Urdu Words From Gulzar Songs: शायद ही ऐसा कोई शख़्स होगा जो भारतीय कवि, गीतकार, लेखक और फ़िल्म डायरेक्टर गुलज़ार साहब (Gulzar) को नहीं जानता होगा. उन्होंने अपने काम से पूरी दुनिया में अपनी अमिट छाप छोड़ी है. उनके हाथ ने जिस भी गाने को स्पर्श किया, उसे हमेशा के लिए अमर बना दिया. उन्हें हिंदी शायरी का बहुमूल्य हीरा भी कहा जाता है. 60 के दशक से बतौर गीतकार अपना करियर शुरू करने वाले गुलज़ार ने कई बेमिसाल फ़िल्मी गीत लिखे, जिन्हें आज तक लोग गुनगुनाते हैं. अगर ये कहा जाए, कि उर्दू के कई ख़ूबसूरत शब्द हमें गुलज़ार के लिखे हुए गानों से सीखने को मिले हैं, तो बिल्कुल भी ग़लत नहीं होगा. 

आइए आज हम आपको उर्दू के कुछ ऐसे ही ख़ूबसूरत शब्दों (Urdu Words From Gulzar Songs) के बारे में बताएंगे, जिनका गुलज़ार के गानों ने ही हमसे परिचय कराया है. 

gulzar
Source: cinestaan

Urdu Words From Gulzar Songs

1. हर्फ़

हर्फ़ का मतलब 'शब्द' होता है. इस शब्द का प्रयोग गुलज़ार ने फ़िल्म हैदर के गाने 'खुल कभी' में किया है. 'लब तेरे यूं खुले जैसे हर्फ़ थे, होंठ पर यूं घुले जैसे बर्फ़ थे.' इस गाने की इन लाइनों ने अपने जज़्बातों को ज़ाहिर करने का एक ज़रिया देने के साथ ही हमें ये ख़ूबसूरत उर्दू शब्द भी सिखा दिया. 

ये भी पढ़ें: गुलज़ार साब की कलम से निकली वो 16 नज़्में, जिनके अल्फ़ाज़ मन को सुकून और विचारों को ठहराव देते हैं

2. उन्स

उन्स का मतलब 'प्यार या स्नेह' होता है. ये शब्द हमें फ़िल्म 'दिल से' के गाने 'सतरंगी रे' में सुनने को मिला था. इसकी लाइन 'आंखों ने कुछ ऐसे छुआ, हल्का हल्का उन्स हुआ' हमारे दिल में प्यार का एहसास दोबारा जगाती है. 

3. गिलाफ़

'कोट' को उर्दू में 'गिलाफ़' कहते हैं. गुलज़ार द्वारा लिखा गया फ़िल्म 'ओमकारा' का गाना 'बीड़ी जलैले' तो सुना ही होगा. इस गाने की लाइन 'ना गिलाफ़...ना लिहाफ़. ना गिलाफ़, न लिहाफ़, ठंडी हवा भी ख़िलाफ़' ने इस शब्द को हमारी ज़ुबां पर अटका दिया. (Urdu Words From Gulzar Songs)

4. बेसबाब

बेसबाब का अर्थ है 'बिना किसी वजह के'. फ़िल्म 'कमीने' के गाने 'पहली बार मोहब्बत' की जब ये लाइन 'तुझे गुदगुदाना सताना यूं ही सोते हुए, गाल पे टीपना मीचना बेवजह बेसबाब' कानों में सुनाई पड़ती है, उसी वक़्त से उर्दू का ये प्यारा शब्द हमें अपनी मोहब्बत की चादर में समेट लेता है. 

5. बिरहा

ये शब्द सुनने में जितना अच्छा लगता है, इसका मतलब उतना ही दर्द भरा है. इसका मीनिंग 'जुदाई' होता है. फ़िल्म 'लेकिन' के गाने 'यारा सीली सीली' की लाइन 'यारा सीली सीली, बिरहा की रात का जलना' में इस शब्द का इस्तेमाल हुआ है. 

ये भी पढ़ें: गुलज़ार साहब बचपन से ले कर अब तक मेरे साथ हैं, लेकिन शायद उनको भी नहीं मालूम

6. किमाम

किमाम का अर्थ 'लिक्विड तंबाकू' होता है. फ़िल्म 'बंटी और बबली' के सुपरहिट सॉन्ग 'कजरा रे' में इस शब्द का प्रयोग किया गया है. इसकी लाइन 'तेरी बातों में किमाम की ख़ुशबू है, हो तेरा आना भी गर्मियों की लू है' माहौल में नयेपन की ख़ुशबू बिखेरती है.   

7. गुलपोश

गुलपोश का मतलब 'फूलों से ढका हुआ' होता है. फ़िल्म 'दिल से' का गाना 'छैयां छैयां' आज भी सुन लो, तो ख़ुद-ब-ख़ुद पैर थिरकने लगते हैं. इस गाने की लाइन 'गुलपोश कभी इतराए कहीं, महके तो नज़र आ जाए कहीं' इस गाने को एक अलग ही फ़ील देती है. 

आप इनमें से कितने शब्दों के बारे में जानते थे?