घरेलू हिंसा को नज़रअंदाज़ कर जो लोग कहते हैं कि पति ने एक बार हाथ उठा दिया तो क्या हुआ? अच्छे से बात कर फ़ैमिली के बारे में उसे समझा सब सही हो जाएगा. समाज की सोच पर करारा 'थप्पड़' जड़ा है तापसी पन्नू की फ़िल्म थप्पड़ ने. ट्रेलर में तापसी के साथ-साथ बाकी लोगों द्वारा बोले गए डायलॉग काफ़ी बेहतरीन और ज़िंदगी से जुड़े लगते हैं.

जोड़कर रखनी पड़े कोई चीज़ तो, मतलब टूटी हुई है न...

रिश्ते बनाने में उतना Efforts नहीं लगता, जितना निभाने में लगता है...
कई बार सही करने का रिज़ल्ट हैप्पी नहीं होता....

उसने मुझे मारा पहली बार, नहीं मार सकता, बस इतनी सी बात है और मेरी पीटिशन भी इतनी सी है...तापसी की ये लाइन हर उस लड़की को सुननी चाहिए, जो पहली अपने साथ हुई वॉयलेंस को भूल कर आगे बढ़ जाती है क्योंकि शुरुआत वही होती है.

Source: indiatoday

अनुभव सिन्हा निर्देशित ये फ़िल्म समाज की सोच को झिंझोड़ने का काम करेगी या नहीं ये तो फ़िल्म आने के बाद पता चलेगा. फ़िल्म में तापसी पन्नू के अलावा राम कपूर, रत्ना पाठक शाह, पवेल गुलाटी, मानव कौल, दिया मिर्ज़ा, कुमुद मिश्रा और तन्वी आज़मी हैं. फ़िल्म 28 फरवरी को रिलीज़ होगी.

Entertainment से जुड़े आर्टिकल ScoopwhoopHindi पर पढ़ें.