हाथों में पूजा की थाली आई रात सुहागवालों, चांद को देखूं हाथ मैं जोड़ूं करवाचौथ का व्रत मैं तोड़ूं...

DDLJ
Source: latestly

1995 में यश चोपड़ा की फ़िल्म 'दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे' का ये गाना है. इसके अलावा 2001 में करण जौहर की फ़िल्म 'कभी ख़ुशी कभी ग़म' के लैजा लैजा गाने की वो लाइन 'अपनी मांग सुहागन हो, संग हमेशा साजन हो' ये लाइन तो बहुत अच्छी है, लेकिन करवाचौथ पर फ़िल्माए गए इन गानों का असल ज़िंदगी से दूर-दूर तक कोई लेना-देना नहीं है. इन गानों ने मुझे हमेशा धोखे में रखा है, बताती हूं कैसे...

Kabhi Khushi Kabhi Gham
Source: newsnation

90 के दशक के ज़्यादातर बच्चे मेरी इस बात से इत्तेफ़ाक़ ज़रूर रखेंगे. जो अब मैं बताने जा रही हूं. बचपन से मैं मम्मी को करवाचौथ करते देख रही हूं, हालांकि वो रोज़ जल्दी उठती हैं तो उस दिन भी जल्दी उठती हैं उठने के बाद रोज़ की तरह ही घर के कामों में लग जाती हैं. बस फ़र्क़ इतना होता है उस दिन उनका काम दोगुना हो जाता है. क्योंकि उन्हें प्रसाद भी बनाना होता है.

Karwachauth
Source: scoopwhoop

जिनके लिए वो ये व्रत करती हैं मेरे पापा, वो सुबह-सुबह रोज़ की तरह ऑफ़िस चले जाते हैं. बस एक अच्छी बात होती है कि उस दिन वो रोज़ से 1 घंटे पहले आ जाते हैं. मगर मम्मी के घर के कामों में उस दिन 1 घंटे के बजाय 2 घंटे ज़्यादा लग जाते हैं.

Office
Source: imdb

पापा घर आते हैं कपड़े बदलकर लेट जाते हैं और मम्मी काम करके थक कर चूर होने के बाद आधा अधूरा तैयार होती हैं. फिर अपना सारा पूजा का सामान लेकर अकेले ही चंद्रमा के बूढ़ा होने से पहले छत की तरफ़ भागती हैं. जैसे-तैसे पूजा करके आती हैं. पापा तब भी लेटे रहते हैं. वो शाहरुख़ ख़ान की तरह मम्मी का सामान नहीं पकड़ते उन्हें पानी नहीं पिलाते. व्रत रखने की बात तो मैं करूंगी ही नहीं, बहुत ज़्यादा हो जाएगा.

Karwachauth
Source: livehindustan

मम्मी पूजा करके नीचे आती हैं और फिर लेटे हुए मेरे पापा को उठाकर उनके पैर छूती हैं. पापा को उसमें बहुत ज़ोर आता है. अरे पापा, मम्मी ये आपके लिए ही तो कर रही हैं. वो आई ही इसीलिए हैं कि आपके लिए व्रत करें, आपके सारे काम करें. तो इतना तो आप कर ही सकते हैं कि उन्हें आशीर्वाद दे दें, जो मैंने कभी आशीर्वाद देते नहीं सुना, लेकिन इतना यक़ीन है कि कुछ आशीर्वाद तो देते ही होंगे. और अगर नहीं भी देते होंगे तब भी मम्मी उनके लिए व्रत तो वैसे ही रखेंगी जैसे रखती आ रही हैं.

Karwachauth
Source: bhaskar

इतने सालों में मैंने करण जौहर और यश चोपड़ा वाला करवाचौथ अपने मम्मी-पापा के बीच तो नहीं देखा. मगर मैंने इतना ज़रूर देखा है कि पापा घर में घुसते ही सबसे पहले मम्मी को पूछते हैं, शायद इसीलिए मेरे पापा शाहरुख़ और मम्मी काजोल भले ही नहीं हैं, लेकिन उनके करवाचौथ में कोई बात तो है.

अगर आपने अपने मम्मी पापा के बीच 90 के दशक में ऐसा करवाचौथ मनाते देखा है, तो मुझे कमेंट बॉक्स में बताइएगा ज़रूर.

Life से जुड़े आर्टिकल ScoopwhoopHindi पर पढ़ें.