प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू किये गए स्वच्छता अभियान का असर देश में दिखाई देना लगा है. जो लोग पहले खुले-आम शौच के लिए बाहर जाया करते थे, अब अपने घरों में शौचालय बनवाने लगे हैं. हाल ही में प्रधानमंत्री ने महाराष्ट्र की एक आदिवासी महिला को उसके ऐसे ही हौसलों के सम्मानित किया है.

Source: nidhichoudhari

पालघर के नंदगांव की रहने वाली खुरकुटे 7 महीने के प्रसव से है और अपने घर में शौचालय बनवाना चाहती थी. इसके लिए उसने ODF को चुना, जिसमें घर के बाहर एक बड़ा गड्ढा बनाया जाता है. गड्ढा खोदने के लिए खुरकुटे ने खुद ही फावड़ा उठाया और लगातार तीन दिन की मेहनत से उसे पूरा किया.

उसके इस काम को UNICEF के वालंटियर ने देखा और ज़िला परिषद को सूचित करके उन्हें टॉयलेट बनवाने का ज़रूरी सामान मुहैया करवाया.

इस काम के लिए पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय के सचिव परमेस्वरं अय्यर भी उसकी सराहना कर चुके हैं. इसके साथ ही प्रधानमंत्री भी उसे 8 मार्च को गांधीनगर में एक कार्यक्रम के दौरान सम्मानित करेंगे.