अब तक चांद को एक प्राकृतिक उपग्रह माना जाता था, लेकिन एक Conspiracy Theory के अनुसार, ये एक Artificial Satellite है. अब इस थ्योरी को ज़्यादा समर्थन मिलने लगा है. दरअसल, चांद का आकार अन्य प्राकृतिक उपग्रहों के मुक़ाबले बहुत बड़ा है.

भौतिक विज्ञान के पास भी इस बात का जवाब नहीं है कि पृथ्वी जितने बड़े ग्रह का इतना बड़ा प्राकृतिक उपग्रह कैसे हो सकता है.

Conspiracy Theorists का कहना है कि सैंकड़ों साल पहले एलियंस ने चांद को बनाया था. ये भी हो सकता है कि ये अंदर से खोखला है और इसमें एलियंस रहते हैं. 'स्टार वॉर्स' फ़िल्म की तरह ये एक 'डेथ स्टार' भी हो सकता है.

UFO Sightings Daily के संपादक Scott C Waring ने दावा किया है कि Google Moon के ज़रिये उन्हें इस बात के सबूत मिले हैं. इस सिस्टम के ज़रिये ऑनलाइन चांद की सतह को देखा जा सकता है, जैसे Google Earth के ज़रिये पृथ्वी को देखा जाता है.

चांद के अंधेरे हिस्से पर उन्हें ऐसी संरचनाएं दिखी हैं, जिनके आधार पर ये दावा किया जा रहा है. पृथ्वी से ये संरचनाएं देखना मुमकिन नहीं है. कहा जा रहा है कि पृथ्वी के बनने से पहले ही चांद को बना दिया गया था.

NASA के वैज्ञानिक Dr Gordon MacDonald ने 1962 में कहा था कि चांद का अंदरूनी हिस्सा बाहरी हिस्सों से भी कम घनत्व वाला है. वो लगभग अंदर से खोखला है.

इससे पहले भी कुछ वैज्ञानिक इस तरह के दावे कर चुके हैं. चांद कैसे बना, इसके कोई भी पुख्ता सबूत उपलब्ध नहीं हैं.

Source: Express