चुनावों से पहले किये वादे को पूरा करने के लिए मुख्यमंत्री बनने के बाद नितीश कुमार ने राज्य में शराब की खरीद-फ़रोख्त पर बैन लगा दिया. केंद्र ने भी राज्य सरकार के इस कदम की सराहना करते हुए नितीश कुमार की तारीफ़ की, पर हक़ीक़त ये है कि इसने एक नई तरह की समस्या को पैदा कर दिया. राज्य भर में अवैध शराब का कारोबार होने लगा और लोग नशे के दूसरे जुगाड़ ढूंढने लगे.

हालांकि, अब ये मामला काफ़ी पुराना हो चुका है, पर हाल ही में बिहार पुलिस के एक बयान ने फिर से गड़े-मुर्दे उखाड़ दिए हैं. दरअसल, शराबंदी के वक़्त ज़ब्त की हुई 9 लाख लीटर की शराब पुलिस स्टेशन से गायब हो गई, जिसके बारे में पुलिस ने कहा कि इस शराब के गायब होने के पीछे चूहों का हाथ है.

Source: Reuters

जिसके बाद ट्विटर पर लोग बिहार पुलिस को चूहों के इस कारनामे के साथ ट्रोल करने लगे.

हालांकि, बिहार पुलिस के ADGP S K सिंघल का कहना है कि 'इस बाबत जांच के आदेश दे दिए गए हैं, किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जायेगा.'

Source: Scoopwhoop