बचपन में किसी कविता को सीरियस लिया हो या नहीं, लेकिन 'मम्मी की रोटी गोल-गोल' को हम सब कुछ ज़्यादा ही सीरियस ले गए. तभी तो 'गोल रोटी न बना पाना' हमारे देश में परमाणु बम से भी बड़ा मुद्दा है. इस गोल रोटी के चक्कर में गोलियां तक चल जाती हैं. अगर यक़ीन न आए तो मेरी सहकर्मी संचिता पाठक का 'गोल रोटी' पर लेख पढ़ लीजिए.

Gol Roti
Source: wordpress

इस लेख में आपको पता चलेगा कि कहीं भाई ने तो कहीं बाप ने सिर्फ़ 'गोल रोटी' न बना पाने की वजह से बहन और बेटी की गोली मारकर हत्या कर दी. जब से ये पढ़ा है मेरा तो दिल बैठा जा रहा है. क्योंकि मुझे तो गोल रोटी क्या, रोटी भी नहीं बनानी आती? ख़ैर, मेरी छोड़िए मैं तो देख लूंगी क्या करना है?

Girl
Source: vicinito

मगर इस गोल रोटी ने मेरी दोस्त को इतना डरा दिया है कि वो रोज़ 20 रोटी बना देती है, एक गोल रोटी के चक्कर में. क्योंकि उसके पति को प्लेट में गोल रोटी देखकर फ़ीलिंग अच्छी आती है. और न हो तो वो गुस्सा हो जाता है. ये बात वो मुझे बता रही थी तो मैंने उसको ये सारी ख़बरें बता दीं कि गोल रोटी बनाने की वजह से कहीं गोली मारकर तो कहीं बांस से पीट कर मार दिया गया.

Phulka
Source: werecipes

भाई वो तो इतना घबरा गई कि उसने अपनी रोटी 20 से 40 कर दी हैं. अब संक्षेप में थोड़ा मेरी दोस्त के बारे में जान लीजिए. ये मेरी कॉलेज की दोस्त है और दिल्ली में मेरी पड़ोसी. इसने कभी एक गिलास पानी भी नहीं उठाकर पिया है. लेकिन गोल रोटी का ये ख़ौफ़ इससे रोज़ 40 रोटी बनवाता है. तब भी 41वीं उतनी गोल नहीं बनती कि इसके पति को फ़ीलिंग अच्छी आए.

awa is HOT HOT HOT
Source: ajeeshouse

वैसे इसके पति से अबकी बार मिलूंगी तो पूछूंगी कि क्या रोटी को सीधे ही निगल लेते हो? अगर ऐसा भी करते हो तो वो अंदर जाकर तो टूट ही जाती होगी. जब टूट जाती है तो कैसी फ़ीलिंग आती है? क्योंकि तुम्हारी फ़ीलिंग के चक्कर में ये अपना सारी दिन इन रोटियों में लगा देती है और तुम्हें उसकी इस मेहनत के पीछे की फ़ीलिंग नहीं दिखती है.

Chapati
Source: pinterest

ये 'गोल रोटी' का भूसा घर की बुज़ुर्ग महिलाएं ही पुरूषों और लड़कों में भरती हैं. जबकि उन्हें समझाना चाहिए कि खानी तो तोड़ कर ही फिर क्यों शोर मचा रहते हो गोल रोटी नहीं है? लेकिन कैसे समझा दें, उनका लल्ला गोल रोटी नहीं खाएगा तो गोल कैसे होगा?

gol roti
Source: adventugo

इन लोगों की गोल रोटी के चक्कर में लड़कियां रोटी बेल-बेल कर पतली हो जा रही हैं और उन लोगों के नाटक नहीं ख़त्म हो रहे हैं. मेरी दोस्त को गोल रोटी के सपने आते रहते हैं. भइया खानी तोड़कर ही तो चुपचाप जैसी बने खा लो.