भारतीय जहां भी जाते हैं, धमाल मचाते हैं. बात चाहे अमेरिका की हो, या कनाडा की, भारतीय हर जगह छाये रहते हैं. भारत के खाते में एक और उपलब्धि जुड़ी है. भारतीय मूल की एक पगड़ीधारी सिख महिला को पहली बार कनाडा के सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीश बनाया गया है.

Source: HT

पलबिंदर कौर शेरगिल पहली महिला पगड़ीधारी सिख हैं, जो ब्रिटिश कोलंबिया New Westminster स्थित सुप्रीम कोर्ट में जज बनी हैं.

कनाडा के Minister of Justice और Attorney General ने शुक्रवार को पलबिंदर कौर की नियुक्ति की घोषणा की. उनका चयन October 20, 2016 को गठित हुए, नए न्यायिक प्रक्रिया को ध्यान में रखते हुए किया गया है. ये नए नियम पारदर्शिता, मेरिट और विविधता को ध्यान में रखकर बनाये गए हैं. पलबिंदर की नियुक्ति Justice EA Arnold-Bailey की जगह हुई है, जो कि 31 मई को अपने कार्यकाल से रिटायर हुए थे.

इससे पहले पलबिंदर Human Rights Advocate थीं. पलबिंदर सिख समुदाय से जुड़े मुद्दों को लेकर, सुप्रीम कोर्ट में अपनी बात रखती रही हैं. सिख छात्रों के कृपाण रखने के अधिकार पर भी इन्होंने सुप्रीम कोर्ट में अपना पक्ष रखा था.

विश्व सिख संगठन के अध्यक्ष मुखबिर सिंह ने उनकी नियुक्ति पर कहा है  कि, 'जस्टिस शेरगिल की नियुक्ति, कनाडा में रहने वाले सिख समुदाय के लिए एक मील का पत्थर साबित होगी. यह हमारे लिए गर्व का विषय है कि एक महिला पगड़ीधारी सिख को न्यायाधीश का पद मिला है.'

पलबिंदर जालंधर ज़िले के रुरका कलान में पैदा हुई थीं. जब ये चार साल की थीं तभी इनका परिवार भारत छोड़कर Williams Lake, ब्रिटिश कोलंबिया में बस गया था. इन्होनें कानून की पढ़ाई University of Saskatchewan से की है. इन्होंने ब्रिटिश कोलंबिया बार में 1991 में रजिस्ट्रेशन कराया था. शेरगिल न्यायिक और सामुदायिक दोनों तरह की सेवाओं में सक्रिय रही हैं.

जस्टिस शेरगिल Queen’s Counsel में 2012 नियुक्त हुई थीं जहां इन्हें Community Service के लिए Queen’s Golden Jubilee Medal मिला था. कनैडियन कैबिनेट, Trial Lawyers Association of BC और Canadian Bar Association के लिए काम कर चुकीं जस्टिस शेरगिल Board of Directors of the Fraser Health Authority, BC की भी मेंबर रह चुकीं हैं.

जस्टिस शेरगिल सामाजिक सरकारों से हमेशा जुड़ी रही हैं. स्कूलों में उन्होंने संगीत और मर्शल आर्ट्स की स्वैच्छिक सेवाएं भी दी हैं. शेरगिल कई भाषाओं की जानकार हैं. हिंदी और पंजाबी से उन्हें विशेष लगाव है.

पलबिंदर कौर शेरगिल ने अपनी इस उपलब्धि से पूरे देश को गौरवान्वित किया है.

Article Source: HT