दुनिया की अब तक की सबसे अनसुलझी पहेलियों में से एक पहेली मिस्र की रानी 'क्लियोपेट्रा' भी हैं. अपनी ख़ूबसूरती के लिए दुनियाभर में मशहूर क्लियोपेट्रा के बारे में कहा जाता है कि वो जितनी ख़ूबसूरत थीं उससे कहीं अधिक चतुर, षड्यंत्रकारी व क्रूर भी थीं.

Source: quora

इतिहासकारों का कहना क्लियोपेट्रा ने 51 ईसा पूर्व से 30 ईसा पूर्व तक मिस्र पर शासन किया था. वो मिस्र पर शासन करने वाली अंतिम शासक थीं.

ख़ूबसूरत ही नहीं शातिर भी थी क्लियोपेट्रा?

इतिहासकारों का कहना है कि क्लियोपेट्रो को 5 भाषाओं का ज्ञान था. वो बेहद चतुर व शातिर दिमाग़ महिला थीं. वो बेहद काम समय में किसी से भी जुड़कर उसके सारे राज जान लेती थीं. क्लियोपेट्रा के कई पुरुषों से संबंध थे. वो राजाओं और सैन्य अधिकारियों को अपनी सुंदरता के मोहपाश में बांधकर उनको ठिकाने लगा देती थी.

Source: mfah

ख़ुद के भाई से ही करनी पड़ी जंग

क्लियोपेट्रा जब महज 17 वर्ष की थीं तभी उनके पिता की मृत्यु हो गई थी. पिता की वसीयत के मुताबिक़ उन्हें व उनके छोटे भाई तोलेमी दियोनिसस को संयुक्त रूप से राज्य प्राप्त हुआ. जबकि मिस्र की प्रथा के अनुसार क्लियोपेट्रा अपने इस भाई की पत्नी होने वाली थीं, लेकिन राज्याधिकार के लिए हुए संघर्ष में उन्हें हार के बाद जान बचाकर सीरिया भागना पड़ा.

Source: empireonline

क्लियोपेट्रा ने अपने शासन और अस्तित्व को बचाने के लिए को क्या क्या किया वो जानना भी बेहद रोचक है-

जूलियस सीज़र ने क्लियोपेट्रा को मिस्र की रानी बनाने में की थी मदद

कहा जाता है कि भाई से दुश्मनी के बाद भी क्लियोपेट्रा ने साहस नहीं खोया. इसी दौरान जूलियस सीज़र अपने दुश्मन पोंपे का पीछा करता हुआ मिस्र आया. वहां उसने क्लियोपेट्रा को देखा और वो उसकी सुंदरता का कायल हो गया. इसके बाद जूलियस सीज़र क्लियोपेट्रा की ओर से युद्ध लड़ने और उसे मिस्र की रानी बनाने के लिए तैयार हो गया.

माना जाता है कि रोमन सम्राट जूलियस सीज़र और क्लियोपेट्रा के बीच संबंध थे. इस बीच उनका एक पुत्र भी हुआ, लेकिन रोमनों को ये संबंध पसंद नहीं था. रोमन जनता इसका पुरज़ोर विरोध किया.

Source: myvue

इस दौरान जूलियस सीज़र ने तोलेमी से युद्ध कर उसे मार गिराया. इसके बाद क्लियोपेट्रा मिस्र के राजसिंहासन पर बैठीं. मिस्र की प्राचीन प्रथा के अनुसार वो अपने एक अन्य छोटे भाई के साथ मिलकर राज करने लगीं, किंतु शीघ्र ही उसने अपने इस छोटे भाई को ज़हर देकर मार डाला.

क्लियोपेट्रा के मार्क एंथोनी से संबंध

इस दौरान रोमन शासक जूलियस सीज़र के जनरल मार्क एंथोनी का क्लियोपेट्रा पर दिल आ गया. क्लियोपेट्रा को जब इस बात का पता चला तो दोनों अलेक्जेंडरिया में छुट्टियां मनाने चले गए. कहते हैं कि क्लियोपेट्रा से एंथोनी के 3 बच्चे हुए. कहा जाता है कि बाद में इन दोनों ने शादी भी की थी हालांकि, दोनों पहले से ही विवाहित थे.

