जब-जब इंसानियत और दरियादिली का ज़िक्र होगा ज़ुबान पर सोनू सूद का नाम होगा. सोनू सूद हर दिन दरियादिली का एक नया उदाहरण पेश कर रहे हैं. इस बार भी वो एक रोती हुए लड़की का दुख नहीं देख पाये. दरअसल, बारिश में अंजली नामक आदिवासी लड़की का घर और किताबें नष्ट हो गईं थीं. बस इतना देखते ही उन्होंने लड़की की मदद का ऐलान कर दिया. 

Twitter

सोशल मीडिया पर वीडियो मुकेश नामक ट्टिटर यूज़र ने शेयर किया था. वीडियो छत्तीसगढ़ के बीजापुर के कोमला गांव का है. रिपोर्ट के अनुसार, पिछले कुछ समय से बीजापुर और सुकमा में काफ़ी बारिश हो रही है. 200 गांवों में करीब 120 घरों में लगभग 120 लोगों की मौत हो गई. इसी बारिश में अंजली नामक लड़की ने भी अपनी किताबें और घर खो दिया. 

किताबों और घर की ये स्थित देख कर अंजली के आंसू निकल आये. किताबों के प्रति ऐसा प्रेम हर किसी में देखने को नहीं मिलता. सोनू सूद ने जब उसके आंसू देखे, तो लिखा आंसू पोंछ ले बहन...किताबें भी नयी होंगी.. घर भी नया होगा. 

सच में सोनू सूद इंसान के रूप में मसीहा हैं. 

News के और आर्टिकल्स पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.