बुरी ख़बरों के बीच अकसर अच्छी ख़बरें भी आती रहती हैं. एक ऐसी ही अच्छी और पॉजिटिव ख़बर चेन्नई से भी आई है, जहां चेन्नई पुलिस की मदद से एक युवक अपने देश वापस लौट सका.

एक रिपोर्ट के अनुसार, सूडान का रहने वाला 27 वर्षीय छात्र तीन साल बाद ख़ुशी-ख़ुशी अपने घर वापस लौट गया. बताया जा रहा है कि 2010 में मोहम्मद अल मुस्तफ़ा नामक ये छात्र पढ़ाई करने के लिये भारत आया था, जिसके तहत उसे चेन्नई के एक कालेज में एडमिशन, तो मिल गया. पर 2016 के फ़ाइनल एग्ज़ाम में वो फ़ेल हो गया. फ़ेल होने पर वो अपने देश वापस लौट गया, लेकिन फ़ाइनल पेपर क्लीयर करने के लिये उसे फिर से भारत वापस आना पड़ा.

वीज़ा अवधि समाप्त होने के कारण उसे यहीं रुकना पड़ा. क्योंकि उसके पास घर वापस जाने के लिये पर्याप्त धन नहीं था. यहीं नहीं, पैसों की कमी के कारण वो आगे की पढ़ाई भी जारी नहीं रख सका. ज़िंदगी के इस मोड़ पर समय गुज़ारने के लिये वो मरीना Beach के पास एक छोटी सी नौकरी करने लगा. वहीं 2 अगस्त 2018 में पुलिस ने उसे लड़ाई-झगड़े के मामले में गिरफ़्तार कर लिया. हांलाकि, दिसबंर में उसे रिहा कर दिया गया था.

Source: mouthshut

इसके बाद हफ़्ते भर पहले ही वो चेन्नई पुलिस के पास मदद के लिये पहुंचा, जहां उसने घर वापस जाने की इच्छा जताई. एक पुलिस अधिकारी के अनुसार, मुस्तफ़ा घर जाना चाहता था, पर उसके पास पैसे नहीं थे. इसके बाद चेन्नई पुलिस कमिश्नर ए.के. विश्वनाथ की पहल से पुलिसवालों ने 70 हज़ार रुपये जमा किये, जिसमें से 8 हज़ार रुपये उसके दोस्तों ने दिये थे.

बीते शनिवार मुस्तफ़ा चेहरे पर बड़ी सी मुस्कान लिये,पुलिसवालों को शुक्रिया कह कर, अपने वतन वापस लौट गया.