Who Captured First Photograph of Tiger in Forest : वाइल्ड लाइफ़ का नाम सुनते ही अंदर एक रोमांचक एहसास दौड़ जाता है. दौड़े भी क्यों न, इंसानों के लिए जंगल का जीवन हमेशा से ही रहस्य और एक दिलचस्प विषय रहा है. ये जानना अपने आप में ही रोमांचक है कि जंगल के छोटे-बड़े जीव अपनी ज़िंदगी कैसे बिताते हैं, क्या-क्या खाते हैं और कैसे शिकार करते हैं. टेलिविज़न के आ जाने से हम बहुत कुछ वाइल्ड लाइफ़ के बारे में जान चुके हैं. 


वहीं, इंटरनेट के दौर में वाइल्ड लाइफ़ से जुड़ी कई दिलचस्प जानकारी हम तक पहुंचती है. ऐसी ही एक जानकारी हम आपके साथ साझा करने जा रहे हैं. वैसे क्या आप जानते हैं उस व्यक्ति के बारे में जिसने जंगल में बाघ की पहली तस्वीर क्लिक की थी. चलिये, बताते हैं इस विषय से जुड़ी पूरी जानकारी.   

सबसे पहले तो आप ये तस्वीर (Who Captured First Photograph of Tiger in Forest) देखिये. ये जंगल में खींची गई बाघ की पहली तस्वीर है.  

Tiger
Source: twitter

Who Captured First Photograph of Tiger in Forest: ये तस्वीर ब्लैक एंड व्हाइट है, जिसमें आप बाघ को शिकार करते हुए देख सकते हैं. ये तस्वीर 1925 में खींची गई थी, जिसमें एक बाघ अपने मुंह में एक जानवर को पकड़े हुए है. इस पुरानी दुर्लभ तस्वीर को नॉर्वे के पूर्व डिप्लोमैट एरिक सोलहेम (Erik Solheim) ने सोशल मीडिया प्लैटफ़ॉर्म Twitter पर साझा किया है और साथ ही तस्वीर से जुड़ी कई जानकारी भी साझा की है. 


एरिक सोलहेम कहते हैं कि, “वर्षों से हम जंगली बाघों की आश्चर्यजनक तस्वीरों से प्रभावित हुए हैं, ख़ासकर भारत से, लेकिन जंगल में बाघ की पहली तस्वीर किसने ली? वो ये रही. इस तस्वीर को 1925 में खींचा गया था. वो थे एक आईएफ़एस (Indian Forest Service) अधिकारी.” 

इस ट्वीट में सोलेहम ने वन्यजीव इतिहासकार और संरक्षणवादी रज़ा काज़मी को भी टैग किया. काज़मी ने सोलहेम को जवाब में कहा कि ये तस्वीर 1925 में एक भारतीय वन सेवा अधिकारी, Frederick Walter Champion द्वारा खींची गई थी. उन्होंने कुमाऊं के जंगलों में चैंपियन द्वारा खींची गई बाघों की दो अन्य तस्वीरें भी साझा कीं.

'द इलस्ट्रेटेड लंदन न्यूज़' पर प्रकाशित की गई तस्वीर  

Tiger
Source: twitter

Who Captured First Photograph of Tiger in Forest:  वन्यजीव इतिहासकार काज़मी ने आगे कहते हैं कि इन तस्वीरों को पहली बार 3 अक्टूबर 1925 को एक साप्ताहिक समाचार पत्रिका ‘द इलस्ट्रेटेड लंदन न्यूज़’ के पहले पन्ने पर प्रकाशित किया गया था. शीर्षक था, "A Triumph of Big Game Photography: The First Photographs of Tigers in the Natural Haunts" 

पत्रिका में चैंपियन कहते हैं कि, "ये तस्वीरें काफ़ी अनोखी है, मेरी जानकारी में इससे पहले कोई ऐसी संतोषजनक तस्वीरें नहीं ली गई है बाघों के मूल निवास में." वहीं, वो आगे ये भी कहते हैं कि, "फ़्लैश इतना अचानक था कि वो शायद इसे बिजली की चमक समझ रहे होंगे." 

8 साल लगे ऐसी तस्वीरों को खींचने में   

Who Captured First Photograph of Tiger in Forest : वन्यजीव इतिहासकार काज़मी के एक ट्वीट के अनुसार, Frederick Walter Champion ने 1900s के दशक के दौरान तत्कालीन संयुक्त प्रांत (अब उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड) में एक वन अधिकारी के रूप में काम किया था और तस्वीरों को कैप्चर करने में उन्हें आठ साल लग गए थे. वहीं, भारत की आज़ादी के बाद वो East Africa के लिए रवाना हो गए थे.    


एक वेबसाइट की मानें, तो Frederick Walter Champion का जन्म यूनाइटेड किंगडम में 24 अगस्त 1893 में हुआ था. एक वाइल्ड लाइ़फ़ फ़ोटोग्राफ़र के रूप में वो 1920s में काफ़ी फ़ेमस हुए थे. वहीं, वो एक ऐसे परिवार में जन्मे थे जो प्रकृति से बेहद प्यार करता था. उनके पिता George Charles Champion एक कीटविज्ञानशास्री थे. वहीं, उनके भाई Harry George Champion भी एक फ़ॉरेस्टर थे.