बॉलीवुड स्टार संजय दत्त (Sanjay Dutt) की लाइफ़ कॉन्ट्रोवर्सी से भरी हुई है. मगर उनके एक विवाद ने उन्हें बहुत पीड़ा दी और इसकी वजह से संजय को जेल की हवा भी खानी पड़ी थी. वो था अवैध रूप से हथियार रखना. इसके चलते संजय दत्त को 5 साल की जेल भी हो चुकी है. उन पर 1993 के मुंबई बम धमाकों (Mumbai Serial Blast) में शामिल होने का भी आरोप था, लेकिन वो इसे बरी हो गए थे.

sanjay dutt
Source: indianexpress

संजय दत्त के साथ जेल में क्या हुआ और उन्होंने ऐसा क्या कहा कि उनके पिता के पैरों तले ज़मीन खिसक गई, इन बातों को विस्तार से एक किताब में बताया गया है. ये बुक मुंबई पुलिस (Mumbai Police) के पूर्व पुलिस कमिश्नर (Police Commissioner) राकेश मारिया (Rakesh Maria) की. इस बुक का नाम है  'लेट मी से इट नाउ' (Let Me Say It Now). इसमें संजय दत्त के साथ राकेश मारिया की हुई मुलाकातों के या कहें पूछताछ के बारे में विस्तार से बताया गया है.

ये भी पढ़ें: किस्सा: जब सुनील दत्त की एक फ़िल्म के सेट पर डाकू संजय दत्त को करने वाले थे किडनैप 

संजय दत्त (Sanjay Dutt) को मारा तमाचा

rakesh maria
Source: starsunfolded

इस बुक में ये भी ख़ुलासा हुआ है कि एक बार जब संजय दत्त पूछताछ में सही जवाब नहीं दे रहे थे तो राकेश मारिया ने उनको जोरदार थप्पड़ जड़ दिया था. मारिया ने बताया कि वो काफ़ी दिनों से इस केस को लेकर परेशान थे, संजय दत्त सही बातें बता नहीं रहे थे. तब उन्होंने संजय को एक जोर का तमाचा मारा.

ये भी पढ़ें: आप संजय दत्त को पसंद, नापसंद कर सकते हैं. पर संजय वो हैं, जो ग़लती मानना और सुधारना जानते हैं 

sanjay dutt 1993 photos
Source: dnaindia

इसके बाद कहा-’मैं तुमसे जेंटलमेन की तरह सवाल पूछ रहा हूं, तुम उसके जवाब भी जेंटलमेन की तरह दो.’ थप्पड़ खाने के बाद संजय सिहर गए थे. कुछ देर बाद उन्होंने अवैध रूप से हथियार रखने की बात कु़बूल कर ली. 

सुनील दत्त के पैरों तले खिसक गई थी ज़मीन  

sanjay dutt father
Source: indianexpress

वहीं, बेटे को बेगुनाह मान रहे सुनील दत्त को इस बात की कोई भनक नहीं थी. वो अपने अपने बेटे को रिहा करवाने की पुरजोर कोशिश में जुटे थे. उनसे जेल में मिलने भी गए. यहीं संजय ने उनके सामने अपने गुनाह कु़बूल किए. तब सुनील दत्त के पैरों तले ज़मीन खिसक गई थी.

पूरी तरह टूट गए थे संजय दत्त

sanjay dutt 1993
Source: bollywoodlife

राकेश मारिया ने इस किताब में ये भी बताया है इस इंसिडेंट के बाद संजय दत्त (Sanjay Dutt) बिल्कुल टूट गए थे. वो हर रोज़ राकेश मारिया से मिलने की गुज़ारिश करते. राकेश अपना सारा काम निपटाकर रात में उन्हें मिलने जाते थे. उन्हें डर था कि कहीं वो कोई ग़लत कदम न उठा ले या ख़ुद को नुकसान न पहुंचा दे. जब भी राकेश संजय दत्त से मिलते तो वो उन्हें अपनी मां और पिता से रिश्ते के बारे में बात करते. उन्होंने अपने ड्रग एडिक्शन और गर्लफ़्रेंड्स के बारे में भी बातें की. वो कई बार अपनी मां को याद कर रोने भी लगते थे.