इश्क़ यानी कि बनारस...


इस शहर में कुछ ऐसा है ही नहीं, जो किसी को पसंद न आए. अतरंगी इस शहर के व्यवहार और त्यौहार भी सतरंगी है. 'हर हर महादेव' के स्वर से गूंजती और पान की ख़ुशबू से सराबोर यहां की गलियां किसी को भी पराया महसूस होने नहीं देती.  

Source: Facebook

आपकी और हमारी सोच से कहीं ऊंची हैं यहां की महिमा. एक बार जो यहां आता है उसका कुछ हिस्सा हमेशा के लिए यहीं का होकर रह जाता है.


चाहे दिवाली हो या दशहरा, इस शहर में हर त्यौहार ही अपने-आप में ख़ास बन जाता है. 

बरसाने की, नन्द गांव की, मथुरा की होली दुनियाभर में मशहूर है, पर रंगों का त्यौहार होली भी बनारस में आकर अलग रूप ले लेता है.    

Source: Live VNS

राख से होली 

फाल्गुन एकादशी के दूसरे दिन, काशी के मणिकर्निका घाट पर चिता की राख से होली खेली जाती है. शिवभक्त, डमरू स्वर के बीच एक-दूसरे को राख लगाते हैं. 

Source: Live VNS

सदियों पुरानी प्रथा 

शिवभक्तों का मानना है कि महादेव श्मशान की चिता के भस्म से ही होली खेलते हैं. इस होली को 'मसान की होली' के नाम से भी जाना जाता है. शिवभक्तों को ऐसा लगता है, मानो वो महादेव के साथ ही होली खेल रहे हों. इस होली में साधु-संतों से लेकर आम लोग भी हिस्सा लेते हैं. 

ये प्रथा सालों पुरानी है और कहा जाता है कि श्मशान की राख से होली खेलने वाले को मोक्ष प्राप्त होता है. सोचकर देखिये एक तरफ़ जलती चितायें और दूसरी तरफ़ चिताओं की राख से होली खेलते साधु, आम लोग, डमरू की आवाज़ और हर हर महादेव की गूंज...
ऐसी भी मान्यता है कि महादेव और पार्वती भक्तों के साथ श्मशान में होली खेलने आते हैं. 

Source: Live VNS

बाबा मसान नाथ की आरती से होती है शुरुआत 

इस लेख के मुताबिक, मसान की होली की शुरुआत बाबा मसान नाथ के श्रृंगार और आरती से होती है.


मणिकर्निका घाट पर बाबा मसान नाथ की विधिवत आरती की जाती है. डमरूओं के स्वर के बीच, आरती के बाद साधु-संत, आम लोग भस्म से होली खेलते हैं. होली खेलने के बाद मणिकर्निका घाट पर स्नान करते हैं.   

महाशिवरात्रि से ही हो जाती है शुरुआत 

एक अन्य लेख के अनुसार, मणिकर्णिका घाट पर चिता की राख से होली खेलने की तैयारियां महाशिवरात्री से ही शुरू हो जाती हैं. चिता की राख को छानकर इकट्ठा किया जाता है.  

जो मज़ा काशी में है, वो कहीं और कहां?