भोजपुरी गानों का नाम जेहन में आते ही हमारे अंदर कई तरह के भाव पैदा होने लगते हैं. मसलन, भोजपुरी गाने अश्लील होते हैं, कामुक होते हैं और काफ़ी फूहड़ होते हैं. लोग ऐसा कहते हैं कि भोजपुरी गाने अश्लीलता की सारी हदें पार कर देते हैं. हालांकि, कुछ हद तक ये सही भी है. लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि पूरी भोजपुरी इंडस्ट्री में ऐसे ही गाने बनते हैं या फिर बनते आए हैं. बेशक आपने उस तरह के भोजपुरी गानों को सुनकर उसके प्रति एक मानसिकता बना ली हो, लेकिन सच कहूं, तो आपने भोजपुरी गानों की सुंदरता को अभी तक नहीं देखा है और न ही उसे महसूस किया है.

भोजपुरी में प्यार, विरह, निर्गुण और सोहर को जितनी खूबसूरती के साथ परोसा गया है, शायद ही आपको वो बॉलीवुड के गानों में सुनने को मिले. आज आप जिस बॉलीवुड के गानों के सामने भोजपुरी को गंदा मान रहे हैं, हो सकता है यही बॉलीवुड विदेशी भाषाओं के गानों के सामने फीका पड़ता हो. खैर, आज का ज़माना कुछ ऐसा है कि गंदी और बुरी चीज़ों को लोग ज़्यादा वायरल करते हैं, भोजपुरी के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ है.

अगर आपने अभी तक सिर्फ़ फूहड़ भोजपुरी गानों को ही सुना है, तो सच कहूं आपने भोजपुरी को जाना ही नहीं है. भोजपुरी गानों ने जीवन के हर रंग को अपनी भाषा में खूबसूरती से उतारा है. भरत व्यास, मदन राय, शारदा सिन्हा, पवन सिंह और कल्पना आदि ने अपने गानों से जीवन के हर रंग को काफ़ी सुंदरता से परोसा है.

1. जुग-जुग जियसु ललनवा भवनवां के भाग जागल हो

इसे भोजपुरी में सोहर कहा जाता है. यह गीत उस दृश्य पर फ़िल्माया गया है, जब किसी के घर बच्चे का जन्म होता है. बच्चे की मंगल कामना के लिए यह गीत गाया जाता है. 

2. जान दे ना सकी लें त जान ले लीं

इस गाने का फ़िल्मांकन उस दृश्य पर किया गया है, जब हीरो मरने के कगार पर होता है और हीरोइन उसके जीने के लिए भगवान शिव के दरबार में प्रार्थना कर रही होती है. इसमें हीरोइन पति के जान के बदले अपनी जाने देने की बात करती है. 

3. भगवान बड़ी फुरसत से तोहरा के बनवले बाड़ें

जब आपको किसी से प्यार होता है, तो वो आपको दुनिया का सबसे खूबसूरत इंसान लगने लगता है. इस गाने में भी लड़की की सुंदरता की तारीफ़ करते हुए हीरो कहता है- भगवान बड़ी फुरसत से तोहरा के बनवले बाड़ें.

4. भंवरवा के तोहरा संग जाई

जीवन की सच्चाई और उसके रंगों को यह गाना काफ़ी बेहतरीन तरीके से बताता है. भरत व्यास ने इस गाने को जितनी सुंदरता से प्रस्तुत किया है, वह आपको सुनने पर ही पता चलेगा. भोजपुरी में इन गानों का कोई तोड़ नहीं है. यह निर्गुण भक्ति का गीत है.

5. जा ए चंदा ले आव ख़बरिया

यह एक आशिक के दिल की आवाज़ है. प्रेमिका की शादी हो गई होती है, तो आशिक चांद से कहता है कि मेरी प्रेमिका की ख़बर लेकर आना. गाने की लिरिक्स काफ़ी अच्छे हैं.

6. सनेहिया लगावल बहुत बात नइखे

https://www.youtube.com/watch?v=eggZShcgCoo

‘लगावेलू जब लिपिस्टिक’ गाने से प्रसिद्ध हुए गायक पवन सिंह ने इस गाने में प्यार में बेवफ़ाई को बड़ी खूबसूरती के साथ पेश किया है. इस गाने का आशय है कि प्यार करना बड़ी बात नहीं होती, बल्कि उसे निभाना बड़ी बात होती है.

7. कईसे जाईं पिया के नगरिया हो, चुनरिया में दाग लग गईल

भोजपुरी निर्गुण गायक मदन राय को भोजपुरी समाज में काफ़ी सुना जाता है. भले ही इनके गाने आपको प्यार और रिश्ते पर आधारित लगें, लेकिन गौर से समझने की कोशिश करेंगे तो आपको लगेगा कि ये गाने आपके जीवन के मूल को प्रस्तुत करते हैं.

8. ओढ़नी के रंग पीयर

यह बहुत ही प्यारा भोजपुरी गीत है, जिसे उदित नारायण ने गाया है. सरसों के खेत में फ़िल्माया यह गाना हीरो-हीरोइन के बीच के प्यार को मौसम की खूबसूरती के साथ काफ़ी सुंदरता से दर्शाता है. इसे सुनकर आपका दिल भी हिचकोले मारने लगेगा.

9. जनती जे जाड़ल जइबू

https://www.youtube.com/watch?v=pqGpG5r11QI

यह सिर्फ़ गाना नहीं, बल्कि समाज़ में व्याप्त दहेज़ रूपी बुराई की हक़ीकत को बयां करता है. जब दहेज के कारण एक लड़की को ससुराल वाले जला कर मार देते हैं, तो उस लड़की के पिता की वेदना को इस गाने के द्वारा प्रस्तुत किया गया है.

10. जइसन सोचले रहनीं, ओईसन धनिया मोर बाड़ीं

हर इंसान अपने जीवन साथी की कल्पना किया होता है. जब उसे अपने सपनों की रानी मिल जाती है, तो उस वक्त उसके मन में कैसी प्रतिक्रिया होती है, उसे इस गाने से समझ सकते हैं. आप जिसे प्यार करें और वो आपको मिल जाए, तो आपको भी ऐसी ही फीलिंग आएगी, जैसे इस गाने में दिखाया गया है.

11. गोरिया चांद के अजोरिया नियन गोर बाड़ू हो

अपने मासूका की तारीफ़ अगर करनी हो, तो आप इस गाने से बहुत कुछ सीख सकते हैं. इस गाने में अपनी प्रेमिका की तारीफ़ चांद से कर प्रेमी उसे इम्प्रेस करने की कोशिश करता है. एक समय था, जब यूपी-बिहार के लोगों के जुबान पर सिर्फ़ यही गाना छाया रहता था.

12.  आगे माई हरदी हरदिया दूभ पातर न

कहा जाता है कि विवाह हो और उसमें शारदा सिन्हा के गीत न बजे ऐसा हो ही नहीं सकता. देश के किसी भी कोने में चले जाएं, विवाह में शारदा सिन्हा के गीत सुन ही लेंगे. इनके गीत सिर्फ़ बिहार-यूपी वाले ही नहीं, बल्कि अन्य भाषा के लोग भी सुनते है. इनके गानों में जो बात है, उसे सुनने के बाद ही महसूस कर सकते हैं.

तो दोस्तों, ये तो सिर्फ़ उदाहरण थे. अगर भोजपुरी को इससे भी अधिक अच्छे से समझना है, तो थोड़ा और सर्च करिये और बेहतर गानों का आनंद उठाइए.