दुनिया भर में स्तन कैंसर के मामले बढ़ते जा रहे हैं. ये भारतीय महिलाओं में सबसे तेज़ी से फै़लने वाला कैंसर भी है. स्तन कैंसर जैसी ख़तरनाक बीमारी की वजह से कितनों की मां, बहन, बेटी और बहू दुनिया छोड़कर चली गई.

मेक्सिको के 18 साल के एक स्टूडेंट ने इस लाइलाज बिमारी का हल ढूंढ़ निकाला है. इस स्टूडेंट ने एक ऐसी ब्रा डिज़ाइन की है, जिसके ज़रिये बड़ी आसानी से ब्रेस्ट कैंसर का पता लगाया जा सकता है. इसकी ख़ोज के लिए, 18 साल के जूलियन रिओस चांटु ने Global Student Entrepreneur अवॉर्ड्स में पहला प्राइज़ हासिल किया है. इस प्रतियोगिता में 56 देशों के 56 स्टूडेंट Entrepreneur ने हिस्सा लिया था.

CEO और Higia Technologies.co के Co-founder बताते हैं कि 'जब वो 13 साल के थे, तो उन्हें इस प्रोजे़क्ट का ख़्याल आया था. इस बीमारी की वजह से मां के दोनों ब्रेस्ट को ऑपरेट कर, हटाना पड़ा था. जूलियन की मां की मौत ब्रेस्ट कैंसर से हुई थी, अगर शुरुआती अवस्था में ही इस कैंसर के बारे में पता चल जाता तो वह बच सकती थीं'. इस 'ईवा ब्रा' को जूलियन ने अपने 3 दोस्तों के साथ मिलकर बनाया है.

कैंसर युक्त ट्यूमर में रक्त प्रवाह बढ़ने के कारण त्वचा का तापमान बढ़ जाता है. 'ईवा ब्रा' का बायोसेंसर तापमान मापेगा और फिर ये एक App से जुड़ेगा. इसमें जो भी बदलाव होगा, उसका अलर्ट 'ईवा ब्रा' पहनने वालों के पास जाएगा.

अनाज के दाने-सा दिखने वाले ट्यूमर 6 महीनों के भीतर बॉल के आकार का हो गया.

इस मामले में बहुत देर चुकी थी, मेरी मां ने अपने दोनों ब्रेस्ट भी खो दिए और ज़िंदगी भी.

'ईवा ब्रा' पहनने से महिलाओं को शुरुआती दौर में ही स्तन कैंसर का पता चल जाएगा, जिससे वो तुरंत इलाज के लिए डॉक्टर के पास जा सकती हैं.

ब्रा में बायोसेंसर्स लगे हुए हैं, जो ब्रेस्ट की ऊपरी सतह का पता लगाने के साथ ही ब्रेस्ट के टेंपरेचर, शेप और वेट में होने वाले बदलावों पर भी नज़र रखता है.

Video : Julián Ríos Cantú

कुछ असामान्य लगने पर आप सतर्क हो सकते हैं.

इस ब्रा को अभी मेडिकल साइंस की कसौटी पर खरा उतरना बाक़ी है. Developers के मुताबिक, साल के अंदर इसकी प्रमाणिकता पर मुहर लग जाएगी.

Source : boredpanda