एक गिलास दूध हमारी रोज़ाना की 40-50 प्रतिशत कैल्शियम की ज़रूरत को पूरा कर देता है. ये दूध हमें गाय, भैंस, भेड़, बकरी जैसे जानवरों से मिलता आया है. लेकिन बहुत जल्द ही ये बीते दिनों की बात होने वाली है क्योंकि वो दिन दूर नहीं जब आप कुछ लोगों को कॉकरोच का दूध पीते पाएंगे! मज़ाक नहीं है, वैज्ञानिक काम कर रहे हैं इसे सच बनाने के लिए.

Source: marieclaire

दरअसल, कॉकरोच मिल्क पोषक तत्वों का पॉवरहाउस है. दावा किया गया है कि इसमें ऐसे प्रोटीन क्रिस्टल्स पाए जाते हैं, जो प्रोटीन, फैट, शुगर और एमिनो एसिड से भरपूर होते हैं. ये एक कंप्लीट फूड होता है. वैज्ञानिकों के अनुसार कॉकरोच के दूध में गाय के दूध से 4 गुना और भैंस के दूध से 3 गुना अधिक मात्रा में प्रोटीन होता है. साथ ही इससे मिलने वाले एमिनो एसिड्स शरीर को नए Cells बनाने में मदद करते हैं.

Source: india

ख़़ास बात ये है कि इस सुपर फूड की रिसर्च करने वाले भारतीय साइंटिस्ट ही हैं. ये रिसर्च International Union of Crystallography की मैगज़ीन में वर्ष 2016 में प्रकाशित हुई थी. इस पर रिसर्च करने वाली संचारी बनर्जी ने बताया था कि कॉकरोच मिल्क अाने वाले दिनों में बहुत ही लाभकारी साबित हो सकता है.

Source: forbes

हालांकि कॉकरोच का दूध निकालना कोई आसान काम नहीं है, इसलिए इसे गोली के रूप में हासिल करना होगा. इसके लिए करीब 100 पैसिफ़िक बीटल कॉकरोच की ज़रूरत होगी. वहीं दूसरी तरफ कुछ लोग इससे सहमत नहीं हैं.

कोलकाता के डॉ. शयन दास गुप्ता का कहना है कि- अगर आप कम कैलोरीज़ वाला दूध पीना चाहते हैं, तो आपको बादाम मिल्क पीना चाहिए और अगर पौष्टिक दूध पीना चाहते हैं, तब गाय के दूध से बेहतर विकल्प आपको कहीं नहीं मिलेगा.

Source: Hindustantimes

वहीं अमेरिका की Schweiger Dermatology Group की M.D. Rachel Nazarian के अनुसार, कॉकरोच के दूध में हॉर्मोन्स का लेवल कितना और कैसा होगा, इस बात की कोई सटीक जानकारी सामने नहीं आई है. लेकिन मौजूदा जानकारी से प्रतीत होता है कि इससे कुछ लोगों को मुहासों की दिक्कत हो सकती है.

फ़िलहाल तो ये दूध अभी मार्किट में आया नहीं है, लेकिन फिर भी हमने भविष्य के इस सुपर-फूड के बारे में आपको सभी जानकारी उपलब्ध करा दी है. आप इसे इस्तेमाल करेंगे या नहीं इसका फ़ैसला हम आप पर ही छोड़ते हैं. मगर अपना कीमती फीडबैक कमेंट कर हमसे शेयर करना न भूलें.

Feature Image Source: share.cat

Source: Hindustantimes