इंसानों को अगर भविष्य में सबसे बड़ा ख़तरा किसी चीज़ से है तो वो है क्लाइमेट चेंज की समस्या, जो आए दिन किसी न किसी रूप में हमारे सामने मुंह बाए खड़ी रहती है. फिर चाहे बात ब्राज़ील के अमेज़न के जंगलों में लगी आग हो या फिर चेन्नई में आया जल संकट. ये सभी उदाहरण इसी ओर इशारा कर रहे हैं कि हमें इसे लेकर सचेत हो जाना चाहिए.

जलवायु परिवर्तन की कुछ ऐसी घटनाओं के बारे में आज हम बताएंगे, जिन्होंने इस साल हमें हिला कर रख दिया था.

1. अमेज़न के जंगलों में लगी आग

Source: nbcnews

ब्राज़ील के अमेज़न के जंगलों में क़रीब 60 दिनों तक आग लगी रही. इसके चलते इन वर्षा वनों लगभग 3000 वर्ग मील क्षेत्र जलकर राख हो गया. ये वही जंगल हैं, जो हमारी सेहत का ख़्याल रखते हैं, क्योंकि इन्हीं से पूरी दुनिया की लगभग 20 फ़ीसदी ऑक्सीजन प्रोड्यूस्ड होती है.

2. औद्योगिक परियोजनाओं की वजह से भारत के जंगलों का पहुंचा नुकसान

Source: scroll

विभिन्न औद्योगिक परियोजनाओं के नाम पर भारत में इस साल भी वनों की कटाई जारी रही. एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस साल औद्योगिक विकास के नाम पर हरियाणा के क्षेत्रफल के जितने जंगलों की बलि चढ़ा दी गई.

3. चेन्नई में गहराया जल संकट

Source: wsj

इस साल जून में चेन्नई में पीने के पानी की कमी के चलते वहां पर सूखे जैसे हालात हो बन गए थे. सैटेलाइट से ली गई तस्वीरों से पता चला है कि वहां के प्रमुख जलाशयों का जल स्तर लगातार घट रहा है, जिसका प्रमुख कारण है, क्लाइमेट चेंज.

4. राजस्थान में बर्फ़बारी

Source: firstindia

इतिहास में पहली बार राजस्थान के नागौर ज़िले में लगभग एक घंटे तक लगातार बर्फ़बारी हुई थी. अमूमन गर्म रहने वाले इस इलाके में बर्फ़बारी होना भी जलवायु परिवर्तन के ख़तरनाक स्तर तक पहुंचने की ही बात कह रहा है.

5. भारत के 9 राज्यों में आई बाढ़

Source: huffingtonpost

इस साल महाराष्ट्र से लेकर केरल तक भारत के 9 राज्य बाढ़ से परेशान रहे. एक रिपोर्ट के मुताबिक, इनमें क़रीब 100 लोगों ने जान गंवा दी और लाखों लोगों को विस्थापित होना पड़ा.

6. आर्कटिक में बर्फ़ का सबसे पुराना और सबसे स्थिर पैच तेज़ी से गल रहा है

Source: carbonbrief

कनाडा में हुई एक रिसर्च में पता चला है कि आर्कटिक में बर्फ़ का सबसे पुराना और सबसे स्थिर पैच तेज़ी से पिघल रहा है.

7. आर्कटिक महासागर के एक हिस्से से 2044 तक बर्फ़ पूरी तरह गायब हो जाएगी

Source: phys

आर्कटिक महासागर तेज़ी से गर्म हो रहा है. इसके कारण 2044-67 के बीच में इसके एक हिस्से से बर्फ़ पूरी तरह गायब हो जाएगी.

8. बेंगलुरू की झील में उठा झाग

Source: downtoearth

बेंगलुरू की बेलंदूर और वर्थुर झील लगातार ज़हरीली होती जा रही हैं. बेलमदूर झील में तो इस साल 10 फ़ीट ऊंचा ज़हरीला झाग उठा था.

9. ध्रुवीय भालूओं का खाने की खोज में शहरों तक पहुंचना

Source: visitnorway

आर्कटिक में पिघल रही बर्फ़ के चलते ध्रुवीय भालूओं के सामने खाने की समस्या उत्पन्न हो गई है. इसके चलते वो शहरों का रुख करने लगे हैं.

10. ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग

Source: bbc

नवंबर में ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में भीषण आग लग गई थी. इसमें 350 Koala भी जलकर मर गईं. ये ऑस्ट्रेलिया में पाया जाने वाला एक जानवर है. इस आग के कारण वहां पर फ़ायर इमरजेंसी घोषित करनी पड़ी थी.

11. 2100 तक हिंदुकुश पर्वत के ग्लेशियर पिघल जाएंगे

Source: downtoearth

हिंदुकुश पर्वत जो दुनिया के मीठे पानी के मुख्य सोर्स में से एक है, उसके ग्लेशियर 2100 तक पिघल जाएंगे. इसकी वजह भी जलवायु परिवर्तन है.

12. 2050 तक खाद्य सुरक्षा को लगेगा बहुत बड़ा झटका

Source: blogs

जानकारों का कहना है कि साल 2050 तक खाद्य सुरक्षा की समस्या और भी विकराल हो जाएगी. उनका कहना है कि इस वर्ष तक वैश्विक स्तर पर खाद्य पदार्थों की मांग 50 फ़ीसदी बढ़ेगी और उत्पादन 30 फ़ीसदी गिर जाएगा.

13. सितंबर 2019 मानव इतिहास का सबसे गर्म सितंबर का महिना रहा

Source: phys

एक रिसर्च में ये साबित हुआ है कि इस साल का सितंबर मानव इतिहास का सबसे गर्म सितंबर का महिना रहा. यही नहीं 1981 से 2010 सितंबर के महीनों का आंकलन करने पर पाया गया कि इस साल का सितंबर महिना इनसे 0.5 डिग्री सेल्सियस अधिक गर्म था.

अगर वक़्त रहते हमने जलवायु परिवर्तन को लेकर कोई ठोस रणनीति नहीं अपनाई तो इसका ख़ामियाज़ा हमें ही भुगतना पड़ेगा.

Lifeसे जुड़े दूसरे आर्टिकल पढ़ें ScoopWhoop हिंदी पर.