Chhath Puja 2021: छठ पूजा 3 दिन का त्यौहार है जो इस साल 8 से 10 नवंबर को पूरे भारत में मनाया जाएगा. बिहार, उत्तर प्रदेश, झारखंड, मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में ये त्यौहार धूमधाम से मनाया जाता है. इस दिन व्रत करने वाली महिलाएं पानी में उतर कर सूर्य भगवान की पूजा करती हैं.   

मगर कोविड-19 महामारी के चलते बहुत से राज्यों में Chhath Puja के सार्वजनिक आयोजन पर रोक लगा दी गई है. दिल्ली भी उन्हीं में से एक है जहां पर छठ पूजा के आयोजन पर रोक लगा दी गई है.   

ये भी पढ़ें:  छठ को सिर्फ़ ठेकुआ और भोजपुरी गानों तक ही समझने वालों के लिए इसे समझने का क्रैश कोर्स

chhath puja
Source: englishtribune

Delhi Disaster Management Authority (DDMA) ने लगातार दूसरे साल छठ पूजा के लिए सार्वजनिक स्थलों पर एकत्र होने, यमुना नदी या फिर अन्य किसी पानी के स्त्रोत में उतर कर पूजा करने पर रोक लगा दी है. ऐसे में लोगों के सामने समस्या है कि वो कैसे इस पर्व को मनाएंगे. 

ये भी पढ़ें:  छठ की ये 7 बातें अब तक यूपी-बिहार वालों को ही पता थीं, आपके लिए ये जानकारियां एकदम Exclusive हैं

chhath puja delhi
Source: indianexpress

इसके लिए आप घर पर ही कुछ चीज़ों की मदद से छोटा सा स्विमिंग पूल बनाकर छठ पूजा को कर सकते हैं. घर पर इन्हें कैसे बना सकते हैं चलिए आपको बता देते हैं.   

पराली की गठरियों से बनाएं स्विमिंग पूल

How to make a pool with straw bales
Source: 1001gardens

-इसके लिए आपको लगभग 50-70 पराली(फूस) की गठरियों की ज़रूरत होगी. इन्हें चौकोर आकार में एक खेत या खाली जगह में लगा लें.  


-दीवार बनने के बाद इसमें उसी आकार की एक बड़ी पॉलीथीन बिछा दें. पॉलीथीन दीवारों से बाहर जानी चाहिए. 

-अब कुछ परालियों को दीवार से बाहर निकली पॉलीथीन पर भी रख दें. अब इसके अंदर पानी भरें. आपका टेंपरेरी स्विमिंग पूल तैयार है.

कोल्ड ड्रिंक की क्रेड से बनाएं स्विमिंग पूल

Beer Crates DIY Pool
Source: 1001gardens

-कोल्ड ड्रिंक की क्रेड्स से भी आप स्विमिंग पूल बना सकते हैं. इसके लिए भी आपको साइज़ के हिसाब से कोल्डिंक की क्रेड्स लगेंगी.  


-क्रेड्स की चारदीवारी बना लें. दीवार बनने के बाद इस पर मोटी पॉलीथीन बिछा दें. इसके बाद एक्स्ट्रा पॉलीथीन को बची हुई क्रेड्स से दबा दें.  

-अब इसमें पानी भर कर आराम से पूल में उतर कर छठ पूजा की जा सकती है. 

नोट: ये बस एक अनुमान है, साइज़ और लोगों के हिसाब से पूल बनाने के लिए सामान अधिक मात्रा में लग सकता है.