हाथियों के ख़िलाफ़ क्रूरता की खबरों के बीच आज हम एक ऐसी ख़बर ले कर आए हैं जिसको पढ़ते ही आपके चेहरे पर मुस्कान आ जाएगी.

चबाकेव एक 2 साल का हाथी का बच्चा है. इस नन्हे से बच्चे को इसके झुंड ने छोड़ दिया था. 4 अप्रैल को पूर्वोत्तर थाईलैंड के बुएंग कान में चबाकेव कीचड़ में फंसा पाया गया था.

वन्यजीव अधिकारियों ने चबाकेव को बचाया और पिछले 5 महीने से उसकी देखभाल कर रहे थे.

चबाकेव की हालत ठीक होने के बाद ये तय किया गया कि अब उसके जंगल लौटने का समय आ गया था. उसे अपने झुंड के पास वापस जाना होगा.

मगर उस छोटे से हाथी को एक बार फिर उसके झुंड ने छोड़ दिया.

इसके बाद हाथी और उसकी देखभाल करने वाले शख़्स की प्यार भरा वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो गया.

IUCN Species Survival Commission में एक हाथी विशेषज्ञ ने समझाया की क्यों बार-बार उसका झुंड उसे अपनाने से मना कर रहा था.

हमें विश्वास है कि चबाकेव को उसके झुंड का मुखिया इसलिए नहीं अपना रहा था क्योंकि पिछले पांच महीने से उसकी देखभाल मनुष्य कर रहे थे. उसे जंगल में हाथी के तोर-तरीक़े अपनाने में कठिनाई हो रही होगी जिसकी वजह से उसे झुण्ड से निकल दिया गया होगा. हम उसका ध्यान रखेंगे और उसके भविष्य के लिए भी सोचेंगे लेकिन उसे उसके झुंड के पास दोबारा वापिस भेजना शायद सही नहीं होगा.

मनुष्य और जानवर के बीच ऐसे पल कम ही देखने को मिलते हैं.