Maahi

मैं माहीपाल सिंह बिष्ट, लेक सिटी नैनीताल से हूं. मैं ज़िंदगी को अपनी शर्तों पर जीने में विश्वास रखता हूं. आस-पास क्या हो रहा है उससे मुझे फ़र्क पड़ता हैं क्योंकि मैं भी एक सामाजिक प्राणी हूं. लिखना प्रोफ़ेशन भी और हॉबी भी. इसलिए लिखकर ही लोगों के दिलों में बसना चाहता हूं. मुझे लिखना, घूमना-फिरना, फ़ोटोग्राफ़ी और क्रिकेट खेलना बेहद पसंद है. टाइम पास करने के लिये मैं मोबाइल पर घंटों बिता सकता हूं. मेरी इंस्पिरेशन सड़क पर अपनी मेहनत से चना बेचने वाले से लेकर सरहद पर दूसरों के लिए लड़ने वाले जवान हैं. हर वो इंसान जो अच्छे विचारों के साथ जीता है वो मेरी इंस्पिरेशन है. मुझे लाइफ़ से बस ख़ुशी चाहिए! आख़िर में बस इतना ही कहूंगा कि, ख़ुश रहो और दूसरों के लिए ख़ुश रहने की वजह बनो.

20 साल पहले अमेरिका में छपी थी राम करेंसी, '1 राम' मुद्रा की क़ीमत 10 अमेरिकी डॉलर के बराबर थी

ओलंपिक गेम्स के वो 27 यादगार लम्हे जब भारतीय एथलीट्स ने विदेशी ज़मीन पर रचा था इतिहास

ईदी अमीन: युगांडा का वो खूंखार तानाशाह जो भारतीयों से करता था नफ़रत, दुनिया की नज़रों में था आदमखोर

भारत के वो 6 क्रिकेटर जिनमें से कुछ अपने पिता से कहीं अधिक सफल रहे, तो कुछ रहे सुपर फ़्लॉप

Tokyo Olympics: इन 15 तस्वीरों में देखिये, मेडल जीतने के लिए एथलीट क्या कुछ नहीं करते

बंगाल अकाल: 1944 में जब भूख के मारे लोग खा रहे थे घास और सांप, 30 लाख से अधिक लोगों की गई थी जान

आख़िर वो क्या वजह थी जिस कारण मीर जाफ़र को हिंदुस्तान का सबसे बड़ा गद्दार कहा जाता है?

जानवरों की ये 20 फ़ोटोज़ देखकर सोच में पड़ जाओगे कि इसे कुदरत का करिश्मा कहें या मज़ाक