भारत के पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने एक बार कहा था कि 'अगर आपको ग़रीबी से ऊपर उठना है तो शिक्षा ही एकमात्र ज़रिया है'. कलाम साहब ने ठीक ही कहा क्योंकि शिक्षा ही है, जो हमें ग़रीबी से मुक्ति दिला सकती है.

Source: teacharoundtheworlddotorg

आज महान साइंटिस्ट कलाम के इन्हीं शब्दों से प्रेरणा लेते हुए कुछ रियल हीरोज़ ने भी देश में शिक्षा की क्रांति फैलाने के लिए कमर कस ली है. इन हीरोज़ ने वक़्त और ख़ुद के सपनों की परवाह किये बिना दूसरों के सपनों को पूरा करने मुहिम शुरू की है.

Source: news

ये हैं वो 13 रियल हीरो, जो ग़रीबों को फ़्री में पढ़कर उन्हें समाज में बराबरी का हक़ दिलाने का काम कर रहे हैं-

1- शादाब हसन

Source: yourstory

MBA ग्रैजुएट शादाब हसन ने कॉर्पोरेट करियर चुनने के बजाए Underprivileged बच्चों को शिक्षित करने का बीड़ा उठाया है. बीआईटी मिसरा के पूर्व छात्र रहे शादाब ने रांची से 20 किलोमीटर दूर एक छोटे से गांव ब्राम्बे में 'हामिद हसन हाई स्कूल' की स्थापना की है. इसके लिए शादाब और उनकी मां रोशन आरा ने आसपास के गांवों से 80 बच्चों को इकट्ठा उन्हें अच्छी शिक्षा दे रहे हैं.

2- डॉक्टर भारत सरन

Source: indiatoday

डॉ. भारत सरन राजस्थान के बाड़मेर ज़िले में डॉक्टर बनने की ख़्वाहिश रखने वाले ग़रीब छात्रों को मुफ़्त में कोचिंग देते हैं. आनंद कुमार के 'सुपर 30' से प्रेरित होकर डॉ. भारत ने भी '50 ग्रामीण सेवा संस्थान' नाम से एक कोचिंग संस्थान की शुरुआत की है. भारत 11वीं और 12वीं कक्षा के 25-25 छात्रों को मुफ़्त में मेडिकल की कोचिंग दे रहे हैं.

3- श्याम प्रसाद

Source: yourstory

BSNL के पूर्व कर्मी श्याम प्रसाद दिल्ली के फ़ुटपाथों पर छोटे बच्चों को पढ़ाने का नेक काम कर रहे हैं. श्याम प्रसाद एक बार मंदिर जा रहे थे तभी कुछ बच्चे उन्हें भीख मांगते नज़र आये. बच्चों का भीख मांगना उन्हें अच्छा नहीं लगा तो उन्होंने उन बच्चों को फ़्री में पढ़ाने का निर्णय कर लिया.

4- नारायण स्वामी

Source: thebetterindia

नारायण स्वामी जब युवा थे वो MBBS करना चाहते थे, लेकिन उस समय उन्हें आर्थिक तंगी से गुजरना पड़ा. जिस कारण वो अपने सपने को पूरा नहीं कर सके. इसके बाद उन्होंने अपने हिस्से की ज़मीन बेचकर साल 1990 में 5 छात्रों के साथ एक स्कूल की शुरुआत की थी. आज उनके इस स्कूल में कुल 300 छात्र और 12 टीचर हैं.

5- हैमंती सेन

Source: thebetterindia

22 साल की हैमंती ने मुंबई के कांदिवली स्टेशन के एक स्काई वॉक को ही स्कूल में तब्दील कर दिया है, जहां वो भीख मांगने वालों के बच्चों को फ़्री में पढ़ाती हैं. हैमंती ने साल 2018 में इस इलाके के ग़रीब बच्चों को पढ़ने का ज़िम्मा उठाया था.

6- एस. अमुधा शांति

Source: timesofindia

अमुधा शांति ने साल 2005 में मदुरई में 'Thiyagam Women's Trust' की स्थापना की थी. इस ट्रस्ट के माध्यम से वो ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को फ़्री में शिक्षा दे रही हैं.

7- नीतू सिंह

Source: thebetterindia

दिल्ली की नीतू सिंह भी एक समय में भीख मांगकर अपना गुजर बसर किया करती थीं. आज वो स्लम में रह रहे 30 ग़रीब बच्चों की ज़िंदगी बदलने का नेक काम कर रही हैं. नीतू अब ख़ुद बीएड कर चुकी हैं.

8- उपलब्धि मिशा चंदोला

Source: yourstory

उत्तराखंड की रहने वाली उपलब्धि ने उत्तराखंड में 5 से लेकर 50 साल की महिलाओं को शिक्षित करने का बीड़ा उठाया है. 29 साल की उपलब्धि 'Teach Girls' के ज़रिये 80 बच्चों को शिक्षित करने का कार्य कर रही हैं.

9- मधु कुलश्रेष्ठ

Source: thelogicalindian

आगरा की रहने वाली मधु कुलश्रेष्ठ Underprivileged बच्चों को शिक्षा के माध्यम से नयीं ज़िंदगी देने का कार्य कर रही हैं. मधु ने अपना ये सफ़र 2 बच्चों से शुरू किया था. आज वो LKG से क्लास VII तक के 80 बच्चों को पढ़ा रही हैं.

10- रणजीत सिंह

Source: theirworld

मध्यप्रदेश के गौ खेड़ा गांव के रहने वाले रणजीत और उनकी छोटी सी टीम गांव के बच्चों को एडवांस स्टडी दिला रहे हैं. रणजीत गांव के बच्चों को वीकेंड क्लासेज़ देते हैं. 20 छात्रों से शुरू हुआ ये सफ़र आज 60 छात्रों तक पहुँच गया है.

11- अनुपम कुमारी

Source: ft.com

पूर्वी दिल्ली के 'मुल्ला कॉलोनी' की अनुपम कुमारी अपनी कमियों से जूझते हुए कूड़ा बीनने और मैला ढोने वालों को शिक्षित करने का काम कर रही हैं. अनुपम कई एनजीओ के ज़रिये इन लोगों की मदद कर रही हैं.

12- अदिति प्रसाद

Source: thenewsminute

तमिलनाडु की अदिति बच्चों को एक कदम आगे की ओर ले जा रही रही हैं. अदिति 'Indian girls who can code' के ज़रिये लड़कियों को Coding और Robotics के बारे में जानकारी दे रही हैं. पिछले 10 सालों में वो 20 हज़ार बच्चों को इससे जोड़ चुके हैं.

13- सिमरन प्रीत कौर

Source: womensweb

दिल्ली की रहने वाली सिमरन 'Pins and Needles' के ज़रिये ने सिर्फ़ ग़रीब बच्चों की बल्कि उनके बेरोज़गार माता-पिता की भी मदद कर रही हैं. सिमरन ग़रीब बच्चों को पढ़ना और उन्हें कई तरह की ट्रेनिंग देकर रोजगार के योग्य बनाने का काम कर रही हैं.

इन सभी लोगों की इस नेक कोशिश को हमारा सलाम.