जय-वीरू और मुन्ना-सर्किट का नाम सुनते ही आपको अपने बेस्ट फ़्रेंड की याद आ जाती होगी. ये मेल फ़्रेंडशिप के उदाहरण हैं जिसके दर्शन फ़िल्मों में हो ही जाते हैं. लेकिन फ़ीमेल फ़्रेंडशिप को बयां करती कुछ गिनती की ही फ़िल्में हैं. चलिए आज आपको कुछ ऐसी फ़िल्मों के बारे में बता देते हैं जिनमें महिलाओं की दोस्ती की मिसाल कायम हुई थी. इन्हें देखने के बाद हर महिला को अपनी प्रिय सहेली की याद ज़रूर आई होगी.

1. पिंक- मिनल, पलक और एंड्रिया 

Source: firstpost

अनिरुद्ध रॉय चौधरी की इस मूवी में तीन फ़्लैटमेट्स की स्टोरी थी मिनल, पलक और एंड्रिया. तीनों बेस्ट फ़्रेंड होने के साथ ही एक-दूसरे को हर तरह से सपोर्ट करती थीं. यहां तक की कोर्टरूम में भी तीनों ने एक दूसरे का पूरा साथ दिया था. 

2. वीरे दी वेडिंग- कालिंदी, अवनी, साक्षी और मीरा 

Source: jansatta

इस फ़िल्म में इन चारों की दोस्ती देख लगता है कि जब बात जीवन भर दोस्त रहने की होती है तो कोई भी राज़ या फिर सीक्रेट दोस्ती से बड़ा नहीं होता. ये चारों एक दूसरे के सुख-दुख में किसी परिवार वाले की तरह साथ देती हैं. 

3. द लंच बॉक्स- इला और मिसेज़ देशपांडे 

Source: filmcompanion

इला और मिसेज़ देशपांडे पड़ोसी हैं लेकिन दोनों की दोस्ती बहुत गहरी है. दोनों एक खिड़की के ज़रिए एक-दूसरे से बात करती हैं, पुराने गाने सुनती हैं और रेसिपी एक दूसरे से शेयर करती हैं. यही नहीं मिसेज़ देशपांडे ही उन्हें एक स्ट्रेंजर को लेटर लिख थैंक्स कहने को प्रेरित करती हैं. मिसेज़ देशपांडे एक बेस्ट फ़्रेंड की तरह सही सलाह देकर इला का मार्गदर्शन करती हैं. 

4. डोर- जीनत और मीरा 

Source: huffingtonpost

नागेश कुक्कुनूर की इस फ़िल्म में भले ही ज़ीनत अपने मतलब से मीरा से दोस्ती करती है, लेकिन वो बाद में एक-दूसरे की बेस्ट फ़्रेंड बन जाती हैं. मीरा दोस्ती का फ़र्ज़ भी निभाती है उसके पति को माफ़ीनामा देकर. 

5. आयशा- आयशा और पिंकी 

Source: indiatoday

चाहे कुछ भी हो जाए बेस्ट फ़्रेंड हमारा साथ कभी नहीं छोड़ते. आयशा और पिंकी भी ऐसी दोस्ती की मिसाल पेश करती हैं. ये दोनों लड़ती-झगड़ती हैं लेकिन अंत में दोनों एक दूसरे के अच्छे बुरे वक़्त में साथ खड़ी नज़र आती हैं. 

6. क्वीन- विजयलक्ष्मी और रानी 

Source: entertales

इस फ़िल्म के लिए कंगना रनौत ने नेशनल अवॉर्ड जीता था. क्वीन को इसकी स्टोरी के साथ ही विजयलक्ष्मी और रानी की दोस्ती के लिए याद किया जाता है. रानी के शराब पीने के बाद जब वो रोना शुरू करती है तो विजयलक्ष्मी ही उसे संभालती है. साथ में कहती है कि विजय ने धोखा दे दिया तो क्या हुआ विजयलक्ष्मी तो है. 

7. Axone- उपासना, चानबी और मिनम 

Source: thehindu

ये तीनों देश के उत्तरपूर्वी हिस्से से ताल्लुक रखती हैं और दिल्ली में साथ रहती हैं. यहां पर लोकल लोग उनका मज़ाक उड़ाते हैं और उन्हें ठीक से रहने भी नहीं देते. इन सबसे निपटते हुए उपासना और चानबी अपनी बेस्ट फ़्रेंड की शादी को हमेशा के लिए यादगार बनाने के लिए जी-जान लगा देती हैं. 

8. देवदास- पारो और चंद्रमुखी 

Source: tumblr

पारो और चंद्रमुखी दोनों जब मिलती हैं तो उन्हें पता चलता है कि वो एक ही शख़्स से प्यार करती हैं और ये भी कि दोनों का प्यार हमेशा अधूरा रहेगा. इससे दोनों को एक दूसरे के प्रति सहानुभूति होती है और वो बेस्ट फ़्रेंड भी बन जाती हैं. इसकी झलक 'डोला रे डोला' गाने में साफ़ दिखाई देती है. 

9. पार्च्ड- रानी, लाजो और बिजली 

Source: blogger

इस फ़िल्म में ये तीनों महिलाएं पितृसत्ता से लेकर आधारहीन परंपराओं तक सभी से साथ मिलकर लड़ती हैं. ये न सिर्फ़ एक-दूसरे की रक्षा करती हैं बल्कि एक-दूसरे को सपोर्ट भी करती हैं. यही तो सच्ची दोस्ती में होता है. 

10. ये जवानी है दीवानी- नैना और अदिती 

Source: comedyflavors

कुछ दोस्त हम जवानी में बनाते हैं जो ज़िंदगी भर हमारा साथ देते हैं. ऐसी दोस्ती नैना ने अदिती से एक ट्रिप पर की थी. दोनों अलग-अलग नेचर की होते हुए भी बहुत अच्छी दोस्त बन जाती हैं और आख़िर तक एक दूसरे का साथ निभाती हैं. 

इनमें से कौन-सी बेस्ट फ़ीमेल फ़्रेंड्स वाली फ़िल्म आपके दिल के सबसे क़रीब है, कमेंट बॉक्स में हमसे ज़रूर शेयर करना.

Entertainment के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.