पुरानी चीज़ें हमेशा ही अच्छी लगती है. जैसे आजकल लोग सोशल मीडिया पर अपनी पुरानी तस्वीरें डालते हैं. इसके अलावा क्लब्स भी 90s के गानों को चला कर पुराने दिनों की याद दिलाने की कोशिश कर रहे हैं.

लोगों के इस क्रेज़ से शायद मोबाइल फ़ोन और कंप्यूटर बनाने वाली कंपनी Apple भी भली-भांति परिचित है, तभी बीते कल की याद दिलाते हुए कंपनी ने अपने सबसे पुराने कंप्यूटर Apple-1 को बेचने का निर्णय किया है.

ख़बरों के मुताबिक, 20 मई को नीलामी के ज़रिये इसे बेचा जायेगा. Apple-1 की गिनती उन 8 कंप्यूटरों में होती है, जो आज भी पहले की तरह ही काम कर रहे हैं. कंपनी इस बोली के करीब 190,000 डॉलर से 320,000 डॉलर तक जाने की उम्मीद कर रही है. हालांकि जब ये कंप्यूटर बन कर तैयार हुआ था, तब इसकी कीमत 666.66 डॉलर थी.

नीलामी में शामिल एक सदस्य ने कहा कि Apple-1 अपने आप में किसी विंटेज डिवाइस का अद्भुत नमूना है. Apple-1 को असल में Steve Wozniak ने Steve Jobs के गराज में बनाया था. इसके आविष्कार के बाद 1976 तक Apple-1 की 50 यूनिट्स को बाज़ार में उतारा गया. पूरी दुनिया में इसके केवल 200 ही सेट मौजूद हैं.

इस नीलामी में सिर्फ़ Apple-1 ही नहीं, बल्कि Rasmus Malling-Hansen द्वारा 1867 में बनाया गया पहला टाइपराइटर भी शामिल होगा.

Source: livescience