रात को सुकून भरी नींद लेकर सुबह तरोताज़ा महसूस करना भला किसे नहीं पसंद. मगर क्या आपने सोचा है कि लोग वहां कैसे सोते होंगे जहां दिन-रात का कोई कांसेप्ट ही नहीं है? जी हां, आपने सही समझा, यहां बात हो रही है अंतरिक्ष में सोने की.

Source: GeekWire

पृथ्वी की कक्षा में चक्कर लगाते अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (ISS) में अंतरिक्ष यात्री कई महीने लंबे मिशन पर जाते हैं. यहां उनका सामना होता है ज़ीरो-ग्रेविटी से. साधारण शब्दों में कहें तो कोई भी चीज़ नीचे की तरफ़ नहीं गिरती. सब चीज़ हवा में तैरती रहती है.

क्या आपने कभी सोचा है कि ऐसे हालात में वो कैसे सो पाते हैं? इसी सवाल का जवाब है इस वीडियो में: