World's Health Day: स्वस्थ जीवन के बिना किसी भी चीज़ या पल को आप एंज़ॉय नहीं कर सकते हैं. इसलिए हेल्थ से बड़ी कोई संपत्ति नहीं मानी जाती. ख़ासकर हम कोरोना वायरस जैसी महामारी के दौरान हेल्थ के बारे में ज्यादा ही सचेत हो चुके हैं. इस वायरस के कारण हम घरों में क़ैद हो गए हैं. मगर काम भी ज़रूरी है इसलिए "वर्क फ्रॉम होम" का ट्रेंड चला और अबतक जारी है. अब भाई! वर्क फ्रॉम होम आ तो गया, लेकिन अपने साथ कई और बीमारियों और समस्याओं को साथ लेके आया. उनमे से एक है- नींद न आने की समस्या. इससे काफ़ी भारतीय जूझ रहे हैं. इस बार हेल्थ डे (World's Health Day) के मौके पर हम हेल्दी लाइफ़ के लिए #GoodHealthGoodYou के जरिेए कुछ ज़रूरी बातें बताने जा रहे हैं. 

anxiety
Source: gifti

चलिए जानते हैं कि, कैसे ये वर्क फ्रॉम होम हमारे शरीर को प्रभावित कर रहा है, और कैसे कुछ आदतों को अपनाने से आप अपने "स्लीपिंग साइकिल" को सही कर सकते हैं. क्योंकि एक स्टडी रिपोर्ट के मुताबिक, 67 प्रतिशत भारतीय व्रक फ्रॉम होम के दौरान नींद की परेशानी से जूझ रहे हैं. (World's Health Day)

ये भी पढ़ें: WFH करते हुए अगर रखोगे इन 10 बातों का ध्यान रखेंगे तो रहोगे फ़िज़िकली और मेंटली फ़िट

कैसे शुरू हुआ "वर्क फ्रॉम होम" का सिलसिला

workfromhome
Source: dna

ज़िन्दगी 2020 से पहले काफ़ी अच्छी चल रही थी की, 2020 मार्च में कोरोना वायरस की वज़ह से लॉकडाउन लगा. जब तक लोग समझ पाते इस बीमारी को तब तक ऑफिस से लेकर स्कूल और कॉलेज सब चीज़ों पर ताला लगाना पड़ा. मगर इनके संचालन के लिए स्कूल से लेकर ऑफिस को ऑनलाइन शुरू कर दिया गया. जिससे कामधाम चलता रहे. मगर इस वजह से अधिकतर लोग मानसिक रूप से बहुत परेशान दिखे. (World's Health Day) 

वर्क फ्रॉम होम की कहानी से शुरू हुई लोगों की परेशानी!

anxiety
Source: everydayhealth

वर्क फ्रॉम होम ने न सिर्फ हमारे काम करने का तरीका बदला, यहां तक की वह हमारे स्वास्थ्य पर भी ग़हरा प्रभाव डाल रहा था. जिसकी वज़ह कोरोना वायरस के साथ-साथ कई और बीमारियों का भी हमारे जीवन में आगमन हुआ. जिसमे मोटापा, टेंशन, वर्क लोड और नींद न आना जैसी परेशानियां शुरू हो गयी. (World's Health Day)

वर्क फ्रॉम होम की वज़ह से नींद न आना थी, सबसे बड़ी समस्या

sleeplessnight
Source: homecaremag

लॉकडाउन अगर कुछ लोगों के लिए अच्छा था, तो कुछ लोगों के लिए बुरे सपने की तरह रहा. बस इतना ही नहीं, लॉकडाउन की वज़ह से लोगों के ऊपर समय को मैनेज करने की समस्या आकर खड़ी हो गयी. जिसकी टेंशन न उन्हें ढंग से काम करने दी और ना ही घर संभालने दिया. इस दौरान अनबैलेंस लाइफ़स्टाइल, वर्क लोड और जॉब की अन्य दिक्कतों ने लोगों की नींद उड़ा दी. (World's Health Day)

