अबे 'चू**या' हो क्या, सही में इस दुनिया में 'चू****यों' की कमी नहीं हो, क्या 'चु****पा' है ये, हद चू****या हो तुम, तुम अपना 'चु*****पना' अपने पास ही रखो... अरे-अरे हम ये आपके लिए नहीं बोल रहे हैं और ना ही आपको गाली दे रहे हैं. लेकिन दोस्तों आपने अक्सर लोगों को आपस में बात करते हुए 'चू**या' शब्द का इस्तेमाल करते हुए ज़रूर सुना होगा. ज़्यादातर 'चू**या' को गाली के रूप में इस्तेमाल किया जाता है. खैर, हम इस शब्द का पोस्टमार्टम ना करते हुए सीधे मुद्दे पर आते हैं.

दरअसल, जिस 'चू**या' शब्द को हम लोग इतनी आसानी से किसी के लिए भी गाली के रूप में यूज़ कर लेते हैं, वो कोई एवेंई ही नहीं है. आपको जानकर हैरानी होगी कि असम में एक आदिवासी जनजाति है, जिसका नाम 'Chutia' और 'Sutiya' है और इन लोगों को 'Chutia People' के नाम से भी जाना जाता है. 'Chutia People' असम में रहने वाले एक समुदाय के लोग हैं, जो मंगोलिया (Mongoloid stock) के चीन-तिब्बती परिवार के वंशज हैं.

Source: pscnotes

आइये अब जानते हैं कि इनका इतिहास क्या है?

असम के 'Assamese Chronicle' में 'Chutia' का इतिहास दर्ज है. 'असमिया क्रॉनिकल' नाम सातवीं शताब्दी की शुरुआत में ब्रह्मपुत्र नदी के तट पर निवास करने वाले 'Chutia King' अस्सम्भिना के नाम पर रखा गया है. उस काल में 'Chutia' वंश के लोगों ने वर्तमान के भारतीय राज्यों असम और अरुणाचल प्रदेश में अपने साम्राज्य का गठन किया और वहां पर सन 1187 से सन 1673 तक राज्य किया. समूह के लोगों की शारीरिक बनावट पूर्व एशियाई और इंडो आर्यन का मिला-जुला रूप है. ऐसा माना जाता है कि असम में रहने वाला ये समूह पहला ऐसा समूह है, जिसके लोग दक्षिणी चीन (वर्तमान में तिब्बत और सिचुआन) से स्थानांतरित होकर आये थे.

Source: wikimedia

प्राचीन समय में जब 'Chutiya' लोगों का राज्य था, उस वक़्त वो एरिया लगभग लखीमपुर और सुबानसिरी नदी के पीछे का हिस्सा जितना था. ये लोग पूरे राष्ट्र का संचालन ब्रह्मपुत्र के उत्तरी छोर से करते थे. पहले ये लोग तिब्बती-बर्मन मूल की भाषा बोलते थे, लेकिन धीरे-धीरे इन्होंने हिंदू धर्म को अपनाने के साथ असमिया बोलना शुरू कर दिया. इन लोगों के निवास का मूल स्थान असम आकर बसने से पहले सिचुआन हुआ करता था.

Source: wikimedia

अहोम, कोच-राजबंगशी, केओट/कैब्राटा, मोरान और मटक जैसी कई दूसरे स्थानीय असमिया समुदायों के साथ कभी-कभी 'Chutia' आदिवासी जनजाति को भी अर्द्ध-हिंदूयुक्त जाति कहा जाता है.

Chutia समुदाय को भारत सरकार द्वारा ओबीसी के रूप में मान्यता प्राप्त है और ये समुदाय असमिया बोलने वाला भारत का इकलौता आदिवासी समुदाय है. वर्तमान में उनमें से ज्यादातर असम के ऊपरी इलाकों या जिलों में रहते हैं, वहीं कुछ असम के निचले इलाकों जैसे कामरूप और कामरूप मेट्रो में रहते हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि 1901 की जनगणना रिपोर्ट में लगभग 28,000 व्यक्ति Chutia समुदाय से संबंधित थे. वहीं 2011 की जनगणना रिपोर्ट के अनुसार इनकी अनुमानित जनसंख्या 26 लाख के लगभग थी.

यहां ध्यान देने वाली बात ये है कि हमारे समाज में "Chutia" शब्द की व्युत्पत्ति के लिए कई विचार हैं. इतिहासकारों का मानना है कि 'Chutia' शब्द का उद्भव 'Chut', 'चूट' या "पर्वत की चोटी" से हुआ है.

अब आपको इस बात का पता तो चल गया होगा कि जिस 'Chutia' शब्द को अभी तक आप गाली देने के लिए या मज़ाक करने के लिए इस्तेमाल करते आये हैं, वो असल में एक आदिवासी समुदाय का नाम है. तो अब 'Chutia' शब्द का इस्तेमाल करने से पहले एक बार गौर करना कि कुछ लोगों के लिए ये उनकी पहचान भी है.

Source: wikipedia