Dussehra 2022: हिंदू पंचांग के मुताबिक़, अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को हर साल ‘दशहरा’ मनाया जाता है. भगवान राम ने ‘त्रेता युग’ में इसी दिन लंकापति रावण का वध कर बुराई पर अच्छाई की जीत दर्ज की थी. इसलिए इसे विजयादशमी (Vijayadashami) भी कहते हैं. बताया जा रहा है कि इस साल दशहरा (Dussehra) बेहद ख़ास और दुर्लभ योग का संयोग लेकर आ रहा है. मान्यता है कि ख़ास मौके पर ख़रीदारी और पूजा करने से घर में सुख-समृद्धि का वास और नकारात्मक ऊर्जा का विनाश होता है.

ये भी पढ़ें: बीते कुछ सालों में पश्चिम बंगाल में बने वो 15 दुर्गा पंडाल जो कलाकारी और सीख का सटीक उदाहरण हैं

आइए जानते हैं ‘दशहरा’ की तारीख, योग और शुभ मुहूर्त (Dussehra 2022 Date And Shubh Muhurat).

कब है दशहरा?

हिंदू पंचाग के मुताबिक़, अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि 4 अक्टूबर को दोपहर 2 बजकर 20 मिनट से शुरू हो रही है, जिसका समापन 5 अक्टूबर को दोपहर 12 बजे होगा. जबकि उदयातिथि के मुताबिक़, दशहरा 5 अक्टूबर को मनाया जाएगा. भारत में कई जगहों पर ‘दशहरे का मेला’ नवमी और दशमी दोनों दिन लगता है. ऐसे में इस साल ‘दशहरा मेला’ 4 अक्टूबर और 5 अक्टूबर दोनों दिन लगेगा.

readthespirit

दशहरा शुभ योग (Dussehra Shubh Yoga)

हिंदू पंचांग के मुताबिक़, इस साल विजयादशमी के मौके पर 3 शुभ योग का संयोग बन रहा है. इनमें रवि, सुकर्मा और धृति योग शामिल हैं, जो इस दिन के महत्व को दोगुना करने का काम करेंगे.

रवि योग- 5 अक्टूबर, 2022 को सुबह 06 बजकर 21 मिनट से रात 09 बजकर 15 मिनट तक.

सुकर्मा योग- 4 अक्टूबर, 2022 को सुबह 11 बजकर 23 मिनट से 5 अक्टूबर 2022 को सुबह 8 बजकर 21 मिनट तक.

धृति योग- 5 अक्टूबर, 2022 को सुबह 8 बजकर 21 मिनट से 6 अक्टूबर 2022 को सुबह 5 बजकर 19 मिनट तक.

दशहरे की ख़रीदारी का शुभ मुहूर्त

हिन्दू धर्म में ‘दशहरे’ को ‘अबूझ मुहूर्त’ में से एक माना जाता है. ऐसे में इस दिन ख़रीदारी करना बेहद शुभ माना जाता है. इस मौके पर नए वाहन, गहने व आभूषण की ख़रीदारी करना शुभ होता है. अगर आप भी ‘दशहरे’ के मौके पर ख़रीदारी या कोई नया कार्य शुरू करने की सोच रहे हैं तो 5 अक्टूबर को सुबह 11 बजकर 33 मिनट से लेकर 1 बजकर 2 मिनट तक ‘अमृत काल मुहूर्त‘ है. इस मुहूर्त में ख़रीदारी करना बेहद शुभ माना जाता है.

भारतीय-त्यौहार