अब तक हम फ़िल्मों, धारावाहिकों और क़िताबों में बहुत सी प्रेम कहानियां देखते और पढ़ते आये हैं, लेकिन आज एक असल प्रेमी जोड़े से भी मिल लीजिए. प्यार के इन पंछियों की अनोख़ी लव स्टोरी का ज़िक्र Humans Of Bombay के नये पोस्ट में किया गया है.

View this post on Instagram

“We met in college. In the third year, when I saw her, I was like ‘who’s this girl?’ We met through common friends & finally got to talking. I remember, on our first date, we were just trying to figure out if we were on the same wave-length. Our nature was completely opposite in terms of likes & interests, but in terms of the big picture - we were very similar. A few months later, I felt like she got very serious– it was too serious for me. So I told her I couldn’t commit & went away for 20 days on a break - that’s when I realised that I was being silly. I came back home & kissed her–we finally started dating. Then we had to deal with another problem– long distance. I started working in Dubai while she was here. I realised how important she was to me. She consoled me through stress. She was there when I needed her the most & at 23, I knew I wanted to spend the rest of my life with her. But here’s the catch. I am a Bohri Muslim while she’s Punjabi. Her family’s ideal match for her was a Punjabi boy from Lokhandwala–while I was moving to Canada. Still, we wanted the blessings of our families–so we tried convincing them every day. She wrote a long letter telling them why she wanted to be with me & pleading them to agree. Eventually some of her family members came around & tried to convince her parents. Each time, we felt like we were struggling–we would send each other stories from Humans of Bombay saying - if we don’t struggle enough, our story isn’t worth going on the page! She convinced her family to come to my convocation in Canada & they agreed! That’s when they were able to get to know me. They saw that I was going to spend the rest of my life taking care of her & trying to make her happy– they finally agreed. Later, I proposed to her on the ONE day that she decided to not dress up. She was in her sweats & sneakers, looking beautiful. I took her out of town, got down on one knee & showed her the perfect sea-shell, in which I had placed the ring. So through our whirlwind of a love story, the only thing we can say is– breathe, eventually if things are meant to be, no force in the Universe will be strong enough to keep you apart!” #HoBLoveStories

A post shared by Humans of Bombay (@officialhumansofbombay) on

इस छोटी सी लव स्टोरी में आपको वो सारी चीज़ें मिलेंगी, जो किसी फ़िल्मी कहानी में होती है. लड़के का नाम Husain Kherodawala है और लड़की का Anahita Kapur. इनकी प्रेम कहानी की शुरुआत कॉलेज से होती है. Husain ने Anahita को पहली बार कॉलेज के थर्ड ईयर में देखा था और उसे देखते ही Husain के मन में पहला सवाल ये आया कि आख़िर अब तक उसने इस लड़की को क्यों नहीं देखा?

Source: Facebook

ख़ैर, दोनों का फ़्रेंड सर्कल एक ही था, इसलिये दोस्तों के ज़रिये दोनों के बीच बातचीत शुरु हो गई. दोनों एक-दूसरे के काफ़ी विपरीत थे, लेकिन फिर भी साथ में बेहद ख़ुश थे. इनकी दोस्ती को कुछ ही महीने हुए थे और Husain को लगने लगा कि Anahita उसे चाहने लगी है. इसके बाद Husain ने उससे दूर जाने का फ़ैसला किया, क्योंकि उस समय वो किसी भी तरह के कमिटमेंट के लिये तैयार नहीं था. Anahita से करीब 20 दिन दूर रहने के बाद Husain को एहसास हुआ कि वो उसके बिना नहीं रह सकता है और Anahita के पास वापस आ गया. इसके बाद शुरु हुआ दोनों की डेटिंग का सिलसिला.

अब इस प्रेम कहानी में एक ट्विस्ट आता है. दरअसल, हुआ कुछ यूं कि Husain को नौकरी के सिलसिले में दुबई जाना पड़ा और Anahita मुंबई में ही थी. इस दौरान हर दिन Husain को Anahita की याद आती रही और 23 साल की उम्र में उसे एहसास हुआ कि वो अपनी पूरी ज़िंदगी अगर किसी के साथ बिता सकता है, तो वो सिर्फ़ यही लड़की है.

Source: Facebook

हांलाकि, दोनों का ज़िंदगीभर के लिये साथ रहना इतना आसान नहीं था, क्योंकि Husain मुस्लिम समुदाय से था और Anahita एक पंजाबी लड़की थी. शादी का फ़ैसला लेने के बाद दोनों हर दिन अपने परिवारवालों को मनाने के लिये लग गये. Anahita के कुछ रिश्तेदारों ने मिलकर, उसके मम्मी-पापा को मनाने की कोशिश की. इनकी सच्ची और बेइंतिहा मोहब्बत को देखते हुए घरवालों ने रिश्ते के लिये हां कह दी. वहीं अब Husain दुबई से कनाडा शिफ़्ट हो चुका था और Anahita अपने घरवालों के साथ Husain के दीक्षांत समारोह के लिये कनाडा पहुंची, ताकि Anahita के पेरेंट्स ये जान सकें कि Husain ज़िंदगीभर उसे बेहद ख़ुश रख सकता है.

वहीं Husain ने Anahita घुटने पर बैठकर उस वक़्त उसके सामने शादी का प्रस्ताव रखना पसंद किया, जब वो बिल्कुल साधारण कपड़ों में पसीने से भीगी हुई थी. पर Husain का कहना है कि वो बिना तैयार हुए पसीने में काफ़ी ख़ूबसूरत नज़र आ रही थी.

इनकी प्रेम कहानी से एक चीज़ साफ़ है कि अगर आप किसी से बेइंतिहा मोहब्बत करते हैं, तो कितनी ही परेशानियां क्यों न आएं, पर अंत में जीत दिलवालों की ही होती है.