Source: choices

जूलियस सीज़र की हत्या के बाद उसके वारिस गाएस ऑक्टेवियन सीज़र का जब एंथोनी ने विरोध किया तो उसके साथ क्लियोपेट्रा भी थीं. दोनों ने मिलकर रोमन साम्राज्य से टक्कर लेने की योजना बनाई, लेकिन इस दौरान ऑक्टेवियन सीज़र की सेना से इन्हें हार का सामना करना पड़ा. इसके बाद क्लियोपेट्रा अपने 60 जहाजों के साथ युद्धस्थल छोड़ सिकंदरिया भाग आईं. क्लियोपेट्रा के प्यार में पागल एंथोनी भी उसके पीछे-पीछे भागकर सिकंदरिया चला आया.

क्लियोपेट्रा ने एंथोनी को भी दिया धोखा

कहा जाता है कि बाद में ऑक्टेवियन सीज़र के कहने पर क्लियोपेट्रा ने एंथोनी को भी धोखा देकर मार डाला. ऑक्टेवियन के कहने पर क्लियोपेट्रा एंथोनी की हत्या करने के लिए तैयार थी. इस दौरान उसने एंथोनी को बहला-फुसलाकर साथ-साथ मरने के लिए तैयार किया. योजना के मुताबिक़ क्लियोपेट्रा ने ख़ुद पहले जान देने की बात कही. इसके बाद एंथोनी ने इस भ्रम में कि क्लियोपेट्रा आत्महत्या कर चुकी है, अपने जीवन का अंत कर लिया।

Source: worldatlas

अब ऑक्टेवियन सीज़र की बारी थी

इसके बाद क्लियोपेट्रा ने ऑक्टेवियन सीज़र को भी अपने रूप-जाल में फांसकर ख़ुद की जान बचाकर फिर से मिस्र की सत्ता प्राप्त करने की योजना में लग गयीं. लेकिन ऑक्टेवियन क्लियोपेट्रा की हर चाल से वाक़िफ़ था और वो उसके जाल में नहीं फंसा. कहा जाता है कि ऑक्टेवियन सीज़र ने किसी डंकवाले जंतु से क्लियोपेट्रा की हत्या कर दी. हालांकि, आज भी क्लियोपेट्रा की मौत को लेकर कई रहस्य हैं.

Source: grunge

क्लियोपैट्रा की मौत आज भी रहस्य

क्लियोपेट्रा की मौत महज 38 वर्ष की उम्र में मौत हो गई थी. हालांकि, आज भी दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में क्लियोपेट्रा की मौत को लेकर लोगों के अलग-अलग तर्क हैं. किसी का कहना है कि Actium की जंग में हारने के बाद वो इतनी टूट गई थी कि उसने ख़ुद को सांप से डंसवा लिया. वहीं कुछ लोगों का कहना है कि हार के बाद Augustus ने क्लियोपेट्रा की हत्या कर दी. जबकि कुछ लोगों का कहना है कि उनकी मौत अत्यधिक मात्रा में मादक पदार्थों के सेवन से हुई थी. हालांकि, आज भी इन रहस्यों का जवाब न तो किसी वैज्ञानिक और न ही किसी इतिहासकार के पास है के पास.

Source: gabrielsegyptianproject

अनेक कलाकारों ने क्लियोपेट्रा की ख़ूबसूरती, रूप-रंग और उसकी मादकता पर कई शानदार चित्रकारी और मूर्तियां गढ़ीं. सिर्फ़ इतना ही नहीं साहित्य में वे इतनी लोकप्रिय हुईं कि अनेक भाषाओं के साहित्यकारों ने उन्हें अपनी कृतियों में मुख़्य नायिका बनाया. अंग्रेजी साहित्य में 3 नाटककारों- शेक्सपियर, ड्राइडन और बर्नाड शा ने अपने नाटकों में उनके व्यक्तित्व के कई पहलुओं का विस्तार किया. इससे पहले भी 'क्लियोपेट्रा' पर कई फ़िल्में भी बन चुकी हैं.

कहा जाता है कि क्लियोपेट्रा के भारत से काफ़ी अच्छे संबंध थे. वो भारत के गरम मसाले, मलमल और मोतीभरे जहाज के जहाज सिकंदरिया के बंदरगाह में ही ख़रीद लिया करती थीं.