गर्मियों का मौसम और ठंडा-ठंडा तरबूज़. वैसे तो बीज से परेशानी होती है, लेकिन खाने से बाज़ नहीं आते हम. एक स्लाइस और पूरी बॉडी तरो-ताज़ा फ़ील करती है. गर्मी से भी राहत मिलती है. तरबूज़ का वॉटर कन्टेन्ट शरीर को अंदर से हाईड्रेटेड रखता है.  

तरबूज़ बाहर से हरा और अंदर से गहरा लाल होता है. ये अलग-अलग साइज़ और शेप के हो सकते हैं. NDTV की एक रिपोर्ट के अनुसार, कर्नाटक के एक किसान, ने पीले रंग का तरबूज़ उगाया है! 

Source: Times Now News

चौंक गये न, फ़ेक न्यूज़ नहीं है. न ही इस किसान ने कोई केमिकल का प्रयोग किया है. बासवराज पाटिल ने ये पीला तरबूज़ वैज्ञानिक तौर-तरीक़ो से ही बनाया है. ये तरबूज़ बाहर से हरा और अंदर से पीला है.  

पाटिल के मुताबिक़, ये तरबूज़ लाल तरबूज़ से ज़्यादा मीठे हैं. पाटिल ने बताया कि उसने 2 लाख इन्वेस्ट किया और 3 लाख कमाए. अपनी फ़सल को बेचने के लिए पाटिल Big Bazaar से बात-चीत कर रहे हैं.  

Times Now News के मुताबिक़, पीले तरबूज़ विटामिन ए और विटामिन सी से भरपूर है. इस तरबूज़ में लाल तरबूज़ से ज़्यादा Beta-carotene और ऐंटीऑक्सिडेंट हैं.

ट्विटर की प्रतिक्रिया-