मोहम्मद अली जिन्ना ने पाकिस्तान की नींव रखी थी. उन्होंने अलग मुल्क़ तो बना लिया मगर आज भी दोनों देशों की ज़मीन और लोगों में एक- दूसरे का बहुत कुछ पीछे छूट गया है. ख़ुद जिन्ना का आलीशान घर भारत में छूट गया है.   

Mohammad Ali Jinnah
Source: outlookindia

जिन्ना का ये आलीशान बंगला मुंबई के सबसे पॉश इलाक़ों में से एक, मालाबार हिल्स पर स्थित है. इसे लोग 'जिन्ना हाउस' के नाम से जानते हैं. 1936 में जिन्ना ने इसका निर्माण का काम शुरू करवाया था. 2.5 एकड़ में फैले इस बंगले को बनाने की लागत उस समय 2 लाख रुपये के लगभग आई थी. जिन्ना हाउस को यूरोपीय अंदाज में बनाया गया है. इस बंगले को डिज़ाइन, Claude Batley ने किया था. Claude Batley का भारत के आधुनिक वास्तुकला के विकास में प्रभावशाली भूमिका निभाई थी. इस बंगले के निर्माण के लिए इटली से ख़ास कामगारों को भारत लाया गया था. यही नहीं इसमें इंग्लैंड के संगमरमर और अखरोट की लकड़ी का इस्तेमाल किया गया था. 

जिन्ना हाउस में मुस्लिम लीग के कार्यकर्ताओं आकर मिला करते थे. इस बंगले में कई अहम राजनीतिक बैठक हुई हैं. जिसमें जवाहरलाल नेहरू और महात्मा गांधी जैसे बड़े नेता शामिल थे. 

Jinnah House
Source: indianexpress

जिन्ना ने जवाहरलाल नेहरू को एक निजी पत्र लिखकर अपना बंगला सुरक्षित रखने की गुज़ारिश की थी. उन्हने लगता था कि भारत में इसकी क़द्र कोई नहीं करेगा इसलिए जिन्ना ने इसे किसी यूरोपीय दूतावास को देने की गुहार लगाई. नेहरू जी ने उनकी बात मानी भी मगर सौदा होने से पहले ही जिन्ना मर गए. 1949 में घर खाली हो गया और सरकार ने बिल्डिंग को अपने कब्ज़े में ले लिया.   

ये भी पढ़ें: ये 14 तस्वीरें बता रही हैं कि भारत पाकिस्तान के विभाजन के वक़्त दिल्ली में कैसा नज़ारा था 

देखिए, घर की कुछ तस्वीरें: 

Jinnah House
Source: architexturez
Mumbai Jinnah House
Source: architexturez
Jinnah house images
Source: architexturez
Jinnah house
Source: architexturez
jinnah huse rare images
Source: thenews
Mohammad ali Jinnah
Source: thenews
Jinnah house mumbai
Source: thenews
Inside Jinnah house
Source: thenews
Jinnah house images
Source: thenews

इस बंगले पर बाद में पाकिस्तान ने अपना हक़ भी जमाया था. जिन्ना की बेटी से लेकर उनकी पोती तक इस बंगले के हक़ को लेकर कई मुक़दमेबाज़ी चली. फ़िलहाल यह बंगला भारत सरकार के अधीन है.     

ये भी पढ़ें: मोहम्मद अली जिन्ना की तीन बेशक़ीमती चीज़ें जिन्हें वो पाकिस्तान न ले जा सके