Pablo Picasso : कलाकार तो बहुत हुए, लेकिन चंद ही लोग ऐसे हुए जिन्होंने अपनी कला के ज़रिए इतिहास में नाम दर्ज कराया. इनमें एक नाम स्पेनिश पेंटर पाब्लो पिकासो का भी आता है. स्पेन का ये पेंटर अपनी चित्रकारी के ज़रिए ऐसा पूरे विश्व में मशहूर हुआ कि लोग इनकी पेंटिंग के दीवाने हो गए थे. वहीं, उनके बारे में कहा जाता है कि वो चित्रकारी में इतने दक्ष थे कि कुछ सेकंड में पेंटिंग बनाने की क़ाबिलियत रखते थे. हालांकि, उनकी निजी ज़िंदगी काफ़ी विवादों व जटिलताओं से भरी रही. आइये, इस ख़ास लेख में जानते हैं इस महान पेंटर के बारे में. 

आइये, अब विस्तार से जानते हैं Pablo Picasso की ज़िंदगी के बारे में. 

पाब्लो पिकासो  

picasso
Source: mymodernmet

पाब्लो पिकासो का जन्म स्पेन के मलागा में 25 अक्टूबर 1881 को हुआ था. उन्हें 1901 से पहले Pablo Ruiz व Pablo Ruiz Picasso से जाना जाता था. पाब्लो को 20वीं शताब्दी के चुनिंदा सबसे प्रभावी व महान कलाकार में गिना जाता है. उनके पिता का नाम José Ruiz Blasco था जो ड्राइंग के प्रोफ़ेसर थे. वहीं, उनकी माता का नाम था Maria Picasso López. 

बचपन से ही थी चित्रकारी में दिलचस्पी  

pablo picasso
Source: architecturaldigest

Pablo Picasso को बचपन से ही चित्रकारी में दिलचस्पी थी. 10 साल की उम्र से ही पिता के शिष्य बनने के बाद उनकी चित्रकारी में दक्षता आना शुरू हो गया था. वो जो कुछ अपने पिता से सीखते उसके साथ अलग-अलग तरह के प्रयोग करते और नई चीज़ को सामने लाकर रखते. 1891 उनका परिवार स्पेन के ही दूसरे शहर A Coruña में शिफ़्ट हो गया था. यहां उनके पिता ने अपनी सभी दक्षता पाब्लो को देने का काम किया और 13 साल की उम्र में उनकी पहली प्रदर्शनी (Exhibition) के लिए उनका समर्थन और सहयोग किया.

16 साल की उम्र में उन्हें Royal Academy of San Fernando (मैड्रिड मौजूद आर्ट स्कूल) भेजा गया. लेकिन, उन्हें वहां औपचारिक निर्देश लेना अच्छा नहीं लगा और उन्होंने क्लासेस लेना बंद कर दिया. लेकिन, उन्होंने Madrid's Prado को काफी गहराई तर बसा लिया था जहां Francisco Goya और El Greco जैसी पेंटिंग लगी हुई थीं.  

क़रीब 13, 500 पेटिंग्स  

picasso
Source: masterworksfineart

Pablo Picasso के अलावा मूर्तियां, सिरेमिक वर्क, कॉस्टयूम व थियेटर सेट का भी निर्माण करते हैं. माना जाता है उन्होंने अपने जीवन काल में क़रीब 13 हज़रा 500 पेंटिंग को पूरा किया था और साथ ही 1 लाख के क़रीब अन्य कलात्मक चीज़ें बनाई थीं.   

करोड़ों में बिकी थी पेंटिंग  

picasso painting
Source: liveauctioneers

1095 में बनाई गई उनकी एक पेंटिंग Christie’s (Auction house) द्वारा निलाम की गई थी. निलामी में उनकी पेंटिंग 115 मिलियन डॉलर में बिकी थी. इस पेंटिंग में एक लड़की हाथ में फूलों का गुलदस्ता लिए खड़ी है.  

30 सेकंड में बना दी थी पेंटिंग  

picasso
Source: erickimphotography

Pablo Picasso से जुड़ा एक क़िस्सा ये भी प्रचलित है कि एक बार एक महिला उनके पास आई और पेटिंग बनाने के लिए आग्रह करने लगी. पाब्लो उस महिला को टालना चाहते थे, लेकिन वो नहीं मानी. पाब्लो ने क़रीब 30 सेकंड का समय लेकर एक पेंटिंग उस महिला को थमा दी औ कहा कि, ‘ये लो मिलियन डॉलर की पेंटिंग’. वो महिला अचरज में पड़ गई कि ये पेंटिंग मिलियन डॉलर की कैसे हो सकती है. कहते हैं कि जब उस महिला ने बाज़ार में उस पेंटिंग क़ीमत पूछी, तो वो सच में मिलियन डॉलर की ही पेंटिंग थी. हालांकि, इस बात से जुड़े सटीक प्रमाण का अभाव है.   

रिश्ते बनाने में रहे कमज़ोर 

picasso
Source: artsandcollections

कहते हैं कि पाब्लों की ज़िंदगी में कई औरतें आईं. वहीं, अलग-अलग समय में उनकी चित्रकारी में उनकी प्रेमिकाएं छाई रहीं. रूसी बैले डांसर ओल्गा कोकलोवा, फर्नांदे ओलिवर व जैक़लीन कुछ महिलाओं के नाम हैं जो काफ़ी कम वक़्त के लिए पाब्लों की ज़िंदगी में रहीं. पाब्लो की प्रेमिकाओं में एक ख़ास नाम सिलवेट डेविड का था. 

कहते हैं कि उनकी कई चित्रकारी में सिलवेट की छलक दिखती थी. वहीं, पाब्लो के रिश्ते में रह चुकी और उनके दो बच्चों की मां फ्रेंग्सवाज जीलो ने 'लाइफ़ विद पिकासो' में कहा है कि, "अगर मैं क़रीब से देखूं, तो पाब्लो की कई प्रेमिकाएं के सिर फंदे से लटके मिलेंगे. उनकी प्रेमिका उनकी प्रेमिका मैरी वॉल्टर और दूसरी पत्नी ने आत्महत्या की थी. लेकिन, सिलवेट डिवेड सकुशल रहीं". 
 कहते हैं कि सिलवट और पाब्लो के बीच 51 वर्ष का अंतर था. जब उनकी नज़र सिलवट पर पड़ी तब उनकी उम्र 70 वर्ष की थी और सिलवट क़रीब 19 वर्ष की थीं. उन्होंने सिलवट के कई चित्र बनाए थे. वहीं, कहते हैं कि जब पाब्लो की मुलाक़ात सिलटव से हुई थी, तब वो अपनी नीजी ज़िंदगी के बुरे दिनों से गुज़र रही थे. फ्रेंग्सवाज जीलो भी उन्हें छोड़कर चली गई थी. 
पाब्लो 8 अप्रैल 1973 को इस दुनिया को अलविदा कहकर चले गए थे, लेकिन आज भी उनकी पेंटिग्स उनकी यादों को ज़िंदा रखे हुए हैं.