वर्क फ्रॉम होम अब ज़िन्दगी का हिस्सा बन चुका है

wfh
Source: forbes

देखते-देखते 2022 शुरू हो गया है. इसी के साथ हमे वर्क फ्रॉम होम करते हुए लोगों को करीब़ 2 साल चुके हैं. अब घर से काम करना "नॉर्मल" हो गया है. हालांकि, अब सारे स्कूल, ऑफिस और कॉलेज खुल चुके हैं. लेकिन, हमारी नींद के ऊपर जो असर पिछले 2 सालों में पड़ा है, वो आज भी लोगों को परेशान कर रहा है. लोग आज भी समय से ना सो पाने की वज़ह से परेशान हैं. (World's Health Day) 

वर्क फ्रॉम होम की वज़ह से बिगड़ते "स्लीप साइकिल" के कारण-

sleepdisorder
Source: healio

- लगातर लैपटॉप के सामने सोकर या बैठकर काम करना

- लेट नाईट तक मूवी देखना

- हैवी डिनर

- वर्कआउट ना करना

- ठीक से टाइम मैनेज ना कर पाना.

5 आदतें जो कर देगी आपकी "स्लीप साइकिल" को सही

happypeople
Source: forbes

ये भी पढ़ें: 'रात में नींद आती नहीं, वर्क फ़्रॉम होम में जाती नहीं' समस्या के शिकार लोगों के लिए 11 तोड़ू टिप्स

1. वर्क फ्रॉम होम की वज़ह से हमारी वर्क-लाइफ़ और होम-लाइफ़ के बीच तालमेल नहीं बन पाता है. यूं कह लें कि थोड़ा मुश्किल हो जाता है. उसे ठीक करने के लिए, आप लॉगआउट करने के बाद आप अपने फ़ोन और वर्क रिलेटेड चीज़ों को खुद से दूर कर दें (अगर ज़रूरी न हो तो). काम ख़त्म होने के बाद एक लम्बी वॉक के लिए निकल जाएं. इससे आपकी बॉडी रिलैक्स हो जाएगी और आपको नींद भी अच्छी आएगी. (World's Health Day)

walking
Source: nytimes

2. मेडिटेशन (ध्यान) करने से आपका मन शांत होता है. अगर आप पूरे दिन काम करके परेशान हैं, तो इससे अच्छा इलाज कहीं और नहीं मिलेगा. ध्यान करने से सारी टेंशन कम हो जाती है और नींद भी काफ़ी अच्छी आती है. (World's Health Day)

meditation
Source: npr

3. स्क्रीन-टाइम को कम करें. लोग अक़्सर अपनी टेंशन फ़ोन में सोशल मीडिया स्क्रॉल करके कम करते हैं. लेकिन, इसकी वज़ह से आंखों पर बुरा असर पड़ता है. क्योंकि सोशल मीडिया एक बहुत बुरी लत है. जो आपको रातों तक जगा कर रखती है, तो सोने के 2 घण्टे पहले अपना फ़ोन और गैजेट ख़ुद से दूर कर लें. (World's Health Day) 

sleepcycle
Source: homecaremag

4. कॉफ़ी जैसे चीज़ों को रात में सेवन ना करें. कॉफ़ी बहुत ही स्वादिष्ट होती है. जिसे नींद भगाने के लिए लोग पीते हैं. लेकिन, अधिक मात्रा में कॉफ़ी पीने से आपकी नींद के ऊपर भी असर पड़ सकता है. इसीलिए सोने के 6 घंटे पहले ही कॉफ़ी का सेवन करें, बिस्तर पर जाने से जस्ट पहले इसे ना पिएं.(World's Health Day)

coffee
Source: theweek

5. व्यायाम ज़रूर करें. व्यायाम करने के अनगिनत फ़ायदे हैं. जिसमे से एक है "अच्छी नींद" अगर आप वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं. तो व्यायाम ज़रूर करें. इससे न सिर्फ़ आपकी सेहत अच्छी रहेगी, बल्कि नींद भी अच्छी आएगी. (World's Health Day)

exercise
Source: virtualhealthpartners

अगर आप खुद को हेल्दी रखना पसंद करते हैं. आपके लिए भी स्वस्थ जीवन मायने रखता है, तो आप हमारे #GoodHealthGoodYou हैशटैग के साथ अपनी बात लिख सकते हैं.