World Health Day: केवल शारीरिक रूप से स्वस्थ होना मतलब पूर्ण रूप से स्वस्थ होना ऐसा नहीं होता. बल्कि जब हम शारीरिक, मानसिक और सामाजिक तीनों स्तर पर स्वस्थ रहते हैं, तब हम असल मायनों में हम खुद को स्वस्थ मान सकते हैं. और इसी उद्देश्य के साथ हर साल 7 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य दिवस (World Health Day) मनाया जाता है.

health
Source: bizwatchnigeria

तो आइए जानते हैं कि, कब और कैसे हुई थी 'विश्व स्वास्थ्य दिवस' (World Health Day) की शुरुआत और स्वास्थ से जुड़े 10 वैश्विक इंट्रेस्टिंग फ़ैक्ट्स -  

ये भी पढ़ें:- सिर्फ़ शारीरिक स्वास्थ्य पर ही नहीं, मानसिक स्वास्थ्य पर भी पड़ता है स्मोकिंग का असर  

World Health Day

कब और कैसे हुई थी 'विश्व स्वास्थ्य दिवस' की शुरुआत  

WHO
Source: reuters

साल 1948 में 7 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO - World Health Organization) की स्थापना की गई थी, जबकि विश्व स्वास्थ्य दिवस को मनाने की शुरुआत साल 1950 में ही WHO द्वारा की गई थी, तब से पूरे विश्व में इसे 'विश्व स्वास्थ्य दिवस' (World Health Day) के रूप में मनाया जा रहा है. 1950 से ही WHO से जुड़े सभी देश विश्व स्वास्थ्य दिवस को मना रहे हैं. जैसे-जैसे WHO से नए देश जुड़ते गए वैसे-वैसे विश्व स्वास्थ्य दिवस का प्रसार होता गया. और WHO की अधिकृत वेबसाइट www.who.int के मुताबिक़ वर्तमान में 194 देश WHO के सदस्य हैं.   

विश्व स्वास्थ्य दिवस की थीम  (World Health Day 2022 Theme)

world-health-day-theme
Source: avsahpaathi

विश्व स्वास्थ्य दिवस 2022 (World Health Day 2022) की थीम है, 'हमारा ग्रह, हमारा स्वास्थ्य (Our planet, Our Health)'. साल 2022 की थीम का उद्देश्य ये है कि, हमारा ग्रह और उस पर रहने वाले लोगों की भलाई की ओर पूरी दुनिया का ध्यान आकर्षित करना है. 


 WHO अनुसार, 'विश्व स्वास्थ्य दिवस 2022' (World Health Day) पर एक वैश्विक महामारी, एक प्रदूषित ग्रह, अस्थमा, कैंसर और हृदय रोग जैसी बढ़ती बीमारियों के बीच, WHO इंसान और ग्रह को हेल्दी रखने के लिए आवश्यक कामों पर दुनिया का ध्यान केंद्रित करने का प्रयास कर रहे हैं. 

विश्व स्वास्थ से जुड़े 10 रोचक तथ्य   

1. हृदय रोग मृत्यु का प्रमुख कारण

Cardiovascular Diseases
Source: nhlbi

दुनिया भर में, 'हृदय रोग' (Cardiovascular Diseases) मृत्यु का प्रमुख कारण हैं. दुनिया में अब तक हृदय रोग से अब तक 30% लोगों की जान जा चुकी है.

2. 80% मृत्यु को रोका जा सकता है

workout
Source: bodybuilding

समय से पहले होने वाली इन मौतों में से कम से कम 80% मौत को हेल्दी डायट लेकर, नियमित शारीरिक वर्कआउट करके और तंबाकू का सेवन न करके रोका जा सकता है.

3. इन सुधारों से बच सकती हैं लाखों जानें

water-supply
Source: smartcityamritsar

स्वच्छता, वॉटर सप्लाई और वॉटर रिसोर्स मैनेजमेंट में सुधार करके दुनिया भर में लगभग 10% बीमारियों और 6.3% मौतों को रोका जा सकता है.

4. ज़्यादातर इन बीमारियों से हो रही बच्चों की मृत्यु

children
Source: naidunia

हर साल, 5 साल से कम उम्र के लगभग 70 लाख बच्चों की मृत्यु हो जाती है. इनमें से 97% मौतें विकासशील देशों (Developing Countries) में होती हैं. इन मौतों के पीछे मुख्य वजह निमोनिया, डायरिया, भुखमरी और कुपोषण जैसी संक्रामक बीमारियां हैं.

5. 4 करोड़ लोग HIV से पीड़ित हैं

HIV
Source: insider

ऐसा अनुमान है कि, वर्तमान में दुनिया भर में 4 करोड़ लोग एचआईवी (HIV) या एड्स से पीड़ित हैं. और इसमें से लगभग 70% मामले केवल सहारा अफ़्रीका में मौजूद हैं.   

6. स्वास्थ्य लागत की वजह से 10 करोड़ लोग हुए ग़रीब

poverty
Source: amarujala

कोरोना महामारी और दूसरे स्वास्थय समस्याओं की वज़ह से लगने वाली स्वास्थ्य लागत ने 10 करोड़ लोगों को ग़रीबी में धकेल दिया.  

7. हर साल 1.5 करोड़ बच्चे समय से पहले जन्म लेते हैं

Infant Death
Source: deccanherald

समय से पहले जन्म, प्रेगनेंसी के 37 हफ़्ते से पहले जन्म, वैश्विक स्तर पर शिशु मृत्यु दर (Infant Death Rate) का सबसे आम कारण है. हर साल 1.5 करोड़ बच्चे समय से पहले जन्म लेते हैं और उनमें से 1 करोड़ से अधिक बच्चों की मौत हो जाती हैं.   

8. वैश्विक औसत जीवन आशा बढ़ी

health
Source: indianexpress

पिछले 20 सालों में वैश्विक औसत जीवन आशा (Global Average Life Expectancy) में अद्भुत बढ़ोत्तरी हुई है.  

9. प्रसव से जुड़ी जटिलता के कारण हो रही मृत्य

poor pregnant women
Source: thefacteye

एक रिपोर्ट के अनुसार, गर्भावस्था और प्रसव से जुड़ी जटिलता के कारण हर रोज़ 800 महिलाओं की मौत हो जाती है.  

10. सीमित लोगों तक हैं स्वास्थ्य सेवाएं

public-health-services
Source: scroll

दुनिया में आधे से भी कम लोगों की आवश्यक स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच है. भारत में आज भी कई ऐसे पिछड़े गांव हैं, जहां नहीं है किसी प्रकार की स्वास्थ सेवाएं. 

ये भी पढ़ें: WFH करते हुए अगर रखोगे इन 10 बातों का ध्यान रखेंगे तो रहोगे फ़िज़िकली और मेंटली फ़िट