कोरोना के चलते घोषित लॉकडाउन के दौरान कई लोगों को मुसीबतों का सामना करना पड़ा है. इस दौरान कुछ लोग ऐसे भी हैं जो बिना किसी स्वार्थ के लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं.

Source: thehindu

हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा ज़िले के रहने वाले 70 वर्षीय सुरेश कुमार इन्हीं लोगों में से एक हैं. निस्वार्थ भाव से राष्ट्रहित का कार्य कर रहे सुरेश कुमार आज न सिर्फ़ अपने गांव के लोगों बल्कि युवा पीढ़ी के लिए भी प्रेरणास्रोत बन चुके हैं.

Source: jagran

दरअसल, सुरेश कुमार कांगड़ा ज़िले के ज्वालामुखी में स्थित अपने होटल में कोरोना संकट में लोगों की सेवा में लगे पुलिस के जवानों, प्रशासनिक अधिकारियों व कर्मचारियों को निशुल्क आवासीय सुविधा दे रहे हैं. इसके साथ ही लॉकडाउन के दौरान अपने 4 किरायेदार (दुकानदारों) का 2 महीने का 58 हज़ार रुपये का किराया भी माफ़ कर चुके हैं. .

70 वर्षीय सुरेश कुमार का कहना था कि, मुझे बचपन से ही सेना में जाकर देश सेवा करने का शौक था. मैं पढ़ाई के दौरान सेना में चयनित भी हो गया था, लेकिन परिवार की ज़िद के चलते शिक्षक बन गया. हालांकि, सेना में तो नहीं जा सका, लेकिन कोरोना काल में देशहित में काम करके सेना में जाने की इच्छा पूरी हो गई है.

Source: jagran

बता दें कि शिक्षक के तौर पर 32 साल तक अपनी सेवाएं देने के बाद सुरेश कुमार पिछले कुछ सालों से कांगड़ा ज़िले के ज्वालामुखी में अपना एक होटल चला रहे हैं.

पिता और दादा देश के लिए हो गए थे शहीद

पिता और दादा देश के लिए हो गए थे शहीद सुरेश कुमार के पिता स्वर्गीय सूबेदार मान सिंह 1965 में भारत-पाकिस्तान युद्ध में शहीद हुए थे, जबकि दादा स्वर्गीय लक्ष्मण सिंह 'प्रथम विश्व युद्ध' में मुल्तान मोर्चे पर शहीद हुए थे. उनके ताया हरनाम सिंह 'द्वितीय विश्व युद्ध' में शहीद हुए जबकि भतीजा कैप्टन शैलेश सेना के 'गाजिकुंड ऑपरेशन' के दौरान जम्मू में शहीद हो गए थे.

Source: ndtv

ज्वालामुखी (कांगड़ा) के डीएसपी तिलक राज शांडिल्य का कहना था कि, सुरेश कुमार सही में प्रेरणास्रोत हैं. कोरोना संकट में इन्होंने पुलिस की जो सहायता की उसे भुलाया नहीं जा सकता. सुरेश कुमार अब भी प्रशासन की सहायता को लगे हुए हैं.