बंदूक, रिवॉल्वर, राइफ़ल... सुरक्षा के लिहाज़ से बेहद ज़रूरी पर कभी-कभी आतंक भी मचा देते हैं.


वैसे तो भारत में देसी कट्टा मिलना मुश्किल नहीं है. फ़ेसबुक पर कट्टे वाली डीपी आम हैं. हमारे यहां तो कई घरों में शादियां फ़ायरिंग के बिना अधूरी समझी जाती हैं! लेकिन कानूनी तौर पर बंदूक ख़रीदने की हर देश में अलग-अलग प्रक्रिया है.

कहीं घंटेभर में बंदूक ख़रीदी जा सकती हैं, तो कहीं महीनों लगाने के बाद भी आवेदन रिजेक्ट हो सकता है.

कुछ गिने-चुने देशों के बंदूक ख़रीदने की प्रक्रिया बता रहे हैं, पढ़ लो-

1.

ख़ुद को दुनिया का सबसे ताकतवर देश कहने वाला अमेरिका, बंदूक ख़रीदने के सख़्त क़ानून नहीं बना रहा. यहां हर महीने कहीं न कहीं होने वाली शूटिंग्स का एक कारण कमज़ोर नियमों का होना भी है. दुनिया में सबसे ज़्यादा बंदूक अमेरिकी लोगों के पास ही है. अमेरका में बंदूक के 50 हज़ार से ज़्यादा लाइसेंस्ड स्टोर्स हैं.

2.

न्यूज़ीलैंड में मार्च 2019 में हुई शूटिंग ने पूरी दुनिया को झकझोर दिया था. इस हमले के बाद यहां ज़्यादातर Semi-Automatic हथियारों को बैन कर दिया गया.

3.

दक्षिण अफ़्रिका में भी बंदूक ख़रीदने से पहले कई टेस्ट और जांच से गुज़रना पड़ता है. सुरक्षा के लिहाज़ से ये वहां की सरकार द्वारा अच्छी पहल है.

4.

मेक्सिको में बंदूक खरीदने के क़ानून अमेरिका के मुक़ाबले सख़्त हैं. मेक्सिको में सिर्फ़ एक स्टोर पर क़ानूनी ढंग से बंदूक मिलती है और यहां बंदूक का काला बाज़ार ज़ोर-शोर से चलता है. मज़े की बात ये है कि अमेरिकी सरकार का ये मानना है कि मेक्सिको से उन्हें ख़तरा है!

5.

भारत के बंदूक के क़ानून ज़िले के डीएम बदल सकते हैं. जैसे कि ग्वालियर के डीएम ने बंदूक लाइसेंस के लिए 10 पेड़ लगाने का नियम बनाया था. चुनाव के दौरान, लोकल अथॉरिटी बंदूक जमा भी करवा सकती है.

6.

कैनेडा में कैरेक्टर रेफ़रेंस देने के अलावा बंदूक के लिए आवेदन देने वाले को 2 ऐसे लोगों के भी नाम देने होते हैं जिनके साथ वो पिछले 2 साल में रहे हों. आवेदन पत्र पर भी सभी के दस्तख़त करवाने होते हैं.

7.

चीन में ज़्यादातर नागरिकों को घर पर बंदूक रखने की इजाज़त नहीं है. कुछ तय लोकेशन्स या Gun Ranges में ही बंदूक रखी जा सकती है.

8.

इज़रायल में कुछ लोगों को उनकी नौकरियों के आधार पर बंदूक आसानी से मिल जाती है, जैसे कि सिक्योरिटी वाले, रिसर्च करने वाले या पेस्ट कंट्रोल वाले.

9.

अमेरिका के बाद सबसे ज़्यादा बंदूक रखने वाले यमन के लोग हैं. नियमों के अनुसार, रजिस्टर्ड विक्रेताओं से ही बंदूक ख़रीदी जा सकती है पर इस क़ानून को कोई नहीं मानता.

लेख कैसा लगा, कमेंट बॉक्स में बताना. इस तरह के और लेख प्रस्तुत करेंगे.

Awesome Designs by: Nupur