आजकल लोगों की लाइफ़स्टइल ऐसी हो गई है कि अधिकतर लोग मोटापे की समस्या से ग्रस्त हैं, जिससे निजात पाने के लिए लोग तरह-तरह की तकनीकियों का सहारा भी लेते हैं. हांलाकि, वज़न कम करने के लिए कई घरेलू उपाय भी हैं, लेकिन फिर भी कई बार हम फ़िट दिखने के लिए अपनी जान पर खेल जाते हैं.

अगर आपको ऐसा लगता है कि ये पागलपन सिर्फ़ आज के युवाओं की सोच है, तो ऐसा बिल्कुल नहीं है इस मामले में हमारे पूर्वज भी कुछ कम नहीं थे. आइए जानते हैं कि पुराने समय में किस तरह लोग अपनी जान ख़तरे में डाल मोटापा कम करने की कोशिश करते थे:

1. सूर्य की रौशनी और हवा के सहारे ज़िंदा रहते थे लोग

Mrjam

हम सभी जानते हैं कि इंसान बिना पानी और भोजन के ज़्यादा दिन तक ज़िंदा नहीं रह सकता. जीवत रहने के लिए मनुष्य के शरीर को कई पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है, पर हमारे पूर्वजों को इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता था. वज़न कम करने के लिए वो सूर्य की रौशनी और हवा पर ज़िंदगी का गुज़ारा करते थे. अफ़सोस की इस कारण कई लोग अपनी जान भी गंवा देते थे.

2. Tapeworms खा कर करते थे गुज़ारा

Budejovice

आज के समय में ऐसा सोच कर ही मन घिना जाएगा, लेकिन एक समय ऐसा भी था जब Victorians वज़न घटाने और पतला दिखने के लिए Tapeworms का सेवन करते थे. इसके परिणाम स्वरूप उन्हें कई बीमारियों का सामना भी करना पड़ता था.

3. Arsenic के ज़रिये घटाते थे वज़न

Arsenic का प्रयोग दवाइयों और गोलियों के रूप में किया जाता है. Arsenic शरीर में जमा कैलोरी को जल्द घटाने में मदद करता, लेकिन ये उतना ही ज़हरीला भी होता है. पुराने समय में लोग बिना सोचे-समझे इसका सेवन करते थे, जिसकी हर्ज़ाना लोगों को अपनी जान देकर चुकाना पड़ा.

4. खाना चबा कर थूक देते थे

19वीं शताब्दी के लोगों को इस बात की कोई परवाह नहीं थी कि उनके शरीर में ज़िंदा रहने लायक आवश्यक भोजन जा रहा है या नहीं. वो मोटा न होने के लिए खाना मुंह में रख उसे चबा कर, बाहर थूक देते थे. इस तरीके से उनकी ज़िंदगी भी चलती रहती थी और शरीर का वज़न भी नहीं बढ़ता था.

5. हर रोज़ सिरका पीते थे Lord Byron

फ़ेमस कवि Lord Byron अपनी बॉडी को मेंटेन रखने के लिए हर दिन सिरके का सेवन का करते थे. यहां तक कि वो आलू में भी सिरका डाल कर खाते थे. समय बीतता गया Byron को दस्त और उल्टियों की दिक्कत होने लगी, इसके बाद एक समय ऐसा आया जब उन्हें दुनिया को अलविदा कहना पड़ा. अफ़सोस की बात है कि आज भी युवाओं के बीच Lord Byron की फ़िटनेस काफ़ी लोकप्रिय है.

6. महिलायें साबुन से करती थी वज़न कम

हांलाकि, ये सुनने में काफ़ी फ़नी लगेगा, लेकिन ऐसा होता था. पुराने समय में महिलाएं La-Mar Reducing Soap का इस्तेमाल करके शरीर में जमा अतिरिक्त वसा को कम करने की कोशिश करती थी, जिससे की कोई भी फ़ायदा नहीं होता था.

7. Corsets से रखना चाहते थे खुद को फ़िट

Corsets रबर के बने होते थे, जिससे पहन कर महिला या पुरुष ख़ुद को आकर्षक दिखाने की कोशिश करते थे. ऐसा माना जाता था कि इसे पहनने से शरीर से पसीना निकलता है, जिससे शरीर में जमा चर्बी घटती है. हांलाकि, ये सिर्फ़ एक छल होता था.

8. गृहणियां सलून जाकर वज़न घटाती थीं

1950 के दशक में महिलाएं मोटापा कम करने के लिए सैलून जाती थी, जहां विभिन्न तरीके की मशीनों का उपयोग करके उनके शरीर में जमा अतिरिक्त फ़ैट को हटाया जाता था. हांलाकि, तस्वीर से साफ़ है कि ये प्रक्रिया कितनी दर्दनाक होती होगी.

9. Sauna Pants पहन मोटापा घटाने में करते थे विश्वास

1970 के दशक में Sauna Pants लोगों के बीच काफ़ी प्रचलित थे. उस दौरान लोग इसे पहन कर पसीना निकालने के उद्देश्य से कसरत किया करते थे, लेकिन इससे फ़ायदा न के बराबर होता था.

10. महिलायें करती थीं Vibrating बेल्ट का उपयोग

Vibrating एक तरह की डिवाइस होती थी, जिससे महिलाएं को ख़ुद बांधकर मशीन ऑन कर देती थीं. अफ़सोस इससे वज़न में कोई फ़र्क नहीं आता था, लेकिन हां बाद में एक शोध में इस बात का ख़ुलासा हुआ था कि ये इम्यून सिस्टम के लिए फ़ायदेमंद था.

11. Dieters सुनते थे स्पेशल म्यूज़िक

1920 के दौरान एक्सरसाइज़ एक्सपर्ट Wallace M. Rogerson ने एक यूनिक आईडिया देते हुए बताया कि संगीत सुन कर वज़न कम किया जा सकता है. ये तो साफ़ नहीं है कि ऐसा करने से लोगों के मोटापे में कोई फ़र्क आया या नहीं, लेकिन हां लोग फ़िट रहने के लिए म्यूज़िक ज़रूर सुनते थे.

ख़ुद को फ़िट रखने के कई प्राकृतिक तरीके भी हैं, जिन्हें अपना कर आप अपना वज़न कम कर सकते हैं, लेकिन पतला दिखने के लिए ख़ुद की जान की बाज़ी लगा देना, कहीं की समझदारी नहीं है. अच्छा खाना और 10 मिनट का व्यायाम भी आपको फ़िट रख सकता है.