी से पहले कॉन्ट्रैक्ट भी कर सकती थीं, जिसमें वह शादी में लाई गई वस्तुओं के बारे में अपने विचार रख सकती थीं.

8. मोटे होते थे मिस्र के फराओ.

Source: kinja

वैसे तो प्राचीन मिस्र के चित्रों में आपने देखा ही होगा कि यहां के फराओ पतले और तन्दुरुस्त होते थे, लेकिन ममियों के परीक्षण के बाद यह बात सामने आई कि फराओ की कमर चौड़ी होती थी. उनकी खुराक में शराब, शहद, बीयर तथा ब्रेड और अधिक चीनी वाले पदार्थ थे. उनमें से कई मधुमेह के शिकार भी थे.

9. दुनिया की पहली 'शांति संधि' का रिकॉर्ड मिस्र के पास है.

Source: aenigmaunveiled

200 सालों के बाद भी मिस्रवासियों और हित्तीट्स के बीच की लड़ाई का कोई नतीजा नहीं निकला. 1259 में दोनों राज्यों को एक-दूसरे से ख़तरा था. रामसेस और हततुसिलि-3 ने एक 'शांति संधि' की और यह वादा किया कि वह किसी भी तीसरे आक्रमणकारी के खिलाफ एक-दूसरे की मदद करेंगे.

10. गणित के ज्ञाता होते थे मिस्र निवासी.

Source: vacationstogotravel

मिस्र के निवासी गणित में काफी तेज होते थे. उनके द्वारा बनाई गई संरचनाओं से यह साबित होता है कि गणित और वास्तु कला में वो बहुत तेज़ और निपुण थे.

11. मिस्र के लोग अजीब शक्ल के लोगों को नौकरी पर रखते थे.

Source: arcedc

प्राचीन मिस्र में अगर कोई बौना पैदा होता था, तो उसको बहुत खुशकिस्मत माना जाता था, क्योंकि उसका बौनापन उसको आसानी से नौकरी दिला देता था. नौकरी भी ऐसी-वैसी नहीं, बल्कि सोने के कारखाने में. विचित्र शक्ल वाले लोग जल्दी से पहचान में आ जाते थे, इसलिए उनको पकड़ना आसान होता था.

12. पहला गर्भ-प्रतिरोधक बना था मिस्र में.

Source: mcgraphics

ये बात बेहद रोचक है कि गर्भधारण से बचने के लिए प्राचीन मिस्रवासी मिट्टी, शहद और मगरमच्छ के गोबर का एक मिश्रण बनाते थे. उस मिश्रण को महिला की योनि में डाल देते थे, जिससे महिला गर्भवती नहीं होती थी. इनका मानना था कि मगरमच्छ का गोबर एसिडिक होता है, जो शुक्राणुओं को मारता है.

13. बेहद गर्म जगह है मिस्र.

Source: newlinetravel

मिस्र एक गर्म जगह है, जहां तापमान 114 डिग्री तक पहुंच जाता है. इस गर्म वातावरण में भी गीज़ा के पिरामिड का तापमान 68 डिग्री ही रहता है. और तो और पृथ्वी का औसत अंदरूनी तापमान भी 68 डिग्री ही है.

14. बिल्लियों से बहुत लगाव था इनको.

Source: sciencenews

प्राचीन मिस्र में बिल्लियों का एक अलग स्थान था. जब भी उनकी पालतू बिल्ली मर जाती थी, तो वे अपनी भौंहें शेव कर देते थे. वे बिल्लियों की ममी बनाते थे और उन्हें चूहों और एक कटोरी दूध के साथ दफनाया जाता था. उनका मानना था कि अगर इस दुनिया में कोई जानवर ऐसी भक्ति पैदा कर सकता है, तो वह बिल्ली ही है.

15. प्राचीन मिस्र के डॉक्टर.

Source: scooppick

मिस्र के डॉक्टर एक ही अंग का अध्ययन करते थे. इतिहासकार हेरोडोटस के अनुसार, प्राचीन मिस्र में एक चिकित्सक एक ही बीमारी का विशेषज्ञ था और उससे सम्बंधित इलाज ही करता था. उनके पास हर बीमारी के लिए एक अलग चिकित्सक होता था. “शेफर्ड ऑफ़ द अनस” इनमें से सबसे रोचक नाम था.

16. गुलामों ने नहीं बनाए थे पिरामिड.

Source: atlantablackstar

प्राचीन मिस्र में पिरामिड बनाने का काम बहुत ही मुश्किल होता होगा, लेकिन रिकॉर्ड्स के अनुसार पिरामिड का काम करने वाले लोग गुलाम नहीं थे. वे कलाकार थे, जिनका नाम इन स्मारकों के नीचे लिखा हुआ नज़र आता है.

17. मिस्र के कारीगरों ने शुरु की थी दुनिया की पहली हड़ताल.

Source: wikimedia

कहा जाता है कि रॉयल नेक्रोपोलिस बिल्डिंग पर काम करने वाले कारीगरों को जब उनके हिस्से का अनाज नहीं मिला, तो उन्होंने पास के मंदिर में जाकर शरण ली और काम करने से मना कर दिया. इस तरह से शुरुआत हुई थी, दुनिया की पहली हड़ताल की.

18. दिल नहीं निकाला जाता था, ममी बनाने के दौरान.

Source: gezimanya

ये बात तो सबको ही पता होगी कि ममी बनाने के लिए मुर्दे को पट्टी बांधने से पहले उसके अंदरुनी अंग निकाल लिए जाते थे. मुर्दे का दिमाग उसकी नाक से निकाला जाता था. उसके बाद इन अंगों को एक उपकरण में रखा जाता था. लेकिन दिल को नहीं निकाला जाता था, क्योंकि ये लोग दिल को आत्मा का प्रतीक मानते थे.

19. फराओ हत्शेप्सुत इतिहास से लगभग निकाले जा चुके थे.

Source: historyforkids

मिस्र पर राज करने के लिए फराओ हत्शेप्सुत ने कई जतन किए थे. माना जाता है कि उनके बाद के फराओ ने उनके स्मारकों को मिटाकर उन्हें इतिहास से निकालने का पूरा प्रयास किया था.

20. गीज़ा का मशहूर पिरामिड.

Source: pachamama

कहा जाता है कि गीज़ा का पिरामिड पृथ्वी के भू-भाग के बीचो-बीच स्थित है. गीज़ा का मशहूर पिरामिड ओराइयन की बेल्ट के साथ संरेखित है. हालांकि इस बात पर कई बहस हो चुकी हैं. इसके अलावा ओराइयन को मिस्र के पुनर्जन्म के देवता ऑसिरिज़ से भी जोड़ा जाता था.

21. ज़्यादातर पिरामिड लूटे जा चुके हैं.

Source: kinooze

माना जाता है कि तुतनखामन की मृत्यु के तुरंत बाद उनका पिरामिड लूटा गया और लुटेरों ने पकड़े जाने के बाद अपनी वापसी में एक बड़ा थैला गिरा दिया. थैले में पाए गये बड़े त्रिकोण नियॉन की तरह चमकते थे, जो कि ख़ज़ाने की तरफ का रास्ता दिखाते थे.

प्राचीन मिस्र की सभ्यता के बारे में इन तथ्यों को जानकर आपको भी हैरानी हुई होगी. अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ इस आर्टिकल को शेयर करें.

Source: topyaps