लाइफ़ में हर किसी को किसी न किसी चीज़ का इंतज़ार रहता है. अब जैसे कि फ़िल्मी फ़ैंस को हर फ़्राइडे का. सप्ताह की शुरूआत होते ही फ़ैंस सोचते हैं कि कब शुक्रवार आये और कब हम सिनेमाहाल में फ़िल्म देखने जायें. वीकेंड एंजॉय करने का इससे अच्छा तरीक़ा और हो भी क्या सकता है.  

CinemaHall
Source: mansworldindia

वैसे एक बात बताओ अब तक की ज़िंदगी में तुम कई बार फ़्राइडे को मूवी देखने गये होगे. है न! पर सोचा है कि बॉलीवुड वाले फ़िल्म रिलीज़ के लिये शुक्रवार का दिन ही क्यों चुनते हैं? ये बात भला आप सोचेंगे भी कैसे, क्योंकि आप तो मूवी देखने में व्यस्त होते हैं. इसलिये हमने सोचा क्यों न आज इस राज़ से पर्दा उठा दिया जाये.  

Akshay Kumar Film Gold
Source: dnaindia

आइये जानते हैं कि फ़्राइडे को ही क्यों रिलीज़ होती है फ़िल्म? 

कहते हैं हिंदुस्तान में फ़्राइडे फ़िल्म रिलीज़ की शुरूआत 1950 के आखिरी में हुई थी. ‘मुग़ल-ए-आज़म‘ हिंदी सिनेमा की पहली फ़िल्म थी, जिसे शुक्रवार को रिलीज़ किया गया था. फ़िल्म 5 अगस्त 1960 में रिलीज़ हुई थी. ‘मुग़ल-ए-आज़म‘ की सफ़लता को देखते हुए प्रोड्यूसर्स ने शुक्रवार को फ़िल्म रिलीज़ करने का मन बना लिया. 

mughal-e-azam
Source: News18

दूसरी थ्योरी 

फ़्राइडे फ़िल्म रिलीज़ की एक दूसरी थ्योरी भी है. माना जाता है कि हिंदुस्तान में शुक्रवार को फ़िल्म रिलीज़ करने का आईडिया हॉलीवुड से चुराया गया है. हॉलीवुड फ़िल्म ’Gone With the Wind’ शुक्रवार को रिलीज़ हुई थी और सुपरहिट भी साबित हुई. इसके साथ ही फ़िल्म को कई अवॉर्ड्स भी मिले थे. 15 दिसंबर 1939 में शुक्रवार को रिलीज़ हुई फ़िल्म का चारों ओर हल्ला देख बॉलीवुड ने फ़िल्म फ़्राइडे रिलीज़ करने का मन बनाया है. यही कारण है कि इसकी शुरूआत ‘मुग़ल-ए-आज़म‘ से हुई थी. 

Gone With The Wind
Source: scroll

शुक्रवार को फ़िल्म रिलीज़ का एक कारण वीकेंड भी माना जाता है. वीकेंड पर अधिकतर लोग काम से फ़्री होकर मस्ती करना चाहते हैं. अगर फ़िल्म फ़्राइडे रिलीज़ होगी, तो वीकेंड पर कलेक्शन अच्छा होता है, जो कि अब तक होता आया है. कई प्रोड्यूर्स का मानना है कि शुक्रवार को फ़िल्म रिलीज़ से उन पर लक्ष्मी की कृपा बनी रहेगी.

War Film
Source: cision

वहीं एक वजह कॉमर्शियल भी है.कि फ़िल्म की स्क्रीनिंग फ़ीस मल्टीप्लेक्सेस में फ़्राइडे को छोड़कर हफ्ते के बाकी दिनों में ज़्यादा होती है.अगर प्रोड्यूसर किसी और दिन फ़िल्म रिलीज़ करेंगे, तो सिनेमा मालिकों को ज़्यादा पैसे देने होंगे. इसलिये शुक्रवार सही समय होता है रिलीज़ के लिये.

Richa Chadda And Kangna
Source: cosmopolitan

ऐसा भी नहीं है कि अगर फ़िल्म शुक्रवार को रिलीज़ होगी, तभी हिट होगी. ‘रंग दे बसंती’ और ‘सुल्तान’ इसका बड़ा उदाहरण हैं.  

Rang De Basanti
Source: indiatoday

फ़िल्मी फ़ैंस के लिये हम आगे भी ऐसी जानकारियां लेकर आते रहेंगे और इसके लिये शुक्रिया शुक्रवार को कहना.