हम सब जानते हैं कि नदियां हमारे शहरों को जोड़ती हैं, जैसे-जैसे नदियां बहती हैं वैसे ही नदियों के साथ हमारा जीवन चलता है. नदियों के पानी से हम अपनी दिनचर्या के तमाम काम करते हैं, चाहे वो खेतों में सिंचाई का काम हो, या फिर घर का काम. जीविका के साधनों की बात की जाए, तो भी हम व्यापार के लिए नदी पर निर्भर हैं.

हम सब जानते हैं कि पृथ्वी का 71 प्रतिशत हिस्सा पानी से ढका हुआ है. 1.6 प्रतिशत पानी ज़मीन के नीचे है और 0.001 वाष्प और बादलों के रूप में है. पृथ्वी की सतह पर जो पानी है, उसमें से 97 प्रतिशत सागरों और महासागरों में है, जो पीने के लायक नहीं है. पीने के योग्य मात्र 3 प्रतिशत पानी है जिसमें से 2.4 प्रतिशत ग्लेशियरों, उत्तरी और दक्षिणी ध्रुव में जमा हुआ है और केवल 0.6 प्रतिशत पानी नदियों, झीलों और तालाबों में है, जिसे हम इस्तेमाल करते हैं. नदियों के प्रदूषित होने का मूल कारण हमारे द्वारा कूड़ा-कचरा और प्लास्टिक के सामानों को नदियों में बहा दिया जाना है.

दुनिया में ऐसी बहुत सी नदिया हैं जिनकी अपनी मान्यता है, लेकिन ये 15 नदिया ऐसी हैं, जो जितनी ज़्यादा फ़ेमस हैं उतनी ही ज़्यादा प्रदूषित हो चुकी हैं.

1. Citarum River, Indonesia

ये नदी इंडोनेशिया के West Java में बहने वाली सबसे लम्बी और बड़ी नदी है, बड़ी होने के साथ-साथ विश्व में प्रदूषित होने के मामले में भी पहले स्थान पर है. West Java के कृषि और उद्योगों के लिए पानी इसी नदी से जाता है. लगभग 5 मिलियन आबादी इस नदी के किनारे बसी हुई है.

2. Ganga River, India

गंगा भारत की सबसे बड़ी और पवित्र नदी है. भारत के लोग इसे गंगा मैया के नाम से पुकारते हैं. ये नदी भारत में सबसे ज़्यादा प्रदूषित है और विश्व में इसका दूसरा स्थान है. ये नदी 11 राज्यों से होकर बहती है और देश की लगभग 40 प्रतिशत की आबादी इसके किनारे बसती है. लगभग 70 मिलियन लोग गंगा में डुबकी लगाकर अपने को पवित्र करते हैं और साथ ही गंगा को प्रदूषित.

3. Yamuna River, India

यमुना नदी भारत की सबसे लम्बी उपनदी है, जो कि भारत की राजधानी दिल्ली और आस-पास से होकर बहती है. यहां का लगभग 58 प्रतिशत कूड़ा-कचरा यहीं पर डाला जाता है. इसी कारण इसे दुनिया की तीसरी और भारत की दूसरी प्रदूषित नदी कहा जाता है. दिल्ली में औद्योगिक प्रदूषण का स्तर Permitted Limit से 13 गुना अधिक है.

4. Yellow River, China

Yellow River दुनिया की छठी सबसे लम्बी नदी है. चीन के अस्तित्व में इस नदी का एक महत्वपूर्ण स्थान है. चीन में इसे Mother River के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि निचले मार्ग में गन्दा पानी लूट से उठता है, जिससे ये पीला हो जाता है, इसी कारण इसका पानी गंदा होता है. आर्थिक विकास ने चीन की ज़्यादातर नदियों को प्रदूषित किया है.

5. Yangtze River, China

घरेलू उत्पाद, रैपिड औद्योगिक और घरेलू उत्पादन में ये नदी प्रदूषित होती है. एक अध्यन के मुताबिक़, पिछले 50 वर्षों में सैकड़ों शहरों से नदी में 73 प्रतिशत प्रदूषण का स्तर बढ़ गया है. लगभग 25 अरब टन सीवेज और औद्योगिक कचरे को सालाना नदी में छोड़ा जाता है.

6. Pasig River, Philippines

listaka

Pasig नदी, मनीला के लिए पानी का एक आवश्यक स्रोत है. दूसरे विश्व युद्ध के दौरान लोगों ने इस नदी को काफ़ी प्रदूषित कर दिया था. इसका मूल कारण था उस वक़्त बढ़ते कारखाने. उस दौरान आर्थिक समस्यायों से जूझ रही वहां की जनता और सरकारों द्वारा नदी के पानी को इस्तेमाल करने के साथ-साथ इसे प्रदूषित भी किया. तब से लेकर अब तक इस नदी के प्रदूषण का लेवल कभी कम नहीं, बल्कि ज़्यादा ही हुआ है. इसी कारण ये नदी दुनिया की सबसे प्रदूषित नदियों की सूची में आती है.

7. Chaohu Lake, China

gab worthy

ये Lake चीन के Anhui प्रान्त में स्थित है. लगभग 5 लाख लोगों की आबादी इस Lake के आसपास रहती है और इसका उपयोग सिंचाई, परिवहन और मछली पकड़ने के लिए किया जाता है. चीन की आर्थिक वृधि के चलते इस पर बहुत बुरा असर पड़ा है.

8. Doce River, Brazil

bbc

2015 के नवंबर में, दक्षिणी ब्राजील में एक बांध टूट जाने से इस नदी का बुरा हाल हुआ था. कहा जाए तो एक बहुत बड़ी पर्यावरणीय आपदा थी. इस आपदा ने लगभग 16 लाख लोगों को गंभीर रूप से प्रभावित किया था, ज़हरीले अवशेषों के फैलाव ने भी तबाही मचा रखी थी.

9. Marilao River, Philippines

out wardon

Marilao River, फिलीपींस की एक महत्वपूर्ण नदी है और लगभग 250,000 निवासियों को पीने का पानी और सिंचाई योग्य पानी प्रदान करती है. उद्योगों, सोने जैसी और भी कई कीमती धातुओं की रिफ़ाइनरियों से निकले कचरे के कारण ये नदी बेहद ही प्रदूषित हो गई है.

10. Matanza-Riachuelo River, Argentina

rediff

अर्जेंटीना में बहने वाली ये नदी मात्र 64 किलोमीटर लम्बी है. इस नदी के प्रदूषित होने का मूल कारण रसायनिक तत्व हैं. लगभग 15000 उद्योग इस नदी के किनारे लगे हुए हैं. कई उद्योगों और नदी के प्रदूषण के कारण यहां के लोगों को कैंसर और सांस सम्बन्धी कई बीमारियां हो जाती हैं.

11. Jordan River, Israel

haaretz

ये नदी इन दिनों सीरिया में चल रही सिविल वॉर का शिकार हो चुकी है. किसी समय में इसे बाईबिल का जलमार्ग कहा जाता था. प्रचुर (Effluents) और कच्चे सीवेज को नदी में फेंक दिया जाता है. प्रदूषित होने के कारण इस नदी का रंग भूरा हो गया है. गंगा की तरह ही इस नदी की भी धार्मिक मान्यता है, जिस वजह से ये बीमारी की वजह बनती है.

12. Sarno River, Italy

ohneka farms

ये नदी नेपल्स के इतालवी शहर के दक्षिण में बहती है. इसे यूरोप में सबसे प्रदूषित माना जाता है. ये 20 से अधिक वर्षों के लिए प्रदूषित हो गयी है. इसके प्रदूषण का भी मुख्य कारण सोडियम सल्फ़ेट, कास्टिक सोडा है, जो उद्योगों में चमड़े की टेनरीज़ में प्रयोग किये जाते हैं.

13. Buriganga River, Dhaka, Bangladesh

dhaka daily photo

ये पुरानी गंगा है, जो ढाका शहर में बहती है. यहां के लोगों के लिए इसका आर्थिक महत्व बेहद उच्च है, साथ ही साथ ये पीने के पानी का मुख्य स्रोत भी है. हर रोज़ लगभग 4500 टन ठोस कचरे को नदी में छोड़ा जाता है. कभी ये नदी बहुत ही साफ़ और स्वच्छ मानी जाती थी, लेकिन अब इसका पानी बेकार हो गया है.

14. Cuyahoga River, Ohio, USA

history and headlines

Cuyahoga नाम की ये नदी एक भारतीय के नाम पर है. नदी पूर्वोत्तर Ohio में बहती है. 1969 में आग लग जाने से इसका पानी प्रदूषित हो गया था, जिसकी वजह से वहां के लोग आज भी अनेकों परेशानियां झेल रहे हैं.

15. Mississippi River, USA

pinterest

ये नदी दुनिया की चौथी सबसे लम्बी और नौवीं सबसे बड़ी नदी है. एक रिपोर्ट के मुताबिक़, एक साल में 12.7 मिलियन पाउंड ज़हरीले रसायनों को नदी में फेंक दिया जाता है, जिससे पानी ज़हरीला हो जाता है और वहां के लोगों को अनेकों बीमारियां झेलनी पड़ती हैं.

जैसे-जैसे देश की आबादी बढ़ रही है, वैसे ही औद्योगीकरण और कूड़े-कचरे की मात्रा भी दिन पर दिन ज़्यादा होती जा रही है. अकसर हम प्लास्टिक पॉलिथीन, बोतलें, नदियों में बहा देते हैं. अगर नदियों को हम प्रदूषित करेंगे, तो आगे जीवन ज़्यादा चलने वाला नहीं है. अगर हम भारत की नदियों की बात करें, तो शायद ही ऐसी कोई नदी हो, जो पूर्ण रूप से स्वच्छ हो. तमाम योजनायें बनती हैं, करोड़ों रुपये नदियों को स्वच्छ करने के लिए खर्च किये जाते हैं, लेकिन परिणाम जस का तस ही रहता है. नदियां सिर्फ़ उस दिन ही स्वच्छ हो पाएंगी, जब हर नागरिक इसे साफ़ करना अपनी ज़िम्मेदारी समझेगा.