Matire Ki Raad: भारत में आज़ादी से पहले और आज़ादी के बाद कई युद्ध लड़े गए. इनका अपना-अपना महत्व और कारण था. मगर देश के इतिहास में एक बार ऐसा भी हुआ है जब एक मतीरे यानी तरबूज के लिए दो रियासतों में युद्ध हुआ. 

ये अनोखा युद्ध कब और क्यों हुआ, इसकी कहानी बहुत ही दिलचस्प है. चलिए भारत के इतिहास का हिस्सा बनी इस अजब-ग़ज़ब वॉर के बारे में भी जान लेते हैं.

इन रियासतों के बीच हुआ युद्ध

watermelon
bustlingnest

बात 1644 ईस्वी की है. जब राजस्थान की बिकानेर और नागौर रियासतों के बॉर्डर पर ये युद्ध एक तरबूज के ख़ातिर लड़ा गया. दरअसल, बीकानेर के सिलवा गांव में एक तरबूज की बेल उगी. इसका फल नागौर रियासत के गांव जखनी गांव में लगा. ये दोनों ही गांव अपनी-अपनी रियासतों की सीमा पर मौजूद थे.

ये भी पढ़ें: दांडपट्टा: मराठा योद्धाओं का वो अचूक हथियार जिसके दम पर उन्होंने जीते थे कई युद्ध

दोनों गांव के बीच हुआ झगड़ा

Matire Ki Raad
thgim

तरबूज का ये फल जब बढ़कर तैयार हो गया तो इस पर दोनों गांव के लोगों ने अपना-अपना दावा किया. दोनों कहने लगे कि इस पर उनका हक़ है. मगर जब बातचीत से बात नहीं बनी तो दोनों ही गांवो के बीच युद्ध छिड़ गया. बिकानेर की फ़ौज ने अपने गांव और नागौर की फ़ौज ने अपने गांव वालों के ये युद्ध लड़ा.

राजाओं को नहीं थी कुछ ख़बर

war
istockphoto

बीकानेर की सेना का नेतृत्व रामचंद्र मुखिया कर रहे थे और नागौर की सेना का नेतृत्व सिंघवी सुखमल कर रहे थे. इस लड़ाई में कई सैनिक मारे गए. मज़े की बात ये है कि जिन रियासतों के बीच ये लड़ाई हुई थी उनके राजा इससे बेख़बर थे. बीकानेर के राजा करण सिंह किसी अभियान में व्यस्त थे और नागौर के राजा राव अमर सिंह मुग़ल साम्राज्य की सेवा में थे. 

Matire Ki Raad
wikimedia

दोनों ही रियासतें तब मुग़ल साम्राज्य के अधीन थी. राजाओं को जब इसका पता चला तो उन्होंने मुग़ल दरबार में इसे रोकने की गुहार लगाई. मगर जब तक मुग़ल सल्तनत के लोग कुछ करते तब तक युद्ध समाप्त हो चुका था. इस युद्ध को मतीरे की राड़ के रूप में जाना जाता है. क्योंकि राजस्थान में तरबूज को मतीरा और लड़ाई को राड़ कहा जाता है.

ये भारत के इतिहास में फल के लिए लड़ी गई संभवत: एकमात्र जंग है.