पढ़ने-लिखने में होशियार होने के बावजूद हमारे देश में बहुत से बच्चे अपना सपना और पढ़ाई दोनों छोड़ देते हैं. कारण है ग़रीबी. ऐसे बच्चों की मदद की जाए तो वो आगे चल कर न सिर्फ़ अपना, बल्कि दूसरों का भी भविष्य संवार सकते हैं. ऐसे ही एक ग़रीब बच्चे की मदद कर रहे हैं इंदौर के एक पुलिस ऑफ़िसर. वो अपनी ड्यूटी के बाद रोज़ाना एक बच्चे को ट्यूशन पढ़ाने जाते हैं.

इस नेक काम को करने वाले शख़्स का नाम है विनोद दीक्षित. ये मध्य प्रदेश के इंदौर ज़िले के पलासिया थाने में एस.एच.ओ. के पद पर कार्यरत हैं. जब पूरे देश में कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन हुआ था, तब उन्हें इलाके की गस्त के दौरान एक बच्चा मिला.

Source: twitter

इस बच्चे का नाम राज है जो जिसके माता पिता ग़रीब हैं. इसलिए वो उसे ट्यूशन पढ़ाने में असमर्थ हैं. पेट्रोलिंग के दौरान जब वो विनोद जी से मिला तो उसने उनसे कहा कि वो भी विनोद जी के जैसे ही पुलिसवाला बनना चाहता है.

इसके बाद विनोद जी ने कहा कि इसके लिए उसे बहुत पढ़ाई और शारीरिक रूप से फ़िट होना होगा. राज ने उनसे कहा वो ख़ूब पढ़ेगा अगर वो उन्हें पढ़ाएंगे. उसने अपने घर की आर्थिक स्थिति के बारे में भी उन्हें बताया.

Source: twitter

बच्चे का पढ़ने का जज़्बा देख विनोद जी उसे पढ़ाने को तैयार हो गए. अब वो रोज़ाना अपनी ड्यूटी करने के बाद राज को पढ़ाने उसके घर जाते हैं. वो राज को इंग्लिश और मैथ्स की क्लास देते हैं.   

राज रोज़ाना उनसे ट्यूशन पढ़ता है और होमवर्क भी करता है. इस बारे में बात करते हुए राज ने कहा- 'मैं अपने अंकल द्वारा पढ़ाए जाने से बहुत ख़ुश हूं. मैं भी उनकी तरह पुलिस वाला बनना चाहता हूं. इसलिए मैं उनसे ट्यूशन पढ़ रहा हूं.'

इंटरनेट पर विनोद की स्टोरी वायरल हो रही है. लोग इनकी तारीफ़ करते नहीं थक रहे हैं. आप भी देखिए:

अपनी ड्यूटी से इतर इस बच्चे की मदद करने वाले विनोद दीक्षित जी को हमारा सलाम.

Life से जुड़े दूसरे आर्टिकल पढ़ें ScoopWhoop हिंदी पर.