आसमान में सरपट से भागते हेलिकॉप्टर को ख़रीदने का सपना तो हर किसी का होता है, लेकिन ये सपना किसी-किसी का ही पूरा हो पाता है. हेलिकॉप्टर को देख कभी-कभी तो मन करता है काश हमारे पास भी एक होता, जिसमें बैठकर हम अपनी मनपसंद जगह घूमने निकल पड़ते, लेकिन सपने तो सपने हैं.

Source: gq-magazine

हेलिकॉप्टर को लेकर कहा जाता है इसे ख़रीदना तो उतना मुश्किल नहीं है, लेकिन उसकी देखरेख करने में नानी याद आ जाती है. ये बात सौ फ़ीसदी सच है.

क्या आप जानते हैं अगर कोई भारतीय हेलीकॉप्टर ख़रीदना चाहता है, तो उसे कौन-कौन से डॉक्युमेंट्स चाहिए होंगे और इसके लिए कहां जाना होगा? नहीं मालूम, तो चलिए हम बताते हैं.

Source: aircharterservice

हेलीकॉप्टर ख़रीदने से पहले हमें इसके रख-रखाव लागत के बारे में भी मालूम होना चाहिए-

भारत में किसी भी हेलीकॉप्टर मालिक द्वारा अपने पायलट को सैलरी के तौर पर 40000 से लेकर 150000 का भुगतान करना अनिवार्य है. हालांकि, ये अनुभव के हिसाब से अलग-अलग भी हो सकता है. क्योंकि जो भी इस हेलीकॉप्टर को उड़ाएगा वो भारत सरकार से मान्यता प्राप्त पायलट होगा और उसे फ्लाइंग का उचित अनुभव भी होगा.

Source: aircharterservice

हेलीकॉप्टर के मालिक को प्रति उड़ान 40000 से 70000 का भुगतान करना होगा, जो आमतौर पर उनके लैंडिंग चार्ज को छोड़कर दूरी पर निर्भर करता है. IGI हवाई अड्डा नई दिल्ली पर उतरने के लिए चार्ज 30000 रुपये प्रति लैंडिंग है, लेकिन छोटे हवाई अड्डे का चार्ज इससे थोड़ा कम है.

Source: aircharterservice

मालिक को हेलीकॉप्टर के Maintenance Repair and Operations (MRO) का इंतज़ाम भी ख़ुद ही करना पड़ता है. भारत में ऐसे कई संगठन हैं, जो इस तरह की सेवा देते हैं. ऑपरेटर इसके लिए एक उचित शुल्क भी लेते हैं. हेलिकॉप्टर मालिक को केवल रखरखाव पर ही सालाना 10 से 15 लाख रुपये खर्च करने पड़ते हैं.

Source: aircharterservice

कितनी होती है हेलिकॉप्टर की क़ीमत? 

Escrow.com बेवसाइट के मुताबिक़, 'रॉबिंसन R-22' हेलीकॉप्टर की क़ीमत लगभग 250,000 अमेरिकी डॉलर है, जो भारतीय रुपये में 1 करोड़ 84 लाख रुपये के क़रीब है. 'रॉबिंसन R-22' को दुनिया का सबसे किफ़ायती हैलीकॉप्टर माना जाता है. वहीं भारत में 4 सीटर हेलीकॉप्टर की क़ीमत 2 करोड़ 30 लाख, जबकि 6 सीटर हेलीकॉप्टर की क़ीमत 2 करोड़ 80 लाख के क़रीब है.

Source: wikipedia

इन डॉक्युमेंट्स की होगी ज़रूरत 

किसी भी भारतीय व्यक्ति को हेलीकॉप्टर ख़रीदने और पंजीकरण करने के लिए DGCA से उचित अनुमति लेनी पड़ती है. इसके लिए सबसे पहले भारत सरकार के 'नागरिक उड्डयन महानिदेशालय' की वेबसाइट में दिए गए आवेदन को दाखिल करके गृह मंत्रालय के NOC के लिए आवेदन करना होगा. डॉक्युमेंट्स के तौर पर आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड, पैन कार्ड और इनकम टैक्स फ्रूफ़ जैसे डॉक्युमेंट्स की ज़रूरत होती है.

Source: robinsonheli

इस प्रक्रिया के दौरान हेलीकॉप्टर ख़रीदने वाले व्यक्ति को ये प्रूफ़ भी पेश करने होते हैं कि एक योग्य पायलट ही हेलीकॉप्टर उड़ाएगा और हेलीकॉप्टर का उचित अवधी तक रखरखाव भी किया जाएगा.

यदि आप भी निजी हेलीकॉप्टर ख़रीदना चाहते हैं, तो escrow.com से संपर्क करें.