लाइबी ओइनम! शायद ही किसी ने आज तक ये नाम कभी सुना होगा, लेकिन अब सुनेंगे. कोरोना संकट के बीच इस महिला ऑटो ड्राइवर ने वो कर दिखाया जिसे करने से लोगों ने मना कर दिया था.  

Source: indianexpress

कोरोना संकट के बीच जहां कुछ लोग कोरोना से रिकवर हुए मरीज़ों का सामाजिक बहिष्कार करने में लगे हुए हैं. वहीं मणिपुर की रहने वाली इस ऑटो ड्राइवर ने देर रात 140 किलोमीटर का सफ़र तय करके कोरोना से रिकवर हुई एक महिला को उसके घर तक पहुंचाकर इंसानियत की मिसाल पेश की है.   

मणिपुर सूचना विभाग ने एक प्रेस रिलीज़ जारी कर बताया कि, कोरोना से पीड़ित 22 वर्षीय सोमिचोन चिथुंग का इंफ़ाल के 'राजकीय जवाहरलाल नेहरू आयुर्विज्ञान संस्थान' में इलाज चल रहा था. कोरोना से रिकवर होने के बाद 31 मई की दोपहर को सोमिचोन को डिस्चार्ज कर दिया गया था. इस दौरान उसने कोरोना संक्रमण के डर से घर जाने के लिए एंबुलेंस सेवा लेने से मना कर दिया था.  

Source: indianexpress

सोमिचोन चिथुंग का कहना था कि, जब लोगों को पता चला कि मैं कोरोना से रिकवर हुई हूं, तो हर कोई मुझसे दूर भाग रहा था. इस दौरान दोपहर से शाम तक मेरे पिता और चाचा ऑटो और टैक्सी खोजते रहे, लेकिन रात का समय और 140 किमी की दूरी का बहाना बनाकर सभी ने जाने से इंकार कर दिया. मैं बेहद परेशान थी, बस मुझे रोने आ रहा था.  

Source: twitter

इस बीच 52 वर्षीय ऑटो ड्राइवर लाइबी ओइनम को जब इसकी ख़बर लगी, तो वो आधी रात को अपना ऑटो लेकर 'जवाहरलाल नेहरू अस्पताल' पहुंच गईं. इसके बाद लाइबी ने समय और दूरी को देखे बिना ही सोमिचोन को सही सलामत उसके घर पहुंचाने की ठान ली. इसके बाद लाइबी ने 8 घंटे का सफ़र तय करके इस सोमिचोन को इंफ़ाल से 140 किमी दूर कमजोंग स्थित उनके घर तक पहुंचाया. 

Source: twitter

सीएम ने भी की सराहना


मुख्यमंत्री एन. बिरेन सिंह ने ट्वीट कर लिखा 'मुझे पेंगई की ऑटो ड्राइवर लाइबी ओइनम को इनाम के तौर पर 1,10,000 रुपए देते हुए बेहद गर्व महसूस हो रहा है. उन्होंने परेशानी उठाते हुए 8 घंटे का सफ़र तय करके जेएनआईएमएस से डिस्चार्ज लड़की को आधी रात को उनके घर तक पहुंचाया. लाइबी ने सही मायने में इंसानियत की मिसाल पेश की है'.

कौन हैं लाइबी ओइनम?


मणिपुर की रहने वाली 52 वर्षीय लाइबी पिछले कई सालों से ऑटो चलाकर अपने परिवार का पेट पाल रही हैं. ऑटो ड्राइवर होने के साथ ही लाइबी 'स्ट्रीट वेंडर' का काम भी करती हैं. वो इंफ़ाल के पेंगई बाज़ार में अपनी मां और दो बेटों के साथ रहती हैं. अपने परिवार में लाइबी अकेली कमाने वाली सदस्य हैं. 

Source: indianexpress

आज लाइबी ओइनम के इस नेक काम की सोशल मीडिया पर ख़ूब सराहना हो रही है. ट्विटर यूज़र्स ने लाइबी को असली हीरो बताया